Bank में जमा रकम भूल गए तो बढ़ेगी मुश्किलें,रूपये पाने के लिए जाना होगा RBI

Anjali Tiwari

Bank unclaimed deposit

Bank में रखा हुआ पैसा बिल्कुल सुरक्षित रहता है यह सही बात है पर आप अगर अपने पैसो का ध्यान नहीं देंगे तो मुसीबत सामने आ सकती है.दरअसल नये नियम के मुताबिक अगर आपकी जमा राशि बैंक में 10 से लावारिस पड़ी है तो उसे भारतीय रिज़र्व बैंक (Reserve Bank of India) को ट्रांसफर कर दिया जाएगा. यह नया नियम आगामी वित्तीय वर्ष 1 अप्रैल से लागू होने वाला है.

RBI
RBI

नियम के मुताबिक अगर आपकी धनराशि बैंक में 10 साल लावारिस रकम (Unclaimed Deposit) पड़ी है तो नई व्यवस्था लागू होने के बाद यह धनराशि आपको आरबीआई से ही मिलेंगी.10 वर्ष के बाद आपके खाते में जमा धनराशि को आरबीआई ट्रांसफर कर दिया जाएगा जिसके बाद जमाकर्ता या उसका पारिवार अधिकृत दस्तावेज के साथ आरबीआई में दावा कर सकता है.

Bank में जमा लावारिस रकम क्या है?

आपको समझाते है कि आखिर लावारिस रकम क्या होती है? लावारिस रकम उस रकम कों कहते है जिस अकाउंट में पिछले 10 वर्ष में कोई भी ट्रांजेक्शन नहीं हुआ रहता. दरअसल हर बैंक्स प्रति वर्ष अपने यहां ओपन बैंक अकाउंट कों रिव्यु करते है और सालाना हिसाब-किताब बनाते है.

रिव्यु में मुख्यतः यह पता लगाया जाता है कि ऐसे कौन-कौन से अकाउंट है जिस अकाउंट से कोई भी लेंन देन पिछले 10 वर्ष में नहीं हुआ है.ऐसे अकाउंट में पड़े सभी रकम कों बैंक लावारिस रकम मान लेता है.बाद में ऐसे ग्राहकों से बैंक सपर्क भी करता है.यह आकड़ा मार्च 2023 तक 42,720 करोड़ रूपये हो गया है.

Bank

केंद्र सरकार के वित्त व कर सलाहकार नें क्या कहा?

डॉ.पावन जायसवाल केंद्र सरकार के कर व वित्त सलाहकार है उन्होंने बताया कि अभी तक लावारिस रकम सामान्यत: बैंको में ही रहती है. जमाकर्ता या निकासी के दावेदार अपने दस्तावेज के साथ बैंक से निकासी का दावा करते है.नए नियम के लागू होने के बाद यह राशि आरबीआई के डीए खाते में ट्रांसफर कर डी जाएगी.जमा राशि निकलने वालों लोगों को अब यह राशि आरबीआई से ही प्राप्त होगा वह भी दस्तावेज की गंभीरता से जाँच भी की जाएगी.

eserve bank

Bank प्रबंधन करेगा दावेदारों की तलाश

आरबीआई रकम ट्रांफर होने के बाद भी स्थानीय बैंक प्रबंधन को लावारिस राशि के खाताधारकों या दावेदारों की तलाश जारी रखनी पड़ेगी. लावारिस राशि का कोई दावेदार न मिलने पर इस राशि को डीए योजना के तहत बैंक ग्राहकों के जागरूकता पर खर्च कर दिया जाएगा.

ये भी पढ़ें:जनधन योजना के 10 करोड़ bank account निष्क्रिय,कहीं आपके तो नहीं जल्द करा लें kyc