SHAME… SHAME… : अरबों में ‘खेलने’ वालों को एक झटके में ‘कंगाल’ बना गई सिर्फ 19 साल की एक ‘खिलाड़ी’ !

विश्लेषण : कन्हैया कोष्टी

अहमदाबाद, 18 जुलाई, 2019 (युवाPRESS)। मॉनसून यानी चौमासा…. यह शब्द सुनते ही भीषण गर्मी और तपन से व्याकुल मन को अद्भुत शांति मिलती है। पूरा भारत 1 जून को इस मॉनसून के केरल पहुँचने की प्रतीक्षा करता है, परंतु प्राकृतिक असंतुलन ने पिछले कई वर्षों से मॉनसून की सद्गति को दुर्गति में बदल डाला है। यही कारण है कि एक ही मॉनसून अपनी दिशाहीन चाल से कहीं भविष्य के अकाल की नींव डाल रहा है, तो कहीं भीषण बाढ़ के रूप में कहर बरपा रहा है। देश का बड़ा हिस्सा मॉनसून की मेहर की प्रतीक्षा कर रहा है, तो बिहार और असम जैसे पूर्वी भारत में 50 लाख लोग बाढ़ के कारण बेघर हो गए हैं।

देश में जब भी कोई प्राकृतिक आपदा आती है, तो केन्द्र सरकार और संबंधित राज्यों की सरकारें आपदा पीड़ितों की सहायता के लिए उपलब्ध संसाधनों के ज़रिए हर संभव प्रयास करती है। इस प्रयास को तब पंख लग जाते हैं, जब आम जनसमुदाय में विद्यमान सम्पन्न वर्ग के लोग आर्थिक सहायता करने की पहल करते हैं। इस समय बिहार और असम बाढ़ के महासंकट से जूझ रहे हैं। ऐसे में स्वाभाविक है कि दोनों राज्यों में बाढ़ पीड़ितों को सहायता की अत्यंत आवश्यकता है।

संकट की इस घड़ी में केन्द्र और राज्य सरकारें निश्चित रूप से राहत, बचाव और सहायता कार्य में जुटी हुई हैं, तो समाज कई धनवान लोगों ने बाढ़ पीड़ितों की सहायता के लिए अपनी ओर से पहल की है। ऐसी ही एक पहल एक 19 साल की लड़की ने भी की है। इस लड़की ने जो पहल की है, उसने देश में सबसे धनाढ्य माने जाने वाले, आम जन समुदाय में भारी लोकप्रियता रखने वाले और लोगों के ‘लुटाए’ धन को जुटा कर अरबों रुपयों में ‘खेलने’ वाले दो क्षेत्रों में CRICKET और BOLLYWOOD के अनेक STARS को एक झटके में कंगाल सिद्ध कर दिया। पूरा देश TEAM INDIA और उसमें खेलने वाले खिलाड़ियों का दीवाना है। उन्हें ही भारत का सच्चा प्रतिनिधि मान कर टीम की हार-जीत को देश के मान-सम्मान से जोड़ कर हर्ष और शोक का अनुभव करता है। पूरा देश बॉलीवुड के सितारों को आदर्श मान कर उनकी फिल्मों को देखने के लिए थियेटर में करोड़ों रुपए लुटा देता है। उनके बताए रास्ते पर ‘पागलों’ की तरह भागता है, परंतु क्रिकेट और बॉलीवुड में कार्यरत् छोटे-बड़े सभी धनवान स्टार-खिलाड़ियों को जिस लड़की ने एक छोटी सी पहल से कंगाल बना दिया, उसका नाम है धाविका (RUNNER) हिमा दास।

