धाकड़ बहनों का भाई भी धाकड़ : ‘दंगल’ में नहीं था, पर फिर भी मचाया दंगल !

रिपोर्ट : तारिणी मोदी

अहमदाबाद, 25 नवंबर, 2019 (युवाPRESS)। “तन्ने चारो खाने चित्त कर देगी, तेरे पुर्जे फिट कर देगी, डट कर देगी तेरे दाँव से बढ़ के, पेंच पलट कर देगी, चित्त कर देगी, ऐसी धाकड़ है धाकड़ है, ऐसी धाकड़ है, ऐसी धाकड़ है धाकड़ है, ऐसी धाकड़ है…’ दंगल फिल्म का ये गाना सुनते ही चंडीगढ़ की गीता और बबीता की पहलवानी के दाँव-पेंच और उनका संघर्ष याद आता है, जिन्होंने सभी बाधाओं को दूर कर अपने पिता महावीर सिंह फोगाट के सपने को पूरा किया था। ‘दंगल’ फिल्म में चार बहनों गीता, बबीता, रितु और संगीता और उनके पिता महावीर सिंह फोगाट के संघर्ष की कहानी को दर्शाया गया था, परंतु उनके परिवार के एक और सदस्य का उल्लेख नहीं किया गया था। वह पात्र है इन बहनों का सबसे छोटा भाई दुष्यंत फोगाट। वास्तव में दुष्यंत फोगाट का जन्म 2003 में तब हुआ था, जब गीता और बबीता एक फेमस पहलवानों की सूची में अपना नाम दर्ज करा चुकीं थीं, जिस कारण उनके भाई का उनके निजी जीवन में कुछ विशष योगदान को न देखते हुए ‘दंगल’ फिल्म में भी दुष्यंत को शामिल नहीं किया गया था। यद्यपि फिल्म में उनके एक चचेरे भाई राहुल फोगाट को स्थान अवश्य दिया गया था, क्यों गीता और बबीता के पहलवानी करियर में राहुल का बहुत महत्वपूर्ण योगदान रहा है।

इस बीच जब बबीता फोगाट ने अचानक दुष्यंग फोगाट की गोल्ड मेडल के साथ तसवीर शेयर की, तो लोग दंग रह गए कि दुष्यंत कौन है ? वैसे बबीता ने ट्वीट के साथ यह भी स्पष्ट किया कि दुष्यंत फोगाट भी फोगाट परिवार का एक होनहार पहलवान है। 13 वर्षीय दुष्यंत भिवानी के बलाली गाँव के झोझूकलां में आर्य सीनियर सेकेंडरी स्कूल में पढ़ाई करते हैं। फोगाट परिवार के इस उभरते पहलवान ने हाल ही में दिल्ली में होने वाले स्कूल नैशनल गेम्ज़ में 80 kg भार वर्ग में गोल्ड मेडल जीत कर अपने परिवार की परम्परा का कायम रखा है। दुष्यंत फोगाट की जानकारी तब सामने आई, जब उनकी बड़ी बहन बबीता फोगाट ने 23 नवंबर, 2019 को एक ट्वीट कर अपने भाई को गोल्ड मेडल जीतने की बधाई दी।

दुष्यंत ने बताया कि वे सुबह 4 बजे उठ जाते हैं और तैयार होकर 4.30 बजे तक घर में बने प्रैक्टिस हॉल में पहुंच जाते हैं। यहां 7 बजे तक रेसलिंग की प्रैक्टिस करते हैं। इसके बाद शाम को भी 4.30 बजे से 6.30 बजे तक प्रैक्टिस करते हैं। दुष्यंत गांव में होने वाले दंगल में हिस्सा लेते हैं। दुष्यंत का कहना है कि वह अपने पिता और बहनों से प्रेरणा लेकर आगे बढ़ना चाहते हैं।दुष्यंत के पिता महावीर सिंह फोगाट स्वंय एक भारतीय शौकिया पहलवान एवं वरिष्ठ ओलम्पिक कोच रहे चुके हैं। भारत सरकार ने उन्हें द्रोणाचार्य पुरस्कार से भी सम्मानित किया है। महावीर फोगट ने अपनी चारों बेटियों साथ-साथ अपने छोटे भाई की दो बेटियों विनेश और प्रियंका को भी रेसलिंग सिखाई है। फोगाट परिवार की सभी बेटियाँ ने राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर गोल्ड मेडल जीत कर भारत का नाम उज्जवल किया है, अपने इन्हीं बहनों को आदर्श मानने वाले दुष्यंत ने भी पहलवानी को ही अपने करियर के रूप में चुना है।

You may have missed