मुश्किल समय में समाज और जीवों के प्रति रखें दया भावना – अनंत गोस्वामी- श्री बांके बिहारी मंदिर वृन्दावन

Written by

आज दुनिया का हर व्यक्ति Coronavirus महामारी के चलते किसी न किसी परेशानी से जूझ रहा है, वहीं कुछ ऐसे भी व्यक्ति हैं जो खुद से ऊपर दूसरों की सेवा को रखते हैं। इस महामारी के चलते बहुत से ऐसे व्यक्ति सामने आए हैं जो बढ़-चढ़कर दूसरों की सेवा करने को तैयार हैं बहुत से ऐसे समाजसेवी है जो रोज लोगों को खाना खिला रहे हैं, कुछ मजदूरों को घर पहुंचा कर सेवा कर रहे हैं, तो कुछ पैसों के माध्यम से लोगों की मदद कर रहे हैं। इन्हीं में से एक ऐसे शख्स है जो जानवरों की सेवा को सर्वोपरि रखकर अपना कर्तव्य निभा रहे हैं। वह इस मुश्किल घड़ी में चाहते हैं कि कोई भी जानवर भूखा ना रहे।

इस मुश्किल समय में जहां एक तरफ जरूरतमंदों, गरीबों और बेसहारा लोगों के लिए प्रशासन और समाज से संस्थाओं ने भोजन एवं सामग्री उपलब्ध करवाई है लेकिन पशु पक्षी एवं जानवरों के लिए कोई भी भोजन की व्यवस्था नहीं हुई है। वह गर्मी में भटक रहे हैं इसीलिए अनंत गोस्वामी जी और उनके साथियों ऋषि गोस्वामी, संयम गोस्वामी, इन्दर शर्मा ,आशुतोष बांगा और सुनन्द का यह कार्य बहुत ही सराहनीय है।

उनकी इस पहल ने उन्हें एक सच्चा और अच्छा मनुष्य साबित किया है जो जरूरत पड़ने पर खुद से आगे दूसरों को रखता है और समाज सेवा को ही सर्वोपरि रखता है।

इस महामारी में आम आदमी बहुत परेशानी का सामना कर रहा है वही जानवर भी इससे दूर नहीं है, उन्हें खाने पीने की चीजें नहीं मिल रहीं क्योंकि लोग भी घरों में ही रहना सुरक्षित मान रहे हैं। इसी बीच वृन्दावन के अनंत गोस्वामी जी और उनके साथियों ने इसमें एक बहुत बड़ा योगदान दिया है।

अनंत गोस्वामी जी और उनके साथी रोज़ गायें को चारा, बंदरों को चने और केले और कुत्तों को टोस्ट खिलाते हैं। वह कहते हैं, अब तो जानवर भी उनका इंतजार में रहते हैं और वह जब भी जानवरों के पास पहुंचते हैं वह खुश होते हैं। वह सब जानवर उनसे बहुत प्यार करते हैं। इस तरह वह अपने समाज सेवी होने का कर्त्तव्य निभा रहे हैं।

अनंत गोस्वामी जी वृन्दावन में श्री बांके बिहारी मंदिर में श्री बांके बिहारी जी के पुजारी हैं। गोस्वामी जी समय समय पे गरीब ब्राह्मणो को भोजन और राशन की व्यवस्था भी करते रहे हैं ऐसे में वृन्दावन के बंदरों और जानवरों और पक्षिओं के प्रति भी उन्हे स्नेह और दया भावना के चलते वो यह सेवा कार्य करते हैं और दूसरों को भी इसके लिए प्रेरित करते हैं।
गोस्वामी जी का कहना है आप जयादा न हो पाए तो कम से कम एक गौ माता या अपने घर के आस पास घूमने वाले किसी भी जानवर को अगर कुछ भी खाने के लिए देंगे तो कोई भी भूखा नहीं रहेगा। बाँटने से कभी किसी का कुछ कम नहीं होता बल्कि प्रकृति उसे और ज़्यादा देती है , इसलिए अपने आसपास के प्रति दया भाव रखे।

Article Categories:
News

Comments are closed.

Shares