हो जाइए तैयार : नुक़्स निकालना बुरी आदत, पर GOOLE नवाज़ेगा 10 करोड़ के इनाम से

रिपोर्ट : तारिणी मोदी

अहमदाबाद, 22 नवंबर, 2019 (युवाPRESS)। साधारणत: अकर्मण्यता के शिकार लोग कर्मवीरों यानी काम करने वालों के काम में नुक़्स, ग़लती, भूल, त्रुटि खोज-खोज कर निकालने में लगे रहते हैं। भारतीय सनातन धर्म संस्कृति में तो यहाँ तक कहा गया कि किसी पापी से पापी और दुराचारी से दुराचारी व्यक्ति को भी उसके दुर्गुणों से इस तरह मुक्त करने का प्रयास किया जाना चाहिए कि उसे ग्लानि, अपराध बोध या गिल्टी फील न हो, परंतु आज की दुनिया में हर इंसान अपनी रेखा बड़ी करने का प्रयास करने की बजाए दूसरे की रेखा मिटा कर छोटी करने की चेष्टा में लगा रहता है और उसकी इस चेष्टा में नुक़्स निकालना, नुक़्ता-चीनी करना, भूल-त्रुटि खोजना आदि बहुत काम आते हैं। साधारण भाषा में ऐसा करना बुरी आदत माना जाता है, परंतु दुनिया का सबसे बड़ा सर्च इंजन GOOGLE आपको इस बुरी आदत के बदले नाराज़ नहीं होगा, अपितु 10 करोड़ रुपए के इनाम से नवाज़ेगा।

जी हाँ ! बिल्कुल सही पढ़ा आपने। वैसे भी विश्व का सबसे बड़ा SEARCH यानी Google लगातार अपने यू़ज़र्स के लिए कुछ नया लेकर आता है। इस बार भी गूगल ने कुछ ऐसा ही किया है। गूगल ने हाल ही में लॉन्च किये गये अपने गूगल पिक्सल स्मार्टफोन्स (Google Pixel Smartphones) को हैक करने वाले को 1.5 मिलियन डॉलर (10 करोड़ 76 लाख रुपये) का इनाम में देने की घोषणा की है। गूगल ने अपने ब्लॉग पोस्ट में लिखा है कि वह Pixel डिवाइस में मौजूद Titan M चिप की सिक्टॉरिटी को तोड़ने वाले यूज़र या रिसर्चर को 1 मिलियन डॉलर देने को तैयार है। इसके अतिरिक्ति Google ने कंपनी ने ऐंड्रॉयड के कुछ विशेष प्रिव्यू वर्ज़न के लिए भी एक स्पेशल प्रोग्राम लॉन्च किया है, जिसके तहत गड़बड़ी ढूढ़ने वाले को भी 50 प्रतिशत अमाउंट बोनस के तौर पर दी जाएगी। टाइटन M चिप विशेष तौर पर Pixel डिवाइसेज़ के लिए Introduce किया गया था। यह Pixel डिवाइस को बेस्ट सिक्यॉरिटी देता है, जिससे डिवाइस और ऑपरेटिंग सिस्टम में मौजूद कॉन्फिडेंशियल डेटा को पूरी तरह सुरक्षित जाता है। 2015 में भी Google ने ऐंड्रॉयड के लिए बग बाउंटी प्रोग्राम की शुरुआत की थी, जिसके तहते उसने 1800 रिपोर्टरों को लगभग 4 वर्षों में 4 मिलियन डॉलर यानी 28,71,50,000 रुपये के पुरस्कार दिए थे। टाइटन M को सभी डिवाइसेज के बीच बिल्ट-इन सिक्यॉरिटी देने के लिए सबसे ज्यादा रेटिंग दी गई है। Google का कहना है, ‘हमने डेडिकेटेड इनाम इसलिए रखा है, ताकि रिसर्चर्स इसमें ख़ामी खोजें और हम उसे ठीक कर यूजर्स को बेस्ट सर्विस के साथ ही बेहतर सिक्यॉरिटी दे सकें।’

गूगल ने 20 अक्टूबर, 2016 को अपना पहला Pixel स्मार्टफोन मार्केट में लॉन्च किया था। यद्पि इसकी घोषणा Google ने 4 अक्टूबर, 2016 को Made By Google ईवेंट के दौरान ही कर दी थी। Google ने Pixel Smartphone की फर्स्ट वर्ज़न के अंतर्गत Pixel और Pixel XL नाम के 2 फोन लॉन्च किये थे। इन दोनों फोन्स में पहला बार Operating System का Latest Android Version Android 7.1 Nougat प्रयोग किया गया। इन दोनों में ही Pixel Smartphones में Rear Camera का प्रयोग किया गया है, जिसमें 12.3 MP Front camera और 8 MP back कैमरा के अतिरिक्त LED Flash Light की भी सुविधा है, जो अंधेरे में भी स्वच्छ और अच्छी क्वॉलिटी की Pictures लेने में सहायता करता है। DXOMark एक company है, जो Camera की Quality का Measurement करता है। DXOMark ने Google के दोनों phones को 89 का Score दिया है, ये Score नंबर 1 की श्रेणी में आते हैं अर्थात Google PIxel पहला Smartphone है, जिसको 89 का Score मिला है। इसलिए Pixels phones की Camera Quality बाकी सभी Smartphones से बेहतर है। Google Pixel और Pixel XL Phones में Data को रखने के लेए दो प्रकार के Storage Capacity यानी एक 32 GB और दूसरा 128 GB उपलब्ध है। इस Phone मे आपको Unlimited Photos और Videos को Cloud में Store करने की Facility भी मिलती है।

उल्लेखनीय है कि Google एक Multinational Company है और इसके सारे Products जैसे Gmail, My Drive, Google Chrome और Social Networking Sites जैसे Google+, Spaces और Hangouts हैं। Google ने Google Allo Messaging App और Google Duo Video Calling App भी Android और iOS Smartphones के लिए Launch किया हुआ है। Android Operating System Software भी Google ने ही बनाया है, जिसका प्रयोग Mobile Devices और Android Smartphone में किया जाता है।

You may have missed