पीएम मोदी ने कश्मीरियों को दिया ऐसा सुरक्षा ‘कवच’, अब पाकिस्तानी गोलाबारी से नहीं डरते हैं लोग

रिपोर्ट : विनीत दुबे

अहमदाबाद, 17 नवंबर, 2019 (युवाPRESS)। एक तरफ पाकिस्तान दुनिया भर में खुद कश्मीरियों का हितैषी दर्शाने का प्रयास करता है और दूसरी तरफ सीधे-सीधे भारतीय सेना का मुकाबला नहीं कर पाने के कारण जम्मू कश्मीर के सीमावर्ती क्षेत्रों में युद्ध विराम का उल्लंघन करके गोलीबारी और गोलाबारी करता है। इतना ही नहीं, पाकिस्तान सीमा के निकट स्थित गाँवों में गोले बरसा कर आम नागरिकों को निशाना बनाता है, जिससे कई बार निर्दोष नागरिकों की मृत्यु हो जाती है। इस लिये पीएम मोदी ने अब सीमावर्ती गाँवों में रहने वाले नागरिकों को ऐसा सुरक्षा कवच उपलब्ध कराया है, जिससे ग्रामीण भी अब पाकिस्तान की गोलाबारी से नहीं घबराते हैं।

इस साल 2500 से अधिक बार पाक ने किया युद्धविराम का उल्लंघन

वर्ष 2019 की बात करें तो जनवरी से लेकर जारी नवंबर महीने में अभी तक पाकिस्तान 2500 से अधिक बार युद्धविराम का उल्लंघन कर चुका है। इन घटनाओं में दर्जनों निर्दोष नागरिकों की मृत्यु हुई है, वहीं लगभग दर्जन भर सैनिक भी शहीद हुए हैं। पाकिस्तान की बार-बार की हरकतों से तंग आई मोदी सरकार ने सीमावर्ती गाँवों में बसे नागरिकों को सुरक्षा कवच मुहैया कराने का निर्णय किया, जिसके परिणाम स्वरूप अब पाकिस्तान की सीमा से सटे ग्रामीण इलाकों में पाकिस्तानी गोले आकर गिरते हैं तो बूढ़े हों या बच्चे अब कोई भी भयभीत नहीं होते हैं।

दरअसल मोदी सरकार ने सीमावर्ती गाँवों में ग्रामजनों की सुरक्षा के लिये भूमिगत बंकर बनाये हैं, जिससे जब भी पाकिस्तान की ओर से गोलीबारी या गोलाबारी की जाती है तो ग्रामजन अपने घरों, स्कूल और खेत-खलिहानों से निकल कर इन बंकरों में पहुँच जाते हैं और खुद को सुरक्षित महसूस करते हैं।

हर सीमावर्ती गाँव में बन रहे बंकर

मोदी सरकार की ओर से गाँव-गाँव में बंकर बना दिये जाने से अब ग्रामजनों को अपनी या अपने बच्चों की सुरक्षा की चिंता से मुक्ति मिल गई है। इसी प्रकार स्कूलों में पढ़ने वाले ग्रामजनों के बच्चे हों या उन्हें पढ़ाने वाले शिक्षक, उनकी भी सुरक्षा को लेकर चिंता दूर हो गई है, क्योंकि वह भी सीज़फायर उल्लंघन की घटना के समय तुरंत बंकरों में पहुँच जाते हैं।

इस प्रकार मोदी सरकार ने सीमावर्ती गांवों में ग्रामजनों को ऐसा सुरक्षा कवच उपलब्ध करा दिया है, जिससे ग्रामजन भी अब पाकिस्तानी गोलियों से नहीं घबराते हैं और भारतीय सेना के साथ मिल कर पाकिस्तान की नापाक हरकतों का डँट कर सामना करते हैं। दूसरे शब्दों में कहें तो मोदी सरकार ने सीमावर्ती गाँवों में डर के साये में जीवन बिताने वाले ग्रामजनों में नया जोश और जज्बा जगा दिया है।

मोदी सरकार ने पाकिस्तान की गोलाबारी की रेंज में आने वाले हर गाँव में आवासीय क्षेत्र में, स्कूल के पास तथा खेत-खलिहानों के पास लोगों की सुरक्षा के लिये बंकर बना दिये हैं। जम्मू में कठुआ से लेकर कश्मीर के कुपवाड़ा तक लगभग 14,460 बंकर बनाने का लक्ष्य रखा गया है। इसके लिये मोदी सरकार ने पिछले साल ही 415.73 करोड़ रुपये की राशि जारी कर दी थी। सीमावर्ती इलाकों में बंकर निर्माण का काम तेजी से चल रहा है और अनेक इलाकों में 90 प्रतिशत काम पूरा हो चुका है।

जम्मू के राजौरी जिले में भी पाकिस्तान से सटी 120 किलोमीटर लंबी नियंत्रण रेखा गुजरती है। इसलिये इस जिले के सीमावर्ती क्षेत्रों में भी सरकार से नये बंकर बनाने की माँग की जा रही है। कश्मीर में बंकर निर्माण का काम पूरा होने के बाद इस क्षेत्र के लोगों की माँग पर भी ध्यान दिये जाने की संभावना जताई जा रही है।

You may have missed