मॉनसून से पहले बरसी ‘वायु’ कृपा : आँधी-तूफान के साथ वर्षा ने गर्मी से दिलाई निज़ात

अहमदाबाद, 17 जून 2019 (युवाप्रेस डॉट कॉम)। अरब सागर में उठे चक्रवाती तूफान ‘वायु’ का खतरा गुजरात के सिर से टला नहीं है और इसके आज देर शाम तक कच्छ के समुद्री तट से होकर गुज़रने की संभावना है। हालाँकि तूफान कमजोर जरूर पड़ा है, जिससे समुद्री इलाकों में तेज हवाओं और भारी बारिश से नुकसान की संभावना खत्म हो गई है। इससे विपरीत वायु के प्रभाव से मानसून पूर्व की बारिश से गुजरात के लोगों को भीषण गरमी से आंशिक राहत मिली है, वहीं किसान भी खुश हैं और उन्होंने बारिश के बाद खेतों की गुड़ाई शुरू कर दी है।

वायु के प्रभाव से अहमदाबाद शहर में भी दोपहर को लगभग साढ़े 12 बजे के बाद वातावरण में अचानक बदलाव आया और तेज हवा के साथ अधिकांश क्षेत्रों में बरसात हुई, जिससे वातावरण ठंडा हो गया और तीव्र गरमी से व्याकुल लोगों ने राहत का अनुभव किया। शहर के पूर्व, पश्चिम, उत्तर, दक्षिण और नया पश्चिम तथा मध्य सहित सभी छह जोन में वातावरण में परिवर्तन के साथ तेज हवा के साथ अचानक बारिश शुरू हो गई। हालाँकि यह केवल बरसाती झौंका ही था, परंतु इसके प्रभाव से अहमदाबाद वासियों को गरमी से राहत मिली, वहीं लोग बारिश के बाद चाय और गरम-गरम पकौड़ों की दुकानों पर टूट पड़े। यह सिलसिला लगातार जारी है और बार-बार रुक-रुक तेज आंधी के साथ तेज बरसात आ रही है।

उल्लेखनीय है कि अरब सागर में उठा चक्रवाती तूफान का खतरा अभी भी गुजरात से टला नहीं है और उसके आज देर शाम तक कच्छ के समुद्री तट को छूकर गुज़रने की संभावना है। वायु तूफान के प्रभाव से ही गुजरात में विशेषकर कच्छ और उत्तरी गुजरात के वातावरण में परिवर्तन देखने को मिल रहा है और रुक-रुककर तेज हवाओं के झौंके के साथ बरसाती बौछार हो रही है। वायुकृपा से ही आज अहमदाबाद शहर में भी बरसाती छींटे पड़े। हालाँकि गुजरात में मानसून के विधिवत आगमन में वायु चक्रवात के कारण देरी हो रही है, इसलिये यह बरसाती वातावरण मानसून की देन नहीं है और वातावरण में जो बदलाव देखने को मिल रहा है, वह वायु तूफान का प्रभाव है। इसके बावजूद वायुकृपा से ही सही परंतु राज्य के कई क्षेत्रों में बारिश होने से किसानों ने भी नई फसल की तैयारी शुरू कर दी है और खेतों में गुड़ाई का काम शुरू कर दिया है।

Leave a Reply

You may have missed