BE ALERT ! बैंकिंग सेक्टर में आज से बड़े बदलाव, जानिए आप पर क्या असर होगा ?

रिपोर्ट : तारिणी मोदी

अहमदाबाद, 1 नवंबर, 2019 (युवाPRESS)। बैंको के विलय को लेकर जहाँ एक और बैंक कर्मचारी आए दिन हड़ताल पर रहते हैं, वहीं दूसरी तरफ बैंक अपने नियमों पर लगातार परिवर्तन भी किए जा रही है। 1 नवंबर, 2019 यानी आज शुक्रवार से बैंक लेन-देन से जुड़े कई ऐसे नियमों में बदलाव करने जा रही है, जिससे अपका जीवन तो प्रभावित होगा ही, अपितु बैंक की कार्य प्रणाली पर भी असर पड़ेगा। दूसरी तरफ देश के सबसे बड़े सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने डिपॉज़िट पर ब्याज की दरों में बदलाव कर दिया है।

दरअसल कुछ राज्यों में सरकारी बैंकों की कार्य सारिणी में बदलाव किया गया है। साथ ही कारोबारियों के लिए भी वित्त मंत्रालय ने भुगतान लेने के नियमों में बदलाव किया है। बैंक के इस फैसले का असर 42 करोड़ ग्राहकों पर होगा। एसबीआई ने इस संबंध में 9 अक्टूबर को जानकारी दी थी। SBI की घोषणा के मुताबिक, एक लाख रुपए तक के डिपॉजिट पर ब्याज की दर 0.25 फीसदी घटाकर 3.25 फीसदी कर दी गई है। एक लाख रुपए से ज्यादा अगर आपके सेविंग्स अकाउंट में बैलेंस है तो उस पर ब्याज अब रेपो रेट के अनुसार मिलेगा।

1 नवंबर 2019 से कारोबारियों को डिजिटल पेमेंट लेना अनिवार्य होगा। इसके अलावा ग्राहक या मर्चेंट्स से डिजिटल पेमेंट के लिए कोई भी शुल्क या मर्चेंट डिस्काउंट रेट एमडीआर) नहीं वसूला जाएगा। नए नियम के अनुसार 50 करोड़ रुपए से ज्यादा के टर्नओवर वाले कारोबारियों के ऊपर ही यह नियम लागू होगा। नए नियम में कारोबारियों को इलेक्ट्रॉनिक मोड से भुगतान लेने पर अब कोई भी शुल्क या चार्ज नहीं देना होगा।

महाराष्ट्र में पब्लिक सेक्टर के सभी बैंक एक ही समय पर खुलेंगे और बंद होंगे। नई सारिणी के अनुसार महाराष्ट्र में अब बैंक सुबह 9 बजे खुलेंगे और शाम 4 बजे तक कामकाज होगा। गौरतलब है कि बैंकों का समय सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे तक होता है। हालाँकि, लेन-देन का काम दोपहर 3.30 बजे तक ही होता है। वित्त मंत्रालय ने बैंकों के कामकाज के समय को एक जैसा करने का निर्देश दिया था। पहले, एक ही इलाके में बैंकों के कामकाज के वक्त में अंतर होता था।

You may have missed