चूर-चूर हुआ नायडू का ‘अहंकार’ : मोदी विरोध की अंधी राजनीति में CM की कुर्सी भी गँवाई, आंध्र प्रदेश में TDP सफाये की ओर, YSR कांग्रेस-जगन का जलवा

अहमदाबाद, 23 मई, 2019। लोकसभा चुनाव 2019 के परिणाम मोदी विरोध का एकमात्र एजेंडा लेकर चल रहे नेताओं में अत्यंत सक्रिय नेता चंद्रबाबू नायडू के अहंकार को करारी चोट पहुँचा रहे हैं। चुनाव की घोषणा से पहले, घोषणा के बाद, प्रचार अभियान से लेकर एग्ज़िट पोल के निष्कर्षों के आने तक मोदी विरोध और इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (EVM) विरोधी टोली के सरदार बने घूम रहे नायडू को अपने गढ़ आंध्र प्रदेश की जनता ने करार जवाब दिया है।

सात चरणों में पड़े वोटों की गिनती से अब तक प्राप्त हुए रुझानों के अनुसार आंध्र प्रदेश में मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू और उनकी पार्टी तेलुगू देशम् पार्टी (तेदेपा-TDP) लोकसभा की सभी 25 सीटों पर पीछे चल रही है। आंध्र प्रदेश में नायडू और टीडीपी का खाता खुलने नहीं जा रहा है। मोदी विरोधी धुरि के प्रतीक बन कर उभरने की कोशिश करने वाले नायडू पिछले चार दिनों से हैदराबाद से दिल्ली लेकर जगह-जगह घूम कर केन्द्र में मोदी को रोकने के लिए राहुल गांधी, अखिलेश यादव, मायावती, ग़ुलाम नबी आज़ाद, ममता बैनर्जी से मिल रहे थे, वे चंद्रबाबू नायडू अपना ही घर नहीं संभाल सके और युवजन श्रमिक रायथू कांग्रेस पार्टी (YSRCP) यानी वायएसआर कांग्रेस तथा उसके मुखिया जगन मोहन रेड्डी ने सेंध लगा दी।

आपको बता दें कि आंध्र प्रदेश में लोकसभा चुनाव के साथ ही विधानसभा चुनाव भी हुए हैं और जनादेश जो आ रहा है, उससे स्पष्ट है कि विधानसभा में टीडीपी की हार होनी निश्चित है और नई सरकार वायएसआरसी की ही बनेगी। मोदी विरोध की अंधी राजनीति में नायडू का अहंकार चूर-चूर हो गया है और उन्हें मुख्यमंत्री की कुर्सी भी गँवानी पड़ रही है। रुझानों के मुताबिक आंध्र प्रदेश विधानसभा की 142 सीटों में से जगन मोहन रेड्डी की पार्टी वायएसआर कांग्रेस 137 सीटों पर आगे चल रही है, जबकि टीडीपी केवल 24 सीटों पर आगे चल रही है। आंध्र प्रदेश में वायएसआर कांग्रेस बहुमत की ओर बढ़ रही है।

अब तक प्राप्त रुझानों के मुताबिक आंध्र प्रदेश की जनता ने व्यक्तिगत विरोध की राजनीति कर रहे नायडू की पार्टी टीडीपी को करारी शिकस्त दी है और उस जगन मोहन रेड्डी और वायएसआरसी को जिताया है, जो केन्द्रीय स्तर पर चल रही मोदी विरोधी राजनीति का कभी हिस्सा नहीं बने। आंध्र प्रदेश की जनता ने मोदी विरोध की राजनीति को नकार दिया और टीडीपी-नायडू के विकल्प के रूप में उपलब्ध वायएसआरसी और जगन मोहन रेड्डी पर मुहर लगाई। आंध्र प्रदेश की जनता ने पूरी तरह परिवर्तन पर मुहर लगा कर नायडू को जोरदार झटका दिया है।

Leave a Reply

You may have missed