आगरा के IG के लिए क्यों 50,000 की सैलरी से बड़ा उपहार बन गया 500 रुपए का चेक ?

Written by

रिपोर्ट : कन्हैया कोष्टी

अहमदाबाद 10 अगस्त, 2019 (युवाPRESS)। भारतीय प्रशासनिक सेवा (IPS) से जुड़ने वाले किसी भी अधिकारी की प्रारंभिक मासिक बेज़िक सैलरी 56,100 रुपए होती है और यह अधिकतम् 2,25,000 तक हो सकती है। यदि बात की जाए एक पुलिस महानिरीक्षक (IG) की, तो उसका मासिक वेतनमान 37,400 से 67,000 रुपए होता है। इसके अलावा उसे ग्रेड पे के रूप में 10,000 रुपए मिलते हैं। आईजी की अधिकतम् मासिक सैलरी 2,18,000 रुपए तक हो सकती है।

हम आपको यहाँ एक आईजी के वेतन के बारे में इसलिए बता रहे हैं, क्योंकि हम बात उत्तर प्रदेश पुलिस के एक आईजी करने जा रहे हैं। आगरा रेंज के आईजी ए. सतीश गणेश का वास्तविक मासिक वेतन क्या होगा, यह तो हम नहीं जानते, परंतु वेतनमान से हम सहज ही अनुमान लगा सकते हैं कि उन्हें 37,400 से 67,000 के बीच ही कोई वेतनमान मिलता है। यदि औसत भी निकालें, तो भी आगरा रेंज के आईजी गणेश की मासिक सैलरी लगभग 50,000 रुपए बनती है, परंतु पिछले दिनों आईजी ए. सतीश गणेश को एक ऐसा उपहार मिला, जो उन्हें किसी सरकार या अधिकारी से मिले सम्मान से भी अधिक महत्वपूर्ण लगा। औसत 50 हजार रुपए की सैलरी पाने वाले आईजी ए. सतीश गणेश को यह उपहार एक आम आदमी ने भेजा है और उपहार में प्रशंसा पत्र तथा 500 रुपए का चेक भेजा गया है। 1996 की बैच के आईपीएस अधिकारी गणेश एक आदमी से मिले इस उपहार से बहुत खुश हैं और इसे अत्यंत महत्वपूर्ण बता रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘मुझे 23 वर्षों के करियर में अनेक मेडल, अवॉर्ड और सम्मान पत्र मिले, परंतु यह सबसे विशेष है।’

किसने और क्यों भेजा आईजी को उपहार ?

हुआ यूँ कि गत गुरुवार को आगरा रेंज पुलिस महानिरीक्षक (आईजी) ए. सतीश गणेश के घर एक लिफापा पहुँचा। इस लिफाफे में 500 रुपए का चेक और एक प्रशंसा पत्र था। गणेश को उस समय आश्चर्य हुआ, जब उन्हें पता चला कि चेक और प्रशंसा पत्र किसी वरिष्ठ अधिकारी या सरकार की ओर से नहीं, अपितु एक सामान्य नागरिक की ओर से भेजा गया है। लिफाफा भेजने वाले का नाम विजयपाल सिंह है। विजयपाल ने वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी गणेश के कामकाज से प्रसन्न होकर उन्हें यह पुरस्कार राशि भेजी है। विजयपाल ने लिखा, ‘मैं आपकी कार्यप्रणाली से अत्यंत प्रसन्न हूँ और आपको यह प्रशंसा पत्र व 5000 रुपए का चेक भेज रहा हूँ।’ विजयपाल ने पत्र में यह भी बताया कि वे आईजी गणेश के किस काम से प्रसन्न हैं ? वास्तव में हाल ही में आईजी गणेश एक रियलिटी टेस्ट के लिए मथुरा स्थित हाईवे पुलिस स्टेशन पहुँचे। गणेश आर्मी कर्नल के वेश में पहुँचे थे। उन्होंने थाने में लैपटॉप चोरी की प्राथमिक दर्ज कराई। थाने में मौजूद स्टेशन हाउस ऑफिसर (SHO) ने तुरंत उनकी फ़रियाद सुनी और प्राथमिकी (FIR) लिखने का निर्देश दिया। पुलिस की तत्काल कार्रवाई को देख आईजी गणेश अत्यंत खुश हुए और उन्होंने अपनी पहचान बता कर अधिकारी को सम्मानित किया। बस, विजयपाल सिंह को यही बात भा गई और उन्होंने आईजी गणेश को प्रशंसा पत्र व 500 रुपए का चेक भेजा, जो आईजी गणेश के लिए 50,000 की सैलरी से बड़ा उपहार बन गया।

Article Categories:
News

Comments are closed.

Shares