मोदी सरकार पर विपक्ष का बेरोजगारी का आरोप तार-तार : IT सेक्टर में आई नौकरियों की बाढ़

एक साल में 7 बड़ी आईटी कंपनियों ने 1.04 लाख नई भर्तियाँ कीं

एक तरफ लोकसभा चुनाव 2019 में विपक्ष बेरोज़गारी का मुद्दा उछालकर केन्द्र में सत्तारूढ़ नरेन्द्र मोदी सरकार को घेरने का प्रयास कर रहा है, दूसरी तरफ चुनावी गहमागहमी के बीच मोदी सरकार के पक्ष में एक बड़ी और अच्छी ख़बर आई है। यह ख़बर मोदी सरकार के लिये तो उपलब्धि है ही, परंतु विपक्ष के लिये करारा जवाब भी है।

दरअसल सेंटर फोर मोनिटरिंग दी इण्डियन इकोनॉमी (SMIE) के कंज्यूमर पिरामिड्स के सर्वे के आधार पर तैयार की गई एक रिपोर्ट के अनुसार भारत में सूचना प्रौद्योगिकी (IT) क्षेत्र में नौकरियों की संख्या में तेजी से बढ़ोतरी हो रही है। इस रिपोर्ट के अनुसार देश के आईटी सेक्टर में पिछले एक वर्ष में एक लाख से भी अधिक नई नौकरियाँ पैदा हुई हैं। आईटी क्षेत्र में नई नौकरियों का यह आँकड़ा पिछले तीन साल में सबसे अधिक है।

2018-19 में आईटी सेक्टर के लिये भर्ती में टाटा कन्सल्टेंसी सर्विसेज़ (TCS) ने 377 प्रतिशत और INFOSYS ने 642 प्रतिशत बढ़ोतरी की है। टीसीएस, इन्फॉसिस और VIPRO, इन तीन शीर्ष आईटी कंपनियों ने वर्ष 2019 में अपने कर्मचारियों की संख्या में लगभग 7 गुना बढ़ोतरी की है।

एसएमआईई की यह रिपोर्ट इसलिये भी महत्वपूर्ण है क्योंकि पिछले दो-तीन वर्षों से आईटी सेक्टर में नौकरियाँ घटने की ख़बरें आ रही थीं। सबसे अधिक नौकरियाँ देने वाले क्षेत्रों में सम्मिलित आईटी सेक्टर में 2016-17 में 30,181 नई नौकरियाँ ही मिली थी। 2017-18 में इस स्थिति में थोड़ा सुधार हुआ और आँकड़ा 82,919 पर पहुँचा। 2018-19 में इस क्षेत्र में नौकरियों में तेजी आई और आँकड़ा एक लाख के पार हो गया। देश की शीर्ष सात आईटी कंपनियों ने ही 1,04,820 लोगों को नई नौकरियाँ दी हैं। यह कंपनियाँ हैं टीसीएस, इन्फॉसिस, एचसीएल, विप्रो, टेक महिन्द्रा और कॉग्निजेंट।

आपको बता दें कि 2018-19 में एचसीएल में 12,328 तथा विप्रो में 8,559 नई नौकरियाँ पैदा हुईं। यह आँकड़ा 2018-19 की पहली तीन तिमाही के हैं, चौथी तिमाही का परिणाम आना बाकी है, जिसमें भी वृद्धि की संभावना है।

एक दूसरी रिपोर्ट के अनुसार 2018-19 में आईटी सेक्टर के लिये भर्ती में टीसीएस ने 377 प्रतिशत और इन्फॉसिस ने 642 प्रतिशत बढ़ोतरी की है। रिपोर्ट में बताया गया है कि 2017-18 के दौरान ऑटोमेशन तथा क्लाउड कंप्यूटिंग जैसे कारणों से इन बड़ी कंपनियों में नई भर्तियों में कमी आई थी और कर्मचारियों को छँटनी का सामना भी करना पड़ा था।

बिज़नेस स्टैण्डर्ड की एक रिपोर्ट के अनुसार टीसीएस, इन्फॉसिस और विप्रो, यह तीन शीर्ष आईटी कंपनियों ने वर्ष 2019 में अपने कर्मचारियों की संख्या में लगभग 7 गुना बढ़ोतरी की है। इन कंपनियों में पिछले एक वर्ष में कुल लगभग 64,805 कर्मचारी बढ़े। यह आँकड़ा कुल नई नौकरियों की संख्या में से छँटनी के शिकार हुए कर्मचारियों की संख्या को घटाकर निकाला गया है।

उल्लेखनीय है कि इन तीनों आईटी कंपनियों में पिछले वर्ष 2018 में 9,864 तथा 2017 में 48,350 कर्मचारी बढ़े थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed