EC ने भी मान ली ‘ढाई किलो की बात’ : अजय नहीं, सनी ही कहलाएँगे देओल

अहमदाबाद, 4 जून, 2019 (युवाप्रेस डॉट कॉम)। फिल्म अभिनेता व नवनिर्वाचित सांसद सनी देओल चुनाव आयोग (EC) और भारत सरकार के रिकॉर्ड में भी इसी नाम से दर्ज किए गए हैं। गुरदासपुर से नामांकन पत्र भरते वक्त सनी ने अजय धर्मेन्द्रसिंह देओल नाम लिखा था, परंतु अब भाजपा और सनी दोनों ने ईसी की नवनिर्वाचित सांसदों की सूची देख कर राहत की साँस ली है।

चुनाव आयोग (EC) ने भी फिल्म अभिनेता और पहली बार पंजाब की गुरदासपुर लोकसभा सीट से चुने गये भाजपा सांसद सनी देओल की बात मान ली है। इससे सनी देओल और भाजपा दोनों ने ही राहत की साँस ली है। दरअसल भाजपा प्रत्याशी के रूप में जब सनी देओल ने गुरुदासपुर से नामांकन पत्र भरा था, तो अपने शपथपत्र में फिल्मी नाम सनी देओल के स्थान पर असली नाम अजयसिंह धर्मेंद्र देओल लिखा था। चुनाव प्रचार सनी देओल के नाम से ही हुआ था, परंतु भाजपा को चिंता थी कि इलेक्ट्रोनिंग वोटिंग मशीन (EVM) में कहीं भी भाजपा प्रत्याशी सनी देओल का नाम नहीं होने से उसे नुकसान न हो जाए। हालाँकि सनी देओल की लोकप्रियता ने ऐसा नहीं होने दिया और सनी देओल पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष सुनील जाखड़ को हराकर भाजपा सांसद बन गये।

लोकसभा के 542 सदस्य चुने जाने के बाद चुनाव आयोग ने इन निर्वाचित सांसदों की लिस्ट तैयार की है, जिसमें गुरुदासपुर से निर्वाचित भाजपा सांसद का नाम अजयसिंह धर्मेन्द्र देओल नहीं, बल्कि सनी देओल लिखा है। यह देखकर सनी देओल और भाजपा दोनों को बड़ी राहत मिली है। क्योंकि नामांकन पत्र और हलफनामे में अजयसिंह धर्मेन्द्र देओल लिखने के बाद खुद सनी देओल ने भी ईवीएम में उनका नाम बदलने की माँग की थी। अब चुनाव आयोग द्वारा जारी नोटिफिकेशन में सनी देओल नाम होने से यह सिद्ध हो गया कि ईसी ने सनी देओल की माँग स्वीकार कर ली है और यही कारण है कि उनका नाम अजयसिंह देओल के स्थान पर सनी देओल लिखा है।

दरअसल चुनाव आयोग ने सनी देओल का नाम बदलने के लिये किसी नियम का उल्लंघन नहीं किया है। पंजाब के चुनाव आयुक्त करुणा एस. राजू के अनुसार निर्वाचन संचालन नियम-1961 की नियम संख्या 8(2) के अंतर्गत रिटर्निंग ऑफीसर को नाम बदलने का अधिकार दिया गया है। इसलिये अजयसिंह धर्मेंद्र देओल की माँग पर गुरुदासपुर लोकसभा सीट के रिटर्निंग ऑफीसर ने उम्मीदवारों की फाइनल लिस्ट में उनका नाम बदलकर सनी देओल लिखा है। इसी कारण चुनाव आयोग ने भी 17वीं लोकसभा के निर्वाचित 542 सदस्यों के नोटिफिकेशन में भी यही बदला हुआ नाम यानी सनी देओल लिखा है। पंजाब के चुनाव आयुक्त के अनुसार अजयसिंह धर्मेन्द्र देओल से नाम बदलकर सनी देओल लिखने से किसी को कोई तकनीकी परेशानी नहीं होगी। यह पूरी प्रक्रिया नियमानुसार की गई है।

इससे पहले जब नामांकन पत्र और शपथपत्र में सनी देओल ने अपना असली नाम अजयसिंह धर्मेन्द्र देओल लिखा था और इसी नाम से हस्ताक्षर किये थे, तो सबसे ज्यादा उनकी पार्टी भाजपा को चिंता हुई थी। भाजपा को आशंका थी कि उसने फिल्म अभिनेता सनी देओल को अपना उम्मीदवार बनाया है, परंतु जब मतदाता वोट डालने जाएँगे तो उन्हें भाजपा प्रत्याशी सनी देओल का नाम ईवीएम में देखने को नहीं मिलेगा और सनी देओल के स्थान पर अजयसिंह धर्मेन्द्र देओल लिखा देखकर मतदाता कन्फ्यूज़ न हो जाएँ और भाजपा को वोट देने से न कतरा जाएँ। इस आशंका को भाजपा ने सनी देओल के साथ शेयर किया तो सनी देओल ने गुरुदासपुर लोकसभा सीट के रिटर्निंग अधिकारी के समक्ष नाम बदलने की माँग की थी। इसके बावजूद ईवीएम में सनी का नाम नहीं बदला गया था और उन्हें अजयसिंह धर्मेन्द्र देओल के नाम से ही वोट मिले थे। हालाँकि रिटर्निंग अधिकारी की ओर से निर्वाचित सांसद का पूरा ब्यौरा चुनाव आयोग को दिया गया, उसमें रिटर्निंग अधिकारी ने अपने अधिकार का उपयोग करके अजयसिंह देओल का नाम बदलकर सनी देओल कर दिया। सनी देओल का पासपोर्ट और वोटिंग कार्ड में भी अजयसिंह धर्मेन्द्र देओल ही नाम चलता है। सनी देओल उनका फिल्मी नाम है।

Leave a Reply

You may have missed