पैंगोंग झील के पास भारत और चीनी सैनिकों में तनाव, 6 किलोमीटर तक अंदर घुसे चीनी सैनिक

नई दिल्लीः- अरुणाचल प्रदेश में भारत और चीन की तनातनी के बीच लद्दाख सीमा पर Pangong lake के निकट चीनी सैनिकों द्वारा घुसपैठ की खबर सामने आई है। इस बीच खुफिया रिपोर्ट से मिली जानकारी मुताबिक चीनी सैनिक लद्दाख में Pangong lake के पास भारतीय सीमा में 6 किलोमीटर अंदर तक घुस आए। जबकि भारतीय तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) ने गृह मंत्रालय को सौंपी अपनी एक रिपोर्ट में चीनी घुसपैठ की पूरी जानकारी दी है।

ITBP ने गृह मंत्रालय को एक रिपोर्ट में चीनी घुसपैठ की पूरी जानकारी दी

बताया जा रहा है कि इसी वर्ष मार्च के महिने में चीन ने लद्दाख सेक्टर में सबसे ज्यादा घुसपैठ की कोशिशें की हैं। जबकि चीन ने पिछले एक महीने में 20 बार भारत-चीन सरहद पर घुसपैठ किया। इस बीच ITBP ने गृह मंत्रालय को अपनी रिपोर्ट जारी करते हुए कहा कि चीन ने उत्तरी पैंगोंग झील के पास गाड़ियों के जरिए 28 फरवरी, 7 मार्च और 12 मार्च 2018 को घुसपैठ की है। जबकि ITBP ने चीन के इस घुसपैठ पर विरोध भी दर्ज कराया। उन्होंने बताया कि पैंगोंग झील के पास 3 जगहों पर चीनी सेना ने घुसपैठ की, इस दौरान चीनी सैनिक 6 किलोमीटर तक अंदर घुस आए थे।

ITBP के विरोध के बाद चीनी सैनिकों की वापसी

Pangong lake का ये वही क्षेत्र है, जहां पर बिते वर्ष अगस्त के महीने में चीनी सैनिकों ने भारतीय सुरक्षा बलों पर पत्थरबाजी की थी। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इस साल भी चीनी सैनिकों ने पैंगोंग झील के पास उत्तरी पैंगोंग में ITBP के साथ बहस करने की कोशिश की थी, जिसको ITBP ने नाकाम कर दिया।

अरुणाचल के असफिला इलाके में भारतीय सेना की पेट्रोलिंग पर चीन ने जताई आपत्ति

हांलांकि बिती कल यानी 8 अप्रैल को मिली जानकारी के अनुसार अरुणाचल प्रदेश के असफिला क्षेत्र में भारतीय सेना की पेट्रोलिंग को लेकर चीन ने कड़ी आपत्ति जताई है। तथा साथ ही चीन ने इस क्षेत्र में एक बार फिर से अपना दावा किया है। चीन ने इस क्षेत्र में भारतीय सेना की पेट्रोलिंग को अतिक्रमण करार दिया है। चीन का कहना है कि असफिला क्षेत्र उसका हिस्सा है। जबकि भारतीय सेना ने चीनी सेना के इन आरोपों और आपत्तियों को सिरे से खारिज कर दिया।

भारत ने रदद किया चीन का दावा

बहरहाल सूत्रों का कहना है कि चीन ने इस मुद्दे को 15 मार्च को Border Personal Meeting के दौरान उठाया, जिसे भारतीय सेना ने तुरंत उसे रदद कर दिया। यह बैठक किबिथू इलाके में चीन की तरफ दईमाई चैकी पर हुई। हांलांकि भारतीय सेना ने असफिला क्षेत्र में चीन के दावों को भी खारिज किया है। जबकि भारत का कहना है कि असफिला अरुणाचल प्रदेश के सुबनसिरी क्षेत्र का हिस्सा है और भारतीय सेना इस इलाके में लगातार पेट्रोलिंग करती आ रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *