ISL 2019-20 : क्रिकेट के दीवाने भारत में लोकप्रिय हो पाएगा फुटबॉल ?

रिपोर्ट : तारिणी मोदी

अहमदाबाद, 14 अक्टूबर, 2019 (युवाPRESS)। 2007 में जब क्रिकेट लीग की शुरुआत की गई जो किसी ने नहीं सोचा होगा कि भारत में खेल मनोरंजने के साथ-साथ एक व्यापक व्यापार बन कर सामने आएगा। जिस प्रकार खुली अर्थव्यवस्था के इस दौर में शिक्षा और चिकित्सा का व्यवसायीकरण हुआ उसी प्रकार खेल जगत में भी मुनाफे की छलांग लगाना शुरू कर दिया है। 2008 में खेल व्यापार ने 1139 करोड़ का कारोबार किया था, जो 2011 में 4 गुना बढ़कर 4696 करोड़ पर पहुँच गया यानी मात्र 3 वर्षों में खेल व्यापार ने भारत की आर्थिक मजबूती में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। खेल व्यापार की शुरुआत क्रिकेट आईपीएल से हुई, परंतु आज हॉकी, फुटबॉल, कबड्‌डी, टेनिस, बैडमिंटन और कुश्ती ने भी व्यवसाय का रूप ले लिया है। इसी दौड़ में शामिल फुटबॉल भी भारतीय खेल बाज़ार में अपना कदम रख चुकी है। इसकी शुरुआत 2014 में हुए इंडियन सुपर लीग (Indian Super League) यानी ISL से हुई थी। इसकी स्थापना 21 अक्टूबर, 2013 को एशियाई फुटबॉल संघ (Asian Football Confederation) यानी AFC ने की थी। ये एक भारतीय व्यवसायिक फुटबॉल लीग है, जिसमें पूरे भारत से 16 टीमें खेलती हैं। इसका गठन भारत में फुटबॉल को प्रोत्साहित करने व भारतीय फुटबॉल को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर लाने के लिए किया गया था। इंडियन सुपर लीग लीग ट्वेन्टी-ट्वेन्टी क्रिकेट, इंडियन प्रीमियर लीग व मेजर लीग सॉकर के नियमों के अनुरूप बनाई गई है। इस लीग में 2 बार कोलकाता और 2 बार चेन्नई ने लीग का खिताब अपने नाम किया है। 2017 में 2 नई टीम बेंगलुरु और जमशेदपुर लीग में शामिल हुई हैं।

फुटबॉल दुनिया का सबसे लोकप्रिय खेल

फुटबॉल दुनिया का सबसे लोकप्रिय खेल है। 410 ग्राम भार और 70 सेंटीमीटर व्यास की गेंद के दीवानों की संख्या का ठीक-ठीक अंदाजा लगाना असंभव है, परंतु एक बात दावे से कही जा सकती है कि लोकप्रियता में कोई और खेल फुटबॉल के आगे नहीं टिक सकता। यह खेल इतना लोकप्रिय है कि मैच देखने के लिए सेना युद्ध रोक देती है और हार पर दो देश भिड़ जाते हैं। वर्ष 2001 में फेडरेशन इंटरनेशनल दि फुटबॉल एसोसिएशन (Federation Internationale Football Association) यानी FIFA ने एक सर्वे कराया, जिसमें विश्व के 200 देशों में 24 करोड़ लोग फुटबॉल खेलते थे। टीवी पर इसके दर्शकों की संख्या सर्वाधिक है यही कारण था कि 2013 में फीफा की आमदनी 13 अरब डॉलर (लगभग 7800 अरब रुपए) थी, वहीं भारतीय फुटबॉल टीम विश्व रैंकिंग में 103वें स्थान पर था। इसके बावजूद भारतीय खेल जगत में फुटबॉल लीग उभर कर सामने आ रहा है। इसमें जीत-हार का अंदाजा लगाने के लिए सैकड़ों संस्था और संगठन जुटे रहते हैं। प्रतियोगिता का पहला सीज़न 12 अक्टूबर, 2014 को 8 टीमों के साथ शुरू हुआ था। इसका पहला मैच 12 अक्टूबर, 2014 को एटल्टिको डे कोलकाता और मुंबई सिटी के बीच कोलकाता के साल्ट लेक स्टेडियम में खेला गया जिसमें कोलकाता ने मुंबई को 3-0 से हराया था। इस लीग की चैंपियन टीम भी कोलकाता रही थी, जिसने केरल ब्लास्टर्स को 20 दिसंबर को खेले गए फाइलन मैच नवी मुंबई में डी वाई पाटिल स्टेडियम (D Y Patil Stadium) में हुआ जिसमें कोलकाता ने केरल को 1-0 से हराया था।

20 अक्टूबर, 2019 को इंडियन सुपर लीग-2019-20 की शुरुआत

20 अक्टूबर, 2019 को इंडियन सुपर लीग-2019-20 शुरु होने वाला है, जिसका पहला मैच 20 अक्टूबर, 2019 को केरला बलास्टर और एटीके के बीच दिल्ली के जवाहर लाल स्टेडियम में खेला जाएगा। अब ये देखना दिलचस्प होगा कि 2018 की चैंपियन टीम चेन्नईयन एफ.सी इस बार क्या कमाल करती है। 2018 लीग में उसने 13 मैच जीत कर सेमीफाईनल में पहुँची बेंगलुरु को हराकर चैंपियन ट्रॉफी पर कब्जा किया था जबकि वह सिर्फ 9 मैच जीत कर सेमी फाइनल में पहुँची थी। 2018 इंडियन सुपर लीग फाइनल बेंगलुरू और चेन्नईयन के बीच एक फुटबॉल मैच था, जो 17 मार्च 2018 को बैंगलोर के श्री कांतेरावा स्टेडियम में खेला गया था। यह मैच 2017-18 इंडियन सुपर लीग सीज़न का समापन था, जो भारत में शीर्ष पेशेवर फुटबॉल लीग के चौथे सीजन का था। चेन्नईयन ने यह मैच जीता, जिसमें बेंगलुरु को 3-2 से हराया। मैच के हीरो माईलसन अल्वेस ने चेन्नईयन के लिए ब्रेस बनाया, जबकि राफेल अगस्तो ने अपना तीसरा गोल किया। बेंगलुरु के सुनील छेत्री ने मूल रूप से अपने नौवें मिनट के गोल के साथ और मिकू ने दूसरे हाफ स्टॉपेज-टाइम में अपने एक गोल के साथ चेन्नईयन के जीत का स्वाद चखा दिया। चेन्नईयन नियमित सत्र के दौरान दूसरे स्थान पर रहने के बाद फाइनल के लिए क्वालीफाई करने में सफल रहे। उन्होंने तब सेमीफाइनल में गोवा को दो पैरों से 4-2 से हराया था। बेंगलुरू ने नियमित सीज़न तालिका में शीर्ष पर रहने के बाद फाइनल के लिए क्वालीफाई किया। उन्होंने तब सेमीफाइनल के मुकाबले में पुणे सिटी को 3-1 से हराया था। फाइनल से पहले, चेन्नईयिन और बेंगलुरु ने सीज़न के दौरान दो बार एक-दूसरे के साथ खेला, दोनों पक्षों ने एक-दूसरे के खिलाफ एक-एक मैच जीतना था। इंडियन सुपर लीग में बेंगलुरु का यह पहला सीजन था और फाइनल में उनकी पहली उपस्थिति भी थी। इस बीच चेन्नईयिन ने इंडियन सुपर लीग के फाइनल में अपनी दूसरी उपस्थिति दर्ज की। सुनील छेत्री ने इंडियन सुपर लीग के फाइनल में 8 मिनट 5 सेकंड में सबसे तेज गोल किया। मैल्सन अल्वेस को दो गोल करने के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया था।

चेन्नईयिन एफ.सी. की स्थापना

चेन्नईयिन एफ.सी. चेन्नई-तमिलनाडु में स्थित एक पेशेवर फुटबॉल क्लब है। चेन्नईयिन एफसी एआईएफएफ से लाइसेंस प्राप्त टीम है आईएसएल में भाग लेती है। चेन्नईयिन एफसी ने इंडियन सुपर लीग 2018 में शानदार प्रदर्शन करते हुए लीग जीता था। इससे पहले भी चेन्नईयिन 2015 के सीज़न में लीग की विजाता टीम रह चुकी है। इस टीम की फ्रैंचाइज़ी वीता दानी, बॉलीवुड अभिनेता अभिषेक बच्चन और भारतीय क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी के पास है। इसके प्रबंधक पूर्व अंग्रेजी मिडफील्डर जॉन ग्रेगोरी हैं। टीम का नाम चेन्नईयिन एफसी का अर्थ है तमिल में चेन्नई का फुटबॉल क्लब, जहाँ ‘यिन’ प्रत्यय अंग्रेजी में एक योग्य व्यक्ति के समान है। टीम का लोगो धृति बोम्मई है, जो नकारात्मकता को दूर करने और तमिल संस्कृति में सकारात्मकता को संरक्षित करने का प्रतिनिधित्व करता है। आईएसएल में आने के दो सीजन बाद ही चेन्नइयिन एफसी ने अखिल भारतीय फुटबाल महासंघ (AIFF) अकादमी के पांच खिलाडिय़ों के साथ करार किया और उन्हें प्रशिक्षण के लिए एफसी मेट्स भेजा। यह पूरा ट्रिप चेन्नइयन एफसी द्वारा स्पांसर्ड था। तीन साल बाद इन पांच खिलाडिय़ों ने जबरदस्त विकास किया और इस तरह चेन्नईयिन एफसी का यह निवेश रंग लाया। यह पांच टैलेंट -अनिरुद्ध थापा, जेरी लालरिनजुआला, बोरिंगडाओ बोडो, बेदाश्वर सिंह और प्रोसेनजीत चक्रवर्ती थे। ये सभी अब रेगुरल प्रोफेशनल हैं और इनमें से दो-थापा और जेरी चेन्नइयन एफसी की मुख्य टीम का अभिन्न हिस्सा हैं। सितंबर में चेन्नइयिन एफसी ने 3 अन्य एआईएफएफ युवा प्रतिभाओं को मौका दिया है, जिसमें रहीम अली, अभिजीत सरकार और दीपक टांगरी शामिल हैं।

You may have missed