भारत के दो विशाल अभियान : ‘वंदे भारत मिशन और मिशन समुद्र सेतु’

Written by

कोरोनावायरस महामारी के कारण कम से कम सात देशों में फंसे सैकड़ों भारतीय शनिवार को वंदे भारत मिशन,  भारत के विशाल अभियान के तहत एयर इंडिया की विशेष उड़ानों में स्वदेश लौट आएंगे।

वंदे भारत मिशन के तहत भारतीय नागरिकों को ले जाने वाली चार उड़ानें बांग्लादेश के ढाका से दिल्ली के लिए दोपहर 3 बजे, कुवैत से हैदराबाद के लिए 6:30 बजे, ओमान की मस्कट से कोचीन में 8:50 बजे और संयुक्त अरब अमीरात की शारजाह से लखनऊ 8:50 बजे पहुंचेगी।

चार और उड़ाने आएँगी कुवैत से 9:15 बजे कोचीन में, मलेशिया के कौला लामपुर से त्रिची 9:40 बजे, यूनाइटेड किंगडम के लंदन से 20 मई की सुबह 1:30 बजे और कतर के दोहा से कोचीन के लिए 1:40 बजे।

यह बड़े पैमाने पर वंदे भारत मिशन का पहला चरण है। यह 7 मई को शुरू हुआ और 13 मई तक चलेगा और इसमें यूएई, सऊदी अरब, कतर, बहरीन, कुवैत, ओमान, बांग्लादेश, फिलीपींस, सिंगापुर, मलेशिया, यूके और संयुक्त राज्य अमेरिका शामिल होंगे।

वंदे भारत के पहले सप्ताह में, 64 उड़ानों से 12 देशों के 15,000 भारतीय नागरिकों को घर लाने की उम्मीद है।

आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि भारत अगले सप्ताह से अपने वंदे भारत मिशन का विस्तार करेगा ताकि कजाकिस्तान, उज्बेकिस्तान, रूस, जर्मनी, स्पेन और थाईलैंड जैसे देशों से विदेश में फंसे नागरिकों को निकाला जा सके।

खाड़ी देशों से केरल तक की यात्रा और किराए के लिए सभी अंतरराष्ट्रीय यात्रियों से 15,000 रुपये से लेकर 16,000 रुपये तक शुल्क लिया जाएगा। लंदन से बचाव उड़ानों में 50,000 रुपये और यूएस से 1,00,000 रुपये खर्च होंगे।

अकेले पश्चिम एशिया में वापस आने के लिए कम से कम 300,000 लोगों ने पंजीकरण कराया है लेकिन अधिकारी केवल “सम्मोहक मामलों” पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं।

जो लोग वापस भारत आ रहे हैं,  उन्हें किन प्रक्रियाओं से गुजरना होगा

  1. सख्त स्क्रीनिंग प्रक्रियाओं से गुजरना होगा ।
  2. नागरिकों को विभिन्न राज्य सरकारों द्वारा स्थापित संस्थागत क्वारैंटाइन सुविधाओं के लिए भेजा जाएगा।
  3. आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करना होगा

क्या है मिशन समुद्र सेतु

कोरोना के कारण जारी Lockdown  के चलते विदेश में फंसे भारतीयों को हवाई जहाज और युद्धपोत से लाया जा रहा है। खाड़ी और दूसरे देशों से भारतीयों को लाने के लिए नेवी के 14 जहाज तैयार किए गए हैं। भारतीय नौसना का युद्धपोत INA जलाश्व 698 भारतीयों को लेकर मालदीव की राजधानी माले से केरल के कोच्चि के लिए रवाना हो चुका है। माले से पहला नौसैनिक जहाज 10 मई को कोचीन पोर्ट पहुंचने की उम्मीद है, कोच्चि में पोर्ट ट्रस्ट के अधिकारियों ने कहा।

 

Article Categories:
News

Comments are closed.

Shares