ध्यान से देखिए इस चेहरे को : यह कोई CELEBRITY नहीं, 5 करोड़ लोगों की HOME MINISTER है !

अहमदाबाद, 9 जून, 2019 (युवाप्रेस डॉट कॉम)। ध्यान से देखिये इस चेहरे को…यह चेहरा न तो कोई फेमस बॉलीवुड चेहरा है और न ही यह कोई प्रतिष्ठित उद्योगपति का चेहरा है। यह चेहरा आंध्रप्रदेश में उभरा है। आंध्र प्रदेश की राजनीति में उभरा यह चेहरा दलित समाज से आया है। यह चेहरा आंध्रप्रदेश की 5 करोड़ की आबादी का प्रतिनिधित्व करने वाला है।

जगन ने पहचाना मेखा की मेधा को

हाल ही में सम्पन्न हुए लोकसभा चुनाव के साथ ही आंध्रप्रदेश में विधानसभा की 175 सीटों के लिये भी मतदान कराया गया था, जिसमें सत्तारूढ़ तेलुगूदेशम पार्टी का सफाया हो गया और वाईएसआर कांग्रेस की नई सरकार गठित हुई है। वाईएसआर के मुखिया जगन मोहन रेड्डी के नेतृत्व में शनिवार को आंध्रप्रदेश की नई राजधानी अमरावती में बनाये गये सचिवालय में शनिवार को जगन मोहन रेड्डी के साथ पहली बार उनके 5 उप मुख्यमंत्री सहित कुल 25 विधायकों ने मंत्री पद की शपथ ली। इस शपथ समारोह में जिस चेहरे ने सबका ध्यानाकर्षित किया वह था मेखाथोटि सुचरिता का। एम. सुचरिता जगन मोहन रेड्डी सरकार में गृह मंत्री बनाई गई हैं, जो सरकार में दलित महिला का चेहरा हैं। वह राज्य की 5 करोड़ आबादी की रक्षक यानी गृहमंत्री बन गई हैं। इसी के साथ वह देश की पहली ऐसी दलित महिला भी बन गई हैं, जिसने किसी राज्य में गृह मंत्री का पद सँभाला है। वह तेलंगाना के अलग होने के बाद आंध्रप्रदेश की पहली महिला गृह मंत्री भी हैं। इससे पहले जगन मोहन रेड्डी के पिता और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री वाई. एस. राजशेखर रेड्डी ने 2009 में महिला को राज्य का गृह मंत्री बनाया था। उनका नाम सबिता इंद्रा रेड्डी था, वह अब टीआरएस की विधायक हैं।

मीरां कुमार हैं देश का प्रचलित दलित महिला का चेहरा

आंध्र प्रदेश की नई गृह मंत्री मेखाथोटि सुचरिता राज्य के गुंटूर जिले की दलितों के लिये आरक्षित सीट प्रातिपादु से जीतकर विधायक बनी हैं। दलित समाज से आने वाली मेखाथोटि सुचरिता अब गृह मंत्री बनने के बाद सेलिब्रिटी की श्रेणी में आ गई हैं। देश की राजनीति में मीरां कुमार दलित महिला चेहरे के रूप में लंबे समय तक प्रतिनिधित्व करती रही हैं। उनके बाद अब आंध्रप्रदेश से मेखाथोटि सुचरिता के रूप में एक नया दलित महिला चेहरा उभरा है। अब देखना होगा कि एम. सुचरिता राजनीति के सफर में कितनी आगे तक जाती हैं।

आंध्र प्रदेश में 5-5 डिप्टी सीएम

उल्लेखनीय है कि जगन मोहन रेड्डी की वाईएसआर कांग्रेस ने राज्य की 175 विधानसभा सीटों में से 151 सीटों पर जीत हासिल की है और टीआरएस तथा टीडीपी का सफाया किया है। पहली बार जगन मोहन रेड्डी ने अपने मंत्रिमंडल में 5 उप मुख्यमंत्रियों को स्थान दिया है। इससे पहले उत्तर प्रदेश और गोवा में दो-दो उप मुख्यमंत्री हैं। जबकि देश के 14 राज्यों व केन्द्रशासित प्रदेशों में एक-एक उप मुख्यमंत्री है। जगन मोहन रेड्डी ने राज्य के पाँच प्रमुख समुदायों को प्रतिनिधित्व देने के लिये 5 उप मुख्यमंत्रियों के पद शुरू किये हैं। इनमें दलित, जनजाति, पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यक और कापू समुदाय हैं।

विपक्ष की भूमिका निभाएगी टीडीपी

विपक्षी दल टीडीपी ने पांच-पांच उप मुख्यमंत्री पदों को लेकर कोई आपत्ति नहीं जताई और कहा कि यह मुख्यमंत्री का विशेषाधिकार होता है, उन्हें जो व्यक्ति जिस पद के लिये योग्य लगे, उसे उस पद पर ले सकता है, वैसे हम इन सभी से अच्छी सेवाएँ मिलने की आशा करते हैं और टीडीपी विधानसभा में विपक्ष की भूमिका बेहतर ढंग से निभाने के लिये प्रतिबद्ध है।

Leave a Reply

You may have missed