पूरब से पश्चिम और उत्तर से दक्षिण तक हर क्षेत्र में पहुँचे PM नरेन्द्र मोदी

125 दिनों में 200 से अधिक रैलियों-कार्यक्रमों में रही ‘मोदी-मोदी’ की गूंज

लोकसभा चुनाव 2019 के पाँच चरण पूरे हो चुके हैं और अब केवल दो चरण ही शेष हैं। इन चुनावों के दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अपनी सरकार और पार्टी भाजपा के लिये स्टार प्रचारक के रूप में मुखर रहे। उन्होंने पिछले 125 दिन में 200 से अधिक चुनावी रैलियाँ, जनसभाएँ, रोड शो और सरकारी कार्यक्रमों में हिस्सा लिया, जो दर्शाता है कि मोदी अपनी सरकार और पार्टी के लिये कितने कार्यशील और समर्पित हैं।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ऑफिसियल वेबसाइट पर एक आर्टिकल में पीएम मोदी के कार्यक्रमों का पूरा ब्यौरा मिलता है। इस लेख के अनुसार 25 दिसंबर-2018 के बाद 125 दिनों के भीतर पीएम नरेन्द्र मोदी ने 200 से अधिक कार्यक्रमों में हिस्सा लिया है। इन कार्यक्रमों में राजनीतिक व सरकारी दोनों ही तरह के कार्यक्रम शामिल हैं। इन कार्यक्रमों के माध्यम से पीएम मोदी ने पूर्व के सिलचर से पश्चिम के जामनगर और उत्तर के कश्मीर से दक्षिण के कन्याकुमारी तक देश के हर हिस्से में अपनी पहुँच बनाई और किसान, चौकीदार, बच्चों, युवाओं, कारोबारियों, उद्यमियों तथा विदेशी प्रतिनिधियों सहित अलग-अलग वर्ग के लोगों के साथ प्रत्यक्ष तथा अप्रत्यक्ष रूप से संपर्क स्थापित किया।

इन 125 दिनों में पीएम मोदी सबसे अधिक व्यस्त नेता रहे हैं। ‘PM NARENDRA MODI’S TOURS AND PROGRAMMES – EXTENSIVE AND EXHANSTIVE’ शीर्षक से लिखे इस लेख के अनुसार पीएम मोदी ने अकेले राजधानी दिल्ली में ही 30 कार्यक्रमों में हिस्सा लिया, जबकि जनवरी से लेकर अभी तक उन्होंने 14 बार अपने मंत्रिमंडल की बैठकें आयोजित की। यह आँकड़े सिद्ध करते हैं कि पीएम मोदी की कार्यशैली कैसी है ? वह मल्टी टास्किंग वाले राजनेता हैं और हमेशा चुनौतियों के लिये तैयार रहते हैं। उन्होंने रुकना और थकना तो जैसे सीखा ही नहीं है।

उनके व्यस्त कार्यक्रम का अनुमान इस बात से लगाया जा सकता है कि फरवरी महीने में पीएम मोदी ने एक दिन के जम्मू-कश्मीर दौरे में राज्य के तीन अलग-अलग हिस्सों में लद्दाख, जम्मू तथा कश्मीर घाटी का दौरा किया। श्रीनगर में मोदी ने घाटी के लोगों से बड़े स्तर पर बातचीत की। इस दौरान कश्मीरी कारोबारियों और कामगारों से भी मुलाकात की तथा इस व्यस्त कार्यक्रम से भी समय निकालकर डल झील में नौका विहार का भी लुत्फ उठाया।

जनवरी में पीएम मोदी ने चुनावी आदर्श आचार संहिता लागू होने से पहले पूर्वोत्तर भारत के असम, अरुणाचल प्रदेश और त्रिपुरा जैसे राज्यों का दौरा किया और वहाँ ऊर्जा तथा कृषि क्षेत्र में सरकार की ओर से किये गये कामों का वहाँ की जनता को ब्यौरा दिया। वहीं पिछले 150 दिन की बात करें तो मोदी ने अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी का पाँच बार दौरा किया। खुद वेबसाइट में लिखा है कि यह आँकड़े दर्शाते हैं कि हमारे प्रधानमंत्री की कार्यशैली कैसी है ? यह भी उल्लेख किया गया है कि पीएम मोदी ऐसे पहले प्रधानमंत्री हैं, जिन्होंने प्रयागराज जाकर कुंभ मेले में पवित्र स्नान किया और गंगा मां की पूजा-अर्चना की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed