अब शनिवार कों भी रहेंगे bank बंद? जानिए संसद में राज्य मंत्री में इस पर क्या कहा?

Anjali Tiwari

Updated on:

Bank

Bank news:सरकारी और प्राइवेट बैंको में हर सप्ताह 5 दिन काम के प्रस्ताव की मांग कई दिनों से की जा रही है. अंतिम निर्णय वित्त मंत्रालय(Ministry of Finance) कों करना है इसीबीच मंगलवार कों केंद्रीय वित्त मंत्रालय ने संसद में इस बात की जानकारी दी कि संसद में एक प्रस्ताव पेश किया गया है.वित्त राज्य मंत्री भागवत कराड ने जानकारी देते हुए बताया कि संसद में एक प्रस्ताव पेश किया है जिसमे यह मांग की गयी है कि सभी बैंको में सप्ताह के हर शनिवार और रविवार अवकाश घोषित किया जाये.जिसका साफ मतलब है कि अगर यह प्रस्ताव वित्त मंत्रालय द्वारा पास कर दिया गया यों हफ्ते में बैंक सिर्फ 5 दिन ही खुलेंगे.

वित्त राज्य मंत्री ने क्या कहा? (Bank)

मंगलवार 5 दिसंबर कों संसद में वित्तराज्य मंत्री भागवत कराड ने यह जानकारी दी कि IBA(indian Bank’s Accociation) की ओर हर शनिवार कों बैंको में अवकाश करने का प्रस्ताव मिला है. दरअसल बैंक यूनियन और IBA के बीच इस मुद्दे पर कई बार वार्तालाप हो चूका है. अब वित्तमंत्रालय इसपर अंतिम निर्यण सुनाएगा. वित्तराज्य मंत्री ने यह बताया कि IBA के ओर से यह प्रस्ताव प्राप्त हुआ है. लेकिन उन्होंने यह जानकारी नहीं दी कि यह नियम कब लागू होगा? IBA की मांग स्वीकार की गयी या नहीं? यह माना जा रहा है कि अगर यह प्रस्ताव मान लिया गया तो काम करने के घंटो में भी इजाफा किया जा सकता है.

Bank

शनिवार बैंक बंद हुए तो बढ़ेंगे काम के घंटे (Bank)

एक रिपोर्ट में यह बात जाहिर की गयी है की अगर कर्मचारियों कों शनिवार का अवकाश मिलता है तो काम करने के घंटो कों बढ़ाया जा सकता है. यह नियम लागू होने के बाद संभवना है कि कर्मचारियों कों 40 मिनट अधिक काम करना पड़ सकता है. अनुमान के तहत सुबह 09:45 से शाम 05:30 बजे तक बैंक खुला रहेगा.

सेकंड और फोर्थ शनिवार कों बंद (Bank)

अभी तक 2015 वाला नियम बैंको में लागू है.पुराने नियम के अनुसार सप्ताह में दूसरे और चौथे शनिवार कों बैंक रहता है. इस नियम के बाद से ही सरकारी और प्राइवेट बैंक के कर्मचारियों कों 2 शनिवार कों अवकाश मिलता है. इसे अनिवार्य अवकाश माना जाता है और सभी प्राइवेट और सरकारी बैंको में लागू है.

Bank

लोकसभा चुनाव से पहले आ सकता है फैसला

2024 में भारत में लोकसभा का चुनाव होने वाला है माना जा रहा है कि चुनाव से ठीक पहले वित्त मंत्रालय देशभर के लाखों बैंक कर्मचारियों कों यह तोहफा दें सकता है. वेतन में 15-20 फिसदी की वृद्धि और सप्ताह में सिर्फ 5 दिन काम के मुद्दे कों बैंक यूनियन और आईबीए के बीच बातचीत फाइनल होने के बाद वित्त मंत्रालय भेजा जायेगा वहीं से इस मुद्दे पर अंतिम निर्णय आएगा. हालांकि बैंक यूनियन और कर्मचारी आश्वस्त है कि फैसला उनके ही हक़ में होगा.

ये भी पढ़ें:Vivo ने निकाल दिया इतनी कम कीमत के साथ 5g फोन, कैमरा और बैटरी में छोड़ता है iPhone को भी पीछे