VIDEO : मोदी-शाह ने केवल 60 मिनट में कर डाली उद्धव की #surgicalstrike, सोनिया-शरद भी चपेट में

* संजय राउत ने सुबह 7.02 बजे ‘सरकार के सपनों’ से भरा ट्वीट किया

* देवेन्द्र फडणवीस ने सुबह 8.05 बजे ले ली मुख्यमंत्री पद की शपथ

रिपोर्ट : कन्हैया कोष्टी

अहमदाबाद 23 नवंबर, 2019 (युवाPRESS)। पिछले बीस दिनों से महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए उठापटक कर रही शिवसेना (SS) और उसके प्रमुख उद्धव ठाकरे तथा उनके विशेष सिपहलसलार संजय राउत के लिए शुक्रवार की रात सुकूँ भरी थी, परंतु शनिवार की सुबह दर्द, पीड़ा, चीत्कार और आक्रोश से भरी सिद्ध हुई। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के प्रमुख शरद पवार ने शुक्रवार रात लगभग 9 बजे मीडिया के समक्ष वक्तव्य दिया कि कांग्रेस-एनसीपी ने शिवसेना को समर्थन देने का निर्णय किया है और उद्धव ठाकरे महाराष्ट्र के अगले मुख्यमंत्री होंगे।

शरद पवार के इस वक्तव्य के बाद उद्धव और संजय को लगा कि अब महाराष्ट्र के सिंहासन पर शिवसेना का मुख्यमंत्री होने का सपना साकार होने में चंद घण्टे रह गए हैं। कांग्रेस-एनसीपी से समर्थन पाने की कवायद में चाणक्य की भूमिका निभा रहे संजय राउत तो शनिवार सुबह नींद से जागने के बाद भी यही सपना संजोए हुए थे कि कुछ ही घण्टों या दिनों बाद महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे मुख्यमंत्री बनने वाले हैं। कांग्रेस-एनसीपी का समर्थन प्राप्त कर लेने की सफलता ने संजय राउत को इतना उत्साहित और हर्षित कर दिया कि उन्होंने शनिवार सुबह-सुबह 7.02 बजे ट्वीट भी कर दिया, जिसमें भाजपा के लिए कटाक्ष था और शिवसेना की सरकार का सपना था। इस ट्वीट में संजय राउत ने लिखा, ‘जिस जिस पर ये जग हँसा है, उसी ने इतिहास रचा है..!’ संजय के इस ट्वीट में भाजपा के लिए स्पष्ट कटाक्ष था। संजय इस ट्वीट के माध्यम से भाजपा को यह कहना चाह रहे थे कि शिवसेना के एनसीपी-कांग्रेस से गठबंधन पर भले ही वह हँस रही हो, परंतु इतिहास शिवसेना ही रचेगी।

एक घण्टे में बदल गया सारा खेल

संजय राउत के ट्वीट को अभी एक घण्टा ही हुआ था। संजय राउत को यह ट्वीट करते हुए सपने में भी यह ख़्याल नहीं आया होगा कि एक घण्टे बाद राजभवन में जो होने वाला है, वह उनकी कल्पना से परे अकल्पनीय-अविश्वसनीय होगा। संजय राउत सुबह 7.02 बजे किए गए अपने ट्वीट के माध्यम से इतिहास रचने की बात कर रहे थे, परंतु ठीक 1 घण्टा और 3 मिनट बाद यानी सुबह 8.05 बजे तो राजभवन में भाजपा नेता देवेन्द्र फडणवीस मुख्यमंत्री पद की शपथ लेकर एक अलग ही अकल्पनीय-अविश्वसनीय इतिहास रच रहे थे। इतना ही नहीं, फडणवीस के साथ एनसीपी नेता अजित पवार भी उप मुख्यमंत्री पद की शपथ ले रहे थे। इस दृश्य ने शिवसेना, उद्धव और संजय राउत तीनों को हिला डाला। मीडिया और सभी राजनीतिक पंडित भौंक्के रह गए। जो लोग शरद पवार को किंगमेकर बता रहे थे, वे सारे सिर खुजलाने लगे कि ये क्या हो गया ? ऐसा तो किसी ने सोचा ही नहीं था। किंगमेकर तो अजित पवार सिद्ध हुए।

मोदी-शाह की सर्जिकल स्ट्राइक में सारे दावपेच ढेर

महाराष्ट्र में एक घण्टे में जो खेल बदला, उसके पीछे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष व गृह मंत्री अमित शाह की धारदार रणनीति थी। मोदी-शाह ने दिल्ली में बैठे-बैठे ऐसी राजनीतिक सर्जिकल स्ट्राइक की कि शिवसेना, उद्धव ठाकरे और संजय राउत सभी ढेर हो गए। इतना ही नहीं, मोदी-शाह की सर्जिकल स्ट्राइक की चपेट में कांग्रेस और उसकी अध्यक्ष सोनिया गांधी और पिछले 20 दिनों से किंगमेकर के रूप में सक्रिय एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार भी आ गए। उद्धव का सीएम बनने का सपना टूटा, तो पवार की अपनी ही पार्टी दो-फाड़ हो गई। कांग्रेस को तो सूझ ही नहीं रहा कि आख़िर हुआ क्या है ? मोदी-शाह की चाणक्य नीति इतनी गोपनीय और धारदार थी कि किसी को कानों-कान भनक तक नहीं लगी और फडणवीस मुख्यमंत्री बन गए। इधर फडणवीस ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली, उधर 11 मिनट बाद ही यानी सुबह 8.16 बजे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और उसके बाद भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने सुबह 8.37 बजे ट्वीट कर बधाई दी, परंतु मोदी-शाह के इस ट्वीट में कहीं भी शरद पवार का नाम नहीं था। दोनों ट्वीट में अजित पवार का ही नाम था।

You may have missed