SC से लेकर EC तक : फ़ैसला पक्ष में, तो अच्छे, अन्यथा ख़तरे में ! ‘चौकीदार’ चोर है, तो IT छापों में मिली करोड़ों की काली कमाई का ‘चौकीदार’ कौन है ?

कांग्रेस सहित पूरी मोदी विरोधी टोली लगातार यह आरोप लगा रही है कि देश में नरेन्द्र मोदी की सरकार आने के बाद लोकतंत्र, लोकतांत्रिक एवं संवैधानिक संस्थानों पर संकट पैदा हो गया है। देश का संवैधानिक संस्थान निष्पक्ष ढंग से काम नहीं कर रहा है। ऐसे आरोप लगाने वालों में सबसे आगे रहे हैं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बैनर्जी, बसपा प्रमुख मायावती, मोदी केन्द्रित विरोध का एजेंडा अपना कर चलने वाले देश के चंद लोग। ममता बैनर्जी ने तो दो दिन पहले यहाँ तक कह दिया था कि नरेन्द्र मोदी दोबारा प्रधानमंत्री बने, तो देश में 2024 में लोकसभा चुनाव नहीं होगा, क्योंकि तब तक देश में लोकतंत्र खत्म हो जाएगा और तानाशाही शुरू हो जाएगी।

आज राफेल डील पर सुप्रीम कोर्ट (SC) का जो फैसला आया, उससे राहुल गांधी, मायावती सहित सभी लोगों ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा की चौतरफा घेरा बंदी करने में देर नहीं की। दूसरी तरफ चुनाव आयोग (EC) ने विवेक ओबेरॉय अभिनीत प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर बनी बायोपिक फिल्म की रिलीज़ पर रोक लगाई और साथ ही NAMO टीवी चैनल तथा चुनाव में काले धन के उपयोग को रोकने के उद्देश्य से छापे मार रहे आयकर (IT) विभाग को कार्रवाई से पहले ईसी से पूछने का निर्देश दिया।

आज मोदी विरोधी टोली को एससी और ईसी दोनों ही अच्छे लग रहे होंगे, जबकि ये दोनों ही संवैधानिक संस्थान हैं और कुछ दिनों पहले तक मोदी विरोधी मोर्चे के अनेक नेता एससी, ईसी, केन्द्रीय जाँच ब्यूरो (CBI) आदि पर खतरा मंडरा रहा होने के आरोप लगाते रहे हैं। राफेल डील पर सुप्रीम कोर्ट ने डील के लीक दस्तावेजों को वैध प्रमाण क्या माना, राहुल ने सीधा पीएम मोदी पर वही पुराना हमला बोला, ‘सुप्रीम कोर्ट ने भी मान लिया कि चौकीदार ने चोरी करवाई है।’

अब सवाल यह उठता है कि यदि चौकीदार (प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी) चोर है, तो फिर आईटी विभाग के दिल्ली से लेकर मध्य प्रदेश तक मारे जा रहे छापों में बरामद हो रही करोड़ों की काली कमाई का चौकीदार कौन है ? आईटी विभाग ने जिन लोगों पर शिकंजा कसा है, उनके तार दिग्गज कांग्रेस नेता, सोनिया गांधी के निकटस्थ और पार्टी के कोषाध्यक्ष अहमद पटेल तथा मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ से जुड़े हुए हैं। जिस एसएस मोइन कुरैशी के यहाँ आईटी छापा पड़ा, वह मोइन कुरैशी अहमद का चीफ अकाउंटेंट है। जिस प्रवीण कक्कड़ के घर से करोड़ों रुपए मिले, वे कक्कड़ वरिष्ठ कांग्रेस नेता और CM कमलनाथ के विशेष कार्याधिकारी (OSD) हैं। क्या राहुल गांधी के पास इन सवालों के जवाब हैं ?

Leave a Reply

You may have missed