…और भारत ने इस तरह जीत लिया WORLD CUP : 25 जून को TEAM INDIA ने रखी भव्य विजय की आधार शिला

विश्लेषण : विनीत दुबे


अहमदाबाद, 25 जून 2019 (युवाप्रेस डॉट कॉम)। ICC CRICKET WORLD CUP 2019 टूर्नामेंट इंग्लैंड में खेली जा रही है और भारत की ‘विराट सेना’ विजय रथ पर सवार क्रिकेट के मैदान में एक के बाद एक टीम को धूल चटाते हुए सेमी फाइनल की रेस में आगे बढ़ रही है। मगर हम बात कर रहे हैं आज के दिन की। आज मंगलवार है और तारीख है 25 जून। यह वही तारीख है जब भारत ने क्रिकेट विश्व कप प्रतियोगिता में पहली बार जीत की इबारत लिखी थी। आज से 36 साल पहले 1983 में भी विश्व कप प्रतियोगिता इंग्लैंड में ही खेली गई थी। 36 साल बाद एक बार फिर इंग्लैंड में टीम इंडिया 1983 के इतिहास को दोहराने की राह पर है।

अब 10 दिन में 4 मैच खेलेगी टीम इंडिया


आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप 2019 में टीम इंडिया टाइटल जीतने की प्रबल दावेदार टीमों में से एक है। प्रतियोगिता में भारतीय टीम का अब तक का प्रदर्शन शानदार रहा है। इस प्रतियोगिता में भारत ने पहला मैच 5 जून को खेला था और पहले ही मैच में दक्षिण अफ्रीका की धुरंधर टीम को धूल चटाकर प्रतियोगिता में अपनी दमदार दावेदारी पेश की थी। अब तक 20 दिन में टीम इंडिया के पाँच मैच हो चुके हैं, जिनमें से चार में उसने शानदार जीत दर्ज की है, जबकि न्यूजीलैंड के साथ होने वाला मैच बारिश के कारण रद्द हो गया था। इसलिये दोनों टीमों को एक-एक अंक दिया गया था। अंकतालिका में भारत 9 अंकों के साथ तीसरे स्थान पर है। भारत ने अभी तक 20 दिन में जहाँ 4 मैच खेले हैं, वहीँ अब उसे अगले 10 दिन में 4 मैच खेलने हैं। इनमें से 27 जून को वेस्ट इंडीज के साथ, 30 जून को इंग्लैंड के साथ, 2 जुलाई को बांग्लादेश के साथ और अंतिम लीग मैच 6 जुलाई को श्रीलंका के साथ खेलना है। यह सभी अत्यंत महत्वपूर्ण मैच हैं। क्योंकि यह सभी टीमें बड़े उलटफेर करने के लिये जानी जाती हैं और भारत को इन टीमों के उलटफेर का अच्छा-खासा अनुभव भी है।

वर्ल्ड कप टूर्नामेंट में उलटफेर करने वाली टीमों से है मुकाबला


1996 की वर्ल्ड कप प्रतियोगिता में श्रीलंका की टीम ने सेमीफाइनल में भारत को हराकर बड़ा उलटफेर किया था और भारत वर्ल्डकप जीतने से मात्र एक कदम दूर था जब उसे प्रतियोगिता से बाहर हो जाना पड़ा था। इसी प्रकार बांग्लादेश की टीम ने 2007 के वर्ल्ड कप की प्रतियोगिता के पहले ही दौर में भारत को हराकर प्रतियोगिता से बाहर का रास्ता दिखा दिया था। वेस्ट इंडीज ने टी-20 वर्ल्ड कप के फाइनल में भारत को हराकर विश्व कप जीता था। मेजबान इंग्लैंड की टीम भी इस बार वर्ल्ड कप जीतने की दावेदार टीमों में शामिल है। इस प्रकार भारत इनमें से किसी भी टीम को हलके में नहीं ले सकता।

कप्तान कपिल देव की पारी ने जिताया था वर्ल्ड कप


जहाँ तक वर्ल्ड कप जीतने की बात है तो आईसीसी की वर्ल्ड कप प्रतियोगिता 1975 में शुरू हुई और 1975 व 1979 के दोनों वर्ल्ड कप वेस्ट इंडीज ने जीते थे। इसके बाद तीसरा वर्ल्ड कप ऑलराउण्डर कपिल देव के नेतृत्व वाली टीम इण्डिया ने जीता था। इस वर्ल्ड कप का फाइनल मैच इंग्लैंड के लॉर्ड्स के मैदान पर भारत और वेस्ट इंडीज के बीच खेला गया था। मैच में ओपनिंग जोड़ी सुनील गावस्कर और कृष्णामाचारी श्रीकांत विफल रहे थे। 17 रन पर भारत के 5 विकेट गिर चुके थे। इसके बाद मैदान में उतरे कप्तान और ऑलराउण्डर कपिल देव ने 175 रन की धुआँधार पारी खेली थी, जिसके दम पर भारत ने वेस्ट इंडीज को 184 रन का लक्ष्य दिया था। लक्ष्य का पीछा करने उतरी वेस्ट इंडीज की टीम पर भारतीय गेंदबाज मोहिंदर अमरनाथ आफत बनकर टूटे और उन्होंने 12 रन देकर 3 विकेट चटका दिये। परिणाम स्वरूप वेस्ट इंडीज की टीम 140 रन पर ही ढेर हो गई और भारत 43 रन से जीतकर विश्व विजेता बन गया। कपिल देव और मोहिंदर अमरनाथ इस जीत के हीरो बने थे।

36 साल पुराना इतिहास दोहराने को बेताब टीम इंडिया


अब 36 साल बाद एक बार उन्हीं परिस्थितियों ने आकार लिया है। वर्ल्ड कप प्रतियोगिता इंग्लैंड में खेली जा रही है। हालाँकि वर्ल्ड कप के दावेदार बदल गये हैं। शुरुआती दौर में दोनों वर्ल्ड कप अपने नाम करने के कारण सबसे मजबूत टीम कहलाने वाली वेस्ट इंडीज की टीम अब अपनी पहले वाली धार खो चुकी है। इसके बावजूद वेस्ट इंडीज की वर्तमान टीम में भी कई ऐसे धुरंधर खिलाड़ी मौजूद हैं जो अकेले दम पर मैच को जिताने का माद्दा रखते हैं। इनमें क्रिस गेल, सिमनर हेटमायर, आंद्रे रसेल, ब्रेथवेट आदि शामिल हैं। यह टीम आक्रामक खेल के लिये पहचानी जाती है। 27 जून गुरुवार को भारत का सामना इसी टीम से होने वाला है।

Leave a Reply

You may have missed