पेट्रोल की टेंशन छोड़िए : हैदराबाद के इस इंजीनियर ने बनाया पानी से चलने वाला इंजन

रिपोर्ट : तारिणी मोदी

अहमदाबाद 4 दिसंबर, 2019 (युवाPRESS)। विश्व में पेट्रोल, डीज़ल और कोयले का सबसे अधिक उपयोग किया जाता है, जिसमें उत्सर्जन के रूप में कार्बन डाइ ऑक्साइड होता है जो पर्यावरण को प्रदूषित कर रहा है। ऐसे में कई वैकल्पिक ऊर्जा स्रोतों की खोज़ की जा रही है। जरा सोचिए अगर पेट्रोल और डीज़ल का प्रयोग ही न हो तो ? पर्यावरण को कितना लाभ हो सकता है। यदि ऐसा हो जाए तो, बढ़ते ग्लोबल वार्मिंग की समस्या ही समाप्त हो जाएगी। आज हम आपको एक ऐसी ही टेक्नोलॉजी से परिचित कराने जा रहे हैं, जिससे पर्यावरण तो शुद्ध होगा ही, साथ ही देश में ईंधन की बढ़ती खपत व कमी की समस्या भी दूर हो जाएगी। हैदराबाद के सुंदर रमैया (Sunder Ramaiah) नाम के एक व्यक्ति ने एक ऐसे इंजन का आविष्कार किया है, जो न तो डीज़ल से चलेगा और न ही पेट्रोल से, अपितु यह इंजन पानी से चलेगा और गाड़ियों को सरपट सड़कों पर दौड़ाएगा। जी हाँ सही पढ़ा आपने। पानी से चलने वाला इंजन, जिसे वॉटर फ्यूल इंजन (Water Fuel Engine) नाम दिया गया है।

वैकल्पिक ऊर्जा स्रोत में सबसे शक्तिशाली साधन हाइड्रोजन को माना जाता है, जिसे हवा से बनाया जा सकता है। सुंदर ने हाइड्रोजन से ऊर्जा उत्पन्न करने के लिए पानी का उपयोग करके वैकल्पिक रास्ता निकाला है, क्योंकि पानी ऑक्सीजन (O) और हाइड्रोजन (H2O) का एक संयोजन है। HH + O में H2O को विभाजित करके हाइड्रोजन को एक उपभोज्य ऊर्जा के रूप में प्राप्त किया जा सकता है, जिसे एक ईंधन के रूप में उपयोग कर सकते हैं। सुंदर रमैया एक इंजीनियर हैं और हैदराबाद के रहने वाले हैं। रमैया ने अपने इस आविष्कार को सुंदर वॉटर फ्यूल टेक्नॉलजी (Sunder Water Fuel Technology) नाम दिया है। सुंदर रमैया ने दावा किया है कि उनके द्वारा बनाए गए इस इंजन से किसी भी प्रकार के वाहन को चलाया जा सकता है। सुंदर रमैया के इस इंजन मे 1 लीटर पानी का प्रयोग कर किसी भी वाहन को 30 किमी तक चलाया जा सकता है।

इंजन की विशेषता ये है कि यह धुएँ के स्थान पर ऑक्सीजन छोड़ेगा और इसलिए ये इंजन ग्लोबल वार्मिंग की समस्या से भी छुटकारा दिलाने में सहायक सिद्ध होगा, साथ ही इससे पर्यावरण में किसी भी प्रकार का प्रदूषण नहीं होगा। इस इंजन के प्रयोग से वाहन की लाइफ भी बढ़ जाएगी। इस दृष्टिकोण से देखा जाए, तो सुंदर रमैया का इंजन पर्यावरण के लिए लाभदायक सिद्ध होगा। सुंदर रमैया ने अपनी इस टेक्नोलॉजी को Sundar Water Fuel Technologies Llp नाम से 02 सितंबर, 2016 को निगमित एक लिमिटेड लायबिलिटी पार्टनरशिप फर्म के तौर पर पंजीकृत कराया था। सुंदर वाटर फ्यूल टेक्नोलॉजीज एलएलपी के नामित साझेदार सुंदर रमैया और बदावत सायजोथी हैं।

सुंदर रमैया का कहना है, ‘सुंदर जल ईंधन प्रौद्योगिकी एक स्टार्टअप नहीं है, क्योंकि हम एक विचार या प्रोटोटाइप को शुरू नहीं करते हैं। हमारे पास एक छोटे और सकल उद्योग में एक जीवित और परीक्षण की गई तकनीक है। हम एक बड़ा, सर्व-समावेशी, बहुत-दीर्घकालिक उद्योग बना रहे हैं।’ सुंदर रमैया ने प्रदूषण को कम करने और प्रकृति को संरक्षित करने के प्रयोगों पर दशकों तक अध्ययन, शोध और विकास कार्य किया है। उनके परिश्रम का ही परिणाम है कि आज सभी प्रकार के वाहनों और उद्योगों के उत्सर्जन को खत्म करने के लिए कार्बन को ख़त्म करने की तकनीक का एक अद्भुत निर्माण हुआ है। इसके अलावा सुंदर ने कार्बन एंटीडोट इंजेक्शन (Carbon Antidote Enjection) यानी CAE का भी आविष्कार किया है, जिसके प्रयोग से गाड़ी से निकले वाले कार्बन को कम किया जा सकता है। कार्बन एंटीडोट इंजेक्शन का प्रयोग करने वाले एक ग्राहक चिरंजीवी मियापुर का कहना है, ‘मैं अपेन ईंधन की शुद्धता और अपनी स्विफ्ट डिज़ायर (Swift Dizire) कार के प्रदर्शन में सुधार करना चाहता था। तभी मैंने सुंदर कार्बन एंटीडोट के बारे सुना। मैंने इस इंजेक्शन का प्रयोग अपनी कार में किया और केवल 15 मिनट में परिणाम सामने आ गए। मेरी कार की इंजन का कंपन चला गया और इंजन से निकलने वाला धुआँ भी काफी हद तक शुद्ध हो गया। सुंदर रमैया का कार्बन एंटीडोट इंजेक्शन हर प्रकार की गाड़ी के लिए उपलब्ध है।

You may have missed