बैंकों में‘दीवाली’कहीं आप न रह जाएँ खाली, इसीलिए पढ़ लीजिए यह ख़बर

Written by

रिपोर्ट : तारिणी मोदी

अहमदाबाद, 17 अक्टूबर, 2019 (युवाPRESS)। दीवाली आने वाली है और आपने तैयारियाँ भी शुरू कर दी होंगी, परंतु क्या आपने अपने बैंक से जुड़े सभी काम निपटा लिए हैं? यदि नहीं और आप ये सोच रहे हैं कि आराम से बैठें और बाद में अपने बैंक के काम निपटाते रहेंगे, तो आपको भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है। इसलिए अपने आलस्य को त्यागिए और सीधे पहुँचें अपने बैंक। आपके बैंक से जुड़े जितने भी महत्वपूर्ण काम हैं, उन्हें 22 अक्टूबर से पहले ही निपटा लें, क्योंकि अगर आपने देर लगाई, तो 6 दिनों तक आप बैंक के कोई भी काम नहीं कर पाएँगे। दरअसल बैंकिंग सेक्‍टर के बैंक यूनियन ने संयुक्त रूप से 22 अक्टूबर से बैंक में हड़ताल की घोषणा की है। यदि ये हड़ताल हुई, तो अलग-अलग जगहों पर कई बैंक बंद रहेंगे। अखिल भारतीय बैंक कर्मचारी संघ (AIBEA) और भारतीय बैंक कर्मचारी परिसंघ (BEFI) की ओर से बुलाई गई इस हड़ताल को भारतीय ट्रेड यूनियन कांग्रेस (AITUC) ने भी समर्थन दिया है।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 30 अगस्त, 2019 को 10 राष्ट्रीयकृत बैंकों का विलय कर चार बड़े बैंक बनाने की घोषणा की थी, जिसके तहत यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया (UBI) और ओरियंटल बैंक ऑफ कॉमर्स (OBC) का विलय पंजाब नेशनल बैंक में, सिंडिकेट बैंक (Syndicate Bank) का विलय केनरा बैंक (Canara Bank) में, इलाहाबाद बैंक (Allahabad Bank) का विलय इंडियन बैंक (Indian Bank) में और आंध्रा बैंक (Andhra Bank) और कॉरपोरेशन बैंक (Corporation Bank) को यूनियन बैंक ऑफ इंडिया में विलय करना तय किया गया था। विलय के बाद देश में पब्‍लिक सेक्‍टर बैंक (Public sector banks in India) यानी PSB के सिर्फ 12 बैंक रह जाएँगे, इससे पहले वर्ष 2017 में पब्‍लिक सेक्‍टर के 27 बैंक थे।

बैंकों के महाविलय के विरोध में ही बैंकिंग सेक्‍टर ने संयुक्त रूप से हड़ताल पर जाने का फैसला किया है। दरअसल बैंक कर्मचारियों को यह डर है कि बैंकों के विलय की असफलता का परिणाम उन्हें अपनी नौकरियाँ खो कर चुकाना पड़ेगा, जबकि निर्मला सीतारमण ने साफ शब्दों में कहा है कि बैंक विलय होने से किसी भी बैंक अधिकारी की नौकरी नहीं जाएगी। इसके अलावा यूनियन की मांग है कि बैंक का कामकाज सप्ताह में पांच दिन का ही हो और नकदी के लेन-देन के घंटों को कम किया जाए, इसके अलावा काम के घंटों को भी नियंत्रित किया जाए।

बैंक ने 22 अक्टूबर से 25 अक्टूबर तक हड़ताल की घोषणा की है, यानी 22, 23, 24 और 25 अक्टूबर को बैंक कर्मचारी हड़ताल पर रहेंगे, साथ ही 26 अक्टूबर को अंतिम शनिवार और 27 अक्टूबर को रविवार के चलते आप बैंक का कोई भी काम नहीं कर पाएँगे। अर्थात आप पूरे 6 दिनों तक बैंक के कोई भी काम नहीं कर सकेंगे। दिवाली के बाद 28 अक्टूबर को गोवर्धन पूजा के कारण देश के अलग-अलग क्षेत्रों में बैंक नहीं खुलेंगे। इसके अलावा 29 अक्टूबर को भैया दूज का त्योहार है, जिसके चलते बैंकों का कामकाज बंद रहेगा। बैंक अब मंगलवार 22 अक्टूबर के बाद बंद होकर बुधवार 30 अक्टूबर के खुलने की संभावना है।

Article Categories:
News

Comments are closed.

Shares