अब भारत पाकिस्तान के बंकर और टैंकों पर दागेगा मिसाइल…

रिपोर्ट : तारिणी मोदी

अहमदाबाद, 29 नवंबर, 2019 (युवाPRESS)। वह दिन दूर नहीं जब भारत विकासशील देश की सूची से बाहर निकल कर एक विकसित देश के रूप में उभर कर सामने आयेगा। आधुनिकता और प्रोद्यौगिकी के क्षेत्र में भारत निरंतर प्रगति कर रहा है। भारत की दशा और दिशा दोनों में तेज गति से बदलाव हो रहा है। इसी विकास की एक और सीढ़ी चढ़ते हुए भारतीय सेना के कमांडर्स ने मध्यप्रदेश के महू में इन्फैंट्री स्कूल में स्पाइक एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल (Spike Anti Tank Guided Missiles) यानी एटीजीएम का सफल परीक्षण किया है। इस मौके पर सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत भी मौजूद रहे। एटीजीएम मिसाइल को इज़राइल की राफेल एडवांस डिफेंस सिस्टम (Rafael Advanced Defense Systems) ने विकसित किया है। कई बार इस डील को रद्द करने के बाद अंतत: भारतीय सेना की आवश्यकताओं और मिसाइल की माँग को देखते हुए तत्काल प्रभाव से स्पाइक मिसाइल को सेना में शामिल किया गया है। स्पाइक मिसाइल की सहायता से दुश्मनों के टैंक को युद्ध के मैदान में आसानी से नष्ट किया जा सकता है।

भारत ने 240 स्पाइक मिसाइलों के लिए इज़रायल के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किये थे। बालाकोट में वायु सेना की कार्रवाई के बाद ही स्पाइक मिसाइल के लिए समझौता हुआ था। भारतीय वायु सेना के बालाकोट ऑपरेशन के बाद स्पाइक टैंक मिसाइल का अधिग्रहण किया गया है। बालाकोट में सेना ने सर्जिकल स्ट्राइक करके जैश के आतंकी शिविरों को नष्ट किया था। जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से ही पाकिस्तान के साथ सरहद पर तनावपूर्ण माहौल है। पाकिस्तान की ओर से लगातार सीज़फायर का उल्लंघन किया जा रहा है। स्पाइक मिसाइल के सेना में शामिल किये जाने के बाद उम्मीद जताई जा रही है कि इससे कुछ हद तक पाकिस्तान दबाव में आएगा, अन्यथा भारतीय सेना उसके हर हमले का प्रत्युत्तर देने के लिए सज्ज रहेगी।

स्पाइक मिसाइल एलआर चौथी पीढ़ी की मिसाइल है, जो 4 किलोमीटर तक की दूरी पर सटीक निशाना लगा सकती है। स्पाइक मिसाइल में फायर करने की क्षमता, निगरानी और अपडेट करने की क्षमता है, जो पिनप्वाइंट पर फायर करने की सुविधा देती है। यह स्पाइक मिसाइल मध्य उड़ान के दौरान कई लक्ष्यों के लिए स्विच करने की क्षमता भी रखती है। इसे फायर करने वाले व्यक्ति के पास इसे लो या हाई ट्रजेक्टरी से फायर करने का विकल्प भी होगा। स्पाइक मिसाइल में एक इनबिल्ट सीकर (Seeker) होता है, जो इसे फायर करने वालों को दो मोड में प्रयोग करने की सुविधा देता है, जिसमें दिन में प्रयोग के लिए CCD व रात में प्रयोग करने के लिए IIR मोड शामिल है। डुअल सीकर स्पाइक मिसाइल की विश्वसनीयता को बढ़ाता है। स्पाइक टैंक रोधी मिसाइलें हैं, जिनको सीमा पर तैनात किया जाएगा, क्योंकि इसका प्रयोग बंकर-बस्टर मोड में भी किया जा सकता है। यह एक गाइडेड मिसाइल है, अर्थात मिसाइल की दिशा और लक्ष्य तय करने के बाद टारगेट पर निशाना साधना आसान होगा। वजन में हल्की होने के कारण इसे एक स्थान से दूसरे स्थान पर आसानी से ले जाया जा सकता है। इससे दुश्मनों के चलते हुए टैंक पर बिना किसी चूक के निशाना लगाया जा सकता है। मिसाइल दागने के बाद सैनिक अपनी पॉजिशन बदल सकते हैं। वर्तमान में इटली, जर्मनी, नीदरलैंड, पुर्तगाल, स्पेन, ऑस्ट्रेलिया और ब्रिटेन सहित कुल 26 देश इस मिसाइल का प्रयोग कर रहे हैं।

You may have missed