भारतीय खेल जगत में केवल क्रिकेट को ही भगवान की तरह पूजने वाले और महत्व देने वाले करोड़ों लोग भले ही हिमा दास से परिचित नहीं होंगे, परंतु हिमा दास किसी परिचय की मोहताज़ नहीं हैं, क्योंकि वे भारत की एक स्टार एथलीट हैं। विराट कोहली, महेन्द्र सिंह धोनी, रोहित शर्मा या सचिन तेंदुलकर की तरह या अमिताभ बच्चन से लेकर छोटे-बड़े सभी छोटे-बड़े पर्दे के तथाकथित स्टार्स की तरह विख्यात नहीं हैं हिमा दास, परंतु वे पिछले 15 दिनों से भारत की ओर से धमाल मचा रही हैं। भारत की स्टार एथलीट और असम के नगाँव जिले के धिंग गाँव में जन्मी तथा DHING EXPRESS के नाम से विख्यात हिमा दास ने कल यानी 17 जुलाई बुधवार को चेक गणराज्य में आयोजित टबोर एथलेटिक्स में 200 मीटर रेस में स्वर्ण पदक जीता। हिमा ने पिछले 15 दिनों में यह चौथा स्वर्ण पदक जीता। इससे पहले उन्होंने 2 जुलाई को पोजनान एथलेटिक्स ग्रांड प्रिक्स में 200 मीटर रेस में पहला, 7 जुलाई को पोलैण्ड में कुटनो एथलेटिक्स में 200 मीटर रेस में दूसरा और 13 जुलाई को चेक गणराज्य में क्लांदो मेमोरियल एथलेटिक्स में 200 मीटर रेस में तीसरा स्वर्ण पदक जीता था।

हिमा का एक ट्वीट और कंगाल हो गए अरबपति खिलाड़ी !

अब मूल बात पर आते हैं कि किस तरह हिमा दास ने एक TWEET करके भारतीय खेल जगत के सबसे लोकप्रिय फॉर्मेट के अरबपति खिलाड़ियों को एक झटके में कंगाल बना दिया ? वास्तव में हिमा दास असम की हैं और यह राज्य इन दिनों भीषण बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित है। विभिन्न प्रतियोगिताओं में स्वर्ण पदक जीत रही हिमा का हृदय असम की बाढ़ विभीषिका देख कर पिघल गया और उन्होंने अपना आधा मासिक वेतन मुख्यमंत्री राहत कोष में देने की घोषणा की। इतना ही नहीं, अपने राज्य के लोगों को पीड़ा में देख हिमा ने कॉर्पोरेट घरानों से भी उदार मन से दान देने की अपील की।

हिमा दास ने भारतीय तेल निगम लिमिटेड (ONGC) से प्राप्त होने वाले वेतन का आधा हिस्सा असम के बाढ़ प्रभावितों की सहायता में देने की घोषणा की। हिमा के इस ट्वीट को पूरे दो दिन हो चुके हैं, परंतु अरबों रुपयों की कमाई करने वाले और करोड़ों भारतीयों के आदर्श कहलाने वाले सचिन तेंदुलकर से लेकर जसप्रीत बुमराह तक के क्रिकेट खिलाड़ियों में से किसी एक ने भी एक फूटी कौड़ी के दान की भी पहल नहीं की है। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) से मैच फीस के रूप में करोड़ों रुपए में सैलरी हासिल करने वाले क्रिकेटर्स का हृदय असम और बिहार के 50 लाख से अधिक बाढ़ पीड़ितों के लिए तनिक भी नहीं पसीज रहा। क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर से लेकर टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली तक अनेक लखपति-करोड़पति-अरबपति क्रिकेटर्स हैं। ऐसे में क्या 19 वर्ष की अल्पायु की हिमा दास ने बाढ़ पीड़ितों की मदद की पहल कर अरबों में खेलने वालों को दिल का कंगाल सिद्ध नहीं कर दिया ?

कोहली से लेकर बुमराह, देश क्यों गुमराह ?

