शहीद की बहन के विवाह में पहुँचे 100 कमांडो और फिर जो हुआ, उसे देखती रह गई दुनिया… : आप भी देखिए VIDEO

* ज़मीन पर नहीं पड़ने दिए दुल्हन के पैर

* हर कदम पर कमांडोज ने बिछाए हाथ

रिपोर्ट : कन्हैया कोष्टी

अहमदाबाद, 15 जून, 2019। बिहार में गत 3 जून को एक ऐतिहासिक विवाह समारोह हुआ। ऐसा विवाह समारोह, जो आज से पहले कभी नहीं हुआ। यह ऐसा विवाह समारोह था, जिसमें दुल्हन को अपने शहीद इकलौते भाई की कमी नहीं महसूस हुई। शहीद के एक, दो नहीं, बल्कि 100 साथी जवान इस विवाह समारोह का हिस्सा बने और उन्होंने ऐसा कारनामा किया, जिसे न केवल बहन की आँखें भर आईं, बल्कि पूरी दुनिया दंग रह गई।

सोशल मीडिया पर भी शशिकला निराला की शादी के ख़ूब चर्चे हो रहे हैं और वीडियो भी वायरल हो रहे हैं, जिसमें भारतीय सेना के 100 गरुड़ कमांडो शामिल थे। इन कमांडो के पहुँचने से शशिकला की शादी शाही शादी बन गई। शशिकला को अपने इकलौते भाई ज्योति प्रकाश निराला की कमी महसूस नहीं हुई, क्योंकि इन 100 गरुड़ कमांडो ने ने नई-नवेली दुल्हन को सगी बहन की तरह विदाई दी। इन कमांडो ने न केवल शशिकला की शादी का पूरा जिम्मा उठाया, बल्कि धूमधाम से उनकी शादी कराई। यहाँ तक कि विदाई की मंगल घड़ी आई, तब इन 100 गरुड़ कमांडो ने दुल्हन को ज़मीन पर पैर नहीं रखने दिए। दुल्हन के हर कदम पर इन 100 गरुड़ कमांडो ने अपने हाथ बिछा दिए। शहीद ज्योति प्रकाश निराला के साथी 100 गरुड़ कमांडो ने जिस तरह शशिकला के विवाह को उल्लास और उमंग से भर दिया, उससे पिता तेजनारायण सिंह की आँखें भर आईं। उन्होंने बेटी शशिकला के विवाह को अपने जीवन का सबसे स्मरणीय क्षण बताया और कहा कि बेटे ज्योति के साथियों ने शशिकला को इकलौते भाई की कमी महसूस नहीं होने दी।

कौन थे ज्योति प्रकाश निराला ?

ज्योति प्रकाश निराला भारतीय वायुसेना (IAF) की एक टुकड़ी गरुड़ कमांडो का हिस्सा थे। निराला 18 नवम्बर, 2017 को आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ में शहीद हुए थे। जम्मू-कश्मीर के बांदीपोर जिले के चंदरनगर गाँव में आतंकियों के छिपे होने की सूचना पर राष्ट्रीय राइफल्स को ऑपरेशन चलाने को कहा गया। राष्ट्रीय राइफल्स की टुकड़ी में भारतीय वायुसेना के गरुड़ कमांडोज़ भी होते हैं। आतंकियों के विरुद्ध चलाए गए इस ऑपरेशन की टुकड़ी का नेतृत्व गरुड़ कमांडो ज्योति प्रकाश निराला कर रहे थे। इसी दौरान एक घर को घेरे खड़े जवानों पर आतंकियों ने गोली चलाई और निराला शहीद हो गए। ज्योति प्रकाश निराला उस ऑपरेशन के दौरान शहीद हुए, जिसमें आतंकियों के आका मसूद अज़हर का भतीजा तल्हा रशीद मारा गया। सरकार ने शहीद निराला को मरणोपरांत अशोक चक्र वीरता पुरस्कार से सम्मानित किया। ज्योति प्रकाश निराला की ओर से अशोक चक्र लेने पहुँचीं माता और पत्नी को यह सम्मान देते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद भी भावुक हो गए थे।

आप भी देखिए शहीद ज्योति प्रकाश निराला की बहन शशिकला की अनूठी शादी का VIDEO :

Leave a Reply

You may have missed