लद्दाख को एक और ‘शाही’ तोहफ़ा : अब कड़ाके की ठंड में भी सरपट दौड़ेगी गाड़ी

रिपोर्ट : तारिणी मोदी

अहमदाबाद, 18 नवंबर, 2019 (युवाPRESS)। जम्मू-कश्मीर से अलग कर लद्दाख को पृथक केन्द्र शासित प्रदेश बनाने के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने अब लद्दाख के विकास पर ध्यान केन्द्रित किया है। गत 31 अक्टूबर, 2019 को पृथक केन्द्र शासित प्रदेश के रूप में अस्तित्व में आए लद्दाख को गृह मंत्री अमित शाह ने एक और बड़ा उपहार दिया है। इस उपहार के चलते लद्दाख के लोगों की ठंड के मौसम में डीज़ल जम जाने के कारण आवागमन में पड़ने वाली बाधा दूर होने जा रही है। यह तो हम सभी जानते हैं कि कड़ाके की ठंड का गाड़ियों के इंजन असर होता है, परंतु जहा माइनस डिग्री में तापमान रहता हो, वहाँ तो इंजन फेल हो जाया करते हैं। यही स्थिति लद्दाख की है। लद्दाख में ठंड के मौसम में तापमान -10 से -15 डिग्री सेल्सियस तक नीचे गिर जाता है। लद्दाख में अप्रैल से टूरिस्ट सीजन शुरू होता है, जब लद्दाख में दिन का तापमान 25 डिग्री के आसपास रहता है। यद्यपि सर्दी में माइनस 15 डिग्री तापमान होने के बावजूद भी पर्यटक यहाँ आते हैं, परंतु गाड़ियों में डीज़ल जम जाने के कारण आवागमन-परिवहन सुविधा प्रभावित होती है। लद्दाख में प्रति वर्ष होने वाली इस समस्या से निपटने के लिए गृह मंत्री अमित शाह ने एक ऐसे डीज़ल को लॉन्च किया है, जो बर्फीले मौसम में भी इंजन को तरल रखेगा और गाड़ियों सरपट दौड़ाने में कारगर सिद्ध होगी।

भारतीय तेल निगम (IOC) की पानीपत रिफाइनरी में तैयार किये गये इस डीज़ल को सर्दी स्पेशल डीज़ल (Winter Grade Diesel) नाम दिया गया है। इसकी विशेषता यह है कि यह -33 डिग्री पर भी अपनी तरलता बनाए रखेगा, जिससे वाहन चलाने या अन्य ऊर्जा उपयोग में आसानी रहेगी। सर्दियों में लेह और लद्दाख के साथ ही कश्मीर के भी कई हिस्सों में यह समस्या आती थी कि वहाँ पर तापमान के शून्य से नीचे जाते ही डीज़ल जम कर बर्फ हो जाता था, जिससे वहाँ पर्यटन उद्योग के साथ-साथ घरेलू आवश्यकता में भी ईंधन की समस्या उत्पन्न हो जाती थी। केंद्रीय पेट्रोलियम और इस्पात मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा, ‘इंडियन आयॅल ने विंटर ग्रेड या सर्दी स्पेशल डीज़ल को विकसित किया है। इसमें लगभग 5 प्रतिशत बायोडीज़ल का मिश्रण किया गया है, जो डीज़ल को अत्याधिक सर्दी में भी जमने से रोकता है। यह विंटर ग्रेड डीज़ल भारतीय मानक ब्यूरो (ISI), बीआईएस के मानक के अनुरूप भी है। पहले चरण में इसे पानीपत से उपलब्ध कराया जाएगा, परंतु आने वाले समय में इसकी आपूर्ति को जालंधर से भी की जाएगी, ताकि लेह-लद्दाख के पूरे क्षेत्र में डीज़ल उपलब्धता की कोई कमी न हो।”

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली से वीडियो-कांफ्रेंसिंग के माध्यम से इसे विंटर ग्रेड डीज़ल को लॉन्च करते हुए कहा, ‘जम्मू- कश्मीर से धारा 370 को हटाने और जम्मू-कश्मीर तथा लद्दाख को अलग केंद्र शासित प्रदेश बनाना यहाँ के विकास के लिए जरूरी था। डिग्री कॉलेज, विश्वविद्यालय और नई ट्रांसमिशन लाइन का निर्माण होना इसका साक्ष्य है कि मोदी सरकार ने विकास का जो वादा किया था, उसे निभाया है। विंटर ग्रेड डीज़ल के लॉन्च होने से बर्फीले मौसम में भी वाहन चल पाएँगे। इससे यहाँ के मुख्य रोजगार यानी पर्यटन में अब कोई बाधा उत्पन्न नहीं होगी।”

You may have missed