कश्मीर में बड़ी भूमिका निभा कर पीएम के करीबी बन गये ये अधिकारी

रिपोर्ट : विनीत दुबे

अहमदाबाद, 10 अक्टूबर, 2019 (युवाPRESS)। जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाने वाली टीम में जगह पाने के बाद महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले अधिकारियों को केन्द्र सरकार ने दीवाली के तोहफे के रूप में प्रोन्नति दी है। पीएम नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केन्द्रीय मंत्रिमंडल की नियुक्तियों की समिति ने भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) के 26 अधिकारियों को भारत सरकार के सचिव या समकक्ष ऑफीसरों के रूप में मंजूरी दी है। इनमें जम्मू कश्मीर राज्य के मुख्य सचिव बीवीआर सुब्रह्मण्यम भी शामिल हैं, जिन्हें केन्द्र सरकार के सचिव के रूप में सूचीबद्ध किया गया है।

पहले भी पीएम मोदी के साथ काम कर चुके सुब्रह्मण्यम

केन्द्र सरकार की ओर से जारी एक आदेश में कहा गया है कि पीएम नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केन्द्रीय मंत्रिमंडल की नियुक्तियों की समिति ने भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) के 26 अधिकारियों को भारत सरकार के सचिव या समकक्ष ऑफीसरों के रूप में मंजूरी दी है। इनमें जम्मू कश्मीर राज्य के मुख्य सचिव बीवीआर सुब्रह्मण्यम भी शामिल हैं, जिन्हें केन्द्र सरकार के सचिव के रूप में सूचीबद्ध किया गया है। सुब्रह्मण्यम जम्मू कश्मीर से धारा 370 के उन्मूलन को लेकर पीएम मोदी द्वारा बनाई गई टीम के अहम सदस्यों में शुमार थे। इस प्रकार जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाने वाली टीम में जगह पाने के बाद महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले अधिकारियों को केन्द्र सरकार ने इनाम के रूप में प्रोन्नति दी है। सुब्रह्मण्यम के अलावा दिल्ली के मुख्य सचिव विजय देव और दिल्ली विकास प्राधिकरण (DDA) के उपाध्यक्ष तरुण कपूर भी सचिव के रूप में पदस्थ किये गये हैं। सुब्रह्मण्यम प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) में संयुक्त सचिव के रूप में पीएम मोदी के साथ पहले भी काम कर चुके हैं। वे पीएम मोदी के मिशन कश्मीर टीम के मुख्य सदस्य अधिकारियों में से एक थे। मिशन कश्मीर का पूरा काम केन्द्रीय केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह को सौंपा गया था। वे कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद के साथ मिल कर अपनी कोर टीम के साथ कानून निहितार्थ की समीक्षा कर रहे थे, जिसमें कानून और न्याय सचिव आलोक श्रीवास्तव, अतिरिक्त सचिव कानून (गृह मंत्रालय) आर. एस. वर्मा, अटॉर्नी जनरल के. के. वेणुगोपाल, केन्द्रीय गृह सचिव राजीव गौबा और कश्मीर खंड की उनकी चुनी हुई टीम शामिल थी।

छत्तीसगढ़ कैडर के आईएएस अधिकारी हैं सुब्रह्मण्यम

बीवीआर सुब्रह्मण्यम 1987 बैच के आईएएस अधिकारी हैं। वे एक सीनियर आईएएस अधिकारी हैं और जम्मू कश्मीर के मुख्य सचिव का पदभार सँभालने से पहले वे छत्तीसगढ़ कैडर में थे। पिछले वर्ष जून में केन्द्र सरकार के निर्देश पर छत्तीसगढ़ सरकार ने उन्हें श्रीनगर जाने के लिये रिलीव किया था। उन्हें छत्तीसगढ़ में नक्सलियों को धर दबोचने से लेकर नक्सली विचारधारा को खत्म करने का भी खासा अनुभव है। सुब्रह्मण्यम ने छत्तीसगढ़ में 3 वर्ष तक गृह विभाग की जिम्मेदारी सँभाली थी। छत्तीसगढ़ के गृह सचिव रहे बीवीआर सुब्रह्मण्यम की जम्मू कश्मीर के मुख्य सचिव के रूप में नियुक्ति भी काफी रोचक तरीके से हुई थी। 19 जून की आधी रात को तत्कालीन गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने टेलीफोन पर सुब्रह्मण्यम से बात की थी और उन्हें तुरंत जम्मू कश्मीर जाने का निर्देश दिया था। इस बातचीत के बाद कैबिनेट सेक्रेटरी ने भी रातों रात ही उनका डेपोटेशन ऑर्डर जारी किया था।

You may have missed