देश के नागरिकों को यदि अपने देश के लिए कुछ करना है, तो करने के लिए बहुत कुछ है। क्रिकेट के अलावा अन्य खेलों की देश में क्या हालत है, इससे कोई अनजान नहीं है। अन्य खेलों के खिलाड़ी कितनी ही महान उपलब्धि हासिल कर लें, परंतु एक क्रिकेटर की सदी के आगे सब बेकार हो जाता है। ऐसे में हिमा दास की ओएनजीसी से प्राप्त वेतन के उपरांत कुल वार्षिक आय कितनी होगी, यह तो नहीं बताया जा सकता, परंतु इतना अवश्य कहा जा सकता है कि वह आय करोड़ों-अरबों में नहीं होगी, जैसी कि क्रिकेटर विराट कोहली की है। आपको जान कर आश्चर्य होगा कि बीसीसीआई वर्तमान टीम इंडिया में ग्रेड ए+ खिलाड़ियों को सर्वाधिक 7 करोड़ रुपए सैलरी दे रहा है। 7 करोड़ वेतन पाने वालों में टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली, उप कप्तान रोहित शर्मा और तेज गेंदबाज़ जसप्रीत बुमराह शामिल हैं। ग्रेड ए खिलाड़ियों महेन्द्र सिंह धोनी, आर. अश्विन, रवीन्द्र जाडेजा, चेतेश्वर पुजारा, अजिंक्या रहाणे, भुवनेश्वर कुमार, शिखर धवन, ईशांत शर्मा, मोहम्मद शमी, कुलदीप यादव और ऋषभ पंत को 5-5 करोड़ रुपए, ग्रेड बी खिलाड़ियों के. एल. राहुल, उमेश यादव, युज़वेन्द्र चहल औ हार्दिक पंड्या की सैलरी 3-3 करोड़ रुपए तथा ग्रेड सी खिलाड़ियों केदार जाधव और दिनेश कार्तिक को सैलरी 1-1 करोड़ रुपए मिल रही है। इसके अतिरिक्त सचिन तेंदुलकर सेवानिवृत्ति के बाद भी करोड़ों रुपए विज्ञापनों के ज़रिए कमा रहे हैं। उनकी पिछले साल की आय 61 करोड़ रुपए थी, तो वर्तमान खिलाड़ियों विराट कोहली से लेकर एम एस धोनी तक अनेक खिलाड़ी भी विज्ञापनों से करोड़ों रुपए कमा रहे हैं, परंतु किसी ने भी अब तक बाढ़ प्रभावितों के लिए एक रुपए की रकम भी दान नहीं की है।

कनाडाई अक्षय कुमार के सीने में धड़कता भारतीय दिल

अब बात कर लेते हैं बॉलीवुड की। यहाँ भी सदी के महानायक अमिताभ बच्चन 77 वर्ष की आयु में भी लोकप्रयिता के शिखर पर हैं और करोड़ों नहीं, अरबों रुपए कमा रहे हैं। इनके अतिरिक्त आमिर खान, सलमान खान, शाहरुख खान के पीछे देश के लोग पागल हैं, तो रणवीर सिंह, दीपिका पादुकोण से लेकर आलिया भट्ट के प्रति लोगों में जबर्दश्त दीवानगी है। अरे, यहाँ तक कि करीना कपूर के बेटे तैमूर खान भी बिना कुछ किए सुर्खियाँ बँटोरते हैं। ये सभी भारतीय हैं, परंतु किसी के पास भी बाढ़ पीड़ितों के लिए हिमा जैसा उदार हृदय नहीं है। दूसरी तरफ एक लोकप्रिय प्रधानमंत्री का इंटर्व्यू लेने के कारण कुछ लोगों की आँखों की किरकिरी बने बॉलीवुड के खिलाड़ी अक्षय कुमार को इन आलोचकों ने उनकी कनाडाई नागरिकता को लेकर घेरा और अभी तक घेर रहे हैं, परंतु इतिहास गवाह है। जब-जब देश पर आपत्ति आई, इस खिलाड़ी ने अपना ख़जाना खोल दिया। हिमा दास के अलावा किसी ने बाढ़ पीड़ितों की सहायता की पहल की हो, तो वह अक्षय कुमार हैं। अक्षय कुमार ने न केवल असम के मुख्यमंत्री राहत कोष और काज़ीरंगा के लिए 1 करोड़ रुपए दान देने की घोषणा की है।

अक्षय ने ट्वीट कर लिखा, ‘असम में आए के बारे में सुनकर काफी दुख हुआ। इसमें पीड़ित सभी इंसान और जानवर इस जरूरत की स्थिति में मदद के हक़दार हैं। मैं मुख्यमंत्री राहत कोष और काज़ीरंगा पार्क रेस्क्यू के लिए 1 करोड़ रूपए दान करना चाहूँगा। सभी से अपील करता हूँ कि इसके लिए अपना योगदान दें।’

You may have missed