जम्मू-कश्मीर में सेना की इस साल की बड़ी कार्रवाई, 13 आतंकी ढ़ेर

Written by
Shopian District

श्रीनगरः- जम्मू-कश्मीर में स्थित Anantnag तथा Shopian District में आतंकवादी संगठनों के विरूध रविवार की रोज सुरक्षा बलों ने आतंकवाद रोधी तीन अभियानों में 13 आतंकवादियों को मार गिराया। जिसमें तीन जवान शहीद हो गए तथा चार नागरिकों भी आपनी जान गंवानी पड़ी। हांलांकि मारे गए आतंकवादियों में लेफिटनेंट उमर फयाज की नृशंस हात्या में शामिल आतंकवादी भी शामिल हैं। गोरतलब यह है कि कश्मीर में आतंकवादी समूहों को एक बड़ा झटका देने वाले इन अभियानों को दोनों जिलों में शनिवार रात से प्रारंभ किया गया था और कल यानी रविवार शाम तक जारी रहा। इस बीच अधिकारियों ने जानकारी देते हुए बताया कि अनंतनाग जिले के दयालगाम में एक आतंकवादी मारा गया एंव एक अन्य को गिरफतार किया गया। हांलाकि द्रगाद में सात आतंकवादी मारे गए। इतना ही नहीं Shopian District के काचदुरू इलाके में पांच आतंकवादियों को मार गिराया। मारे गए 13 आतंकवादियों में से 11 की पहचान कर ली गई है। पहचान किए गए सारे आतंकवादी स्थानिये हैं।

घर में छिपे थे आतंकवादी

इस बीच पुलिस अधिकारियों ने जानकारी देते हुए बताया कि काचदुरू में स्थानीय लोग समीर अहमद लोन का शव ले गए, जो कि हाल में हिजबुल मुजाहिदीन में शामिल हुआ था। हांलांकि उसके परिवार ने बाद में पुलिस को सूचित किया कि उसे दफना दिया गया है। जबकि काचदुरू क्षेत्र में सेना के तीन जवान शहीद हो गए और तीन नागरिक भी मारे गये हैं, तथा एक अन्य नागरिक भी आतंकवादियों के हाथों मारा गया जिसके के घर ये आतंकवादी छिपे हुए थे। दरअसल कानून एवं व्यवस्था की स्थिति और अलगाववादी संगठनों के बंद के आह्वान को ध्यान में रखते हुए पुलिस ने श्रीनगर शहर के सात पुलिस थानों और दक्षिण कश्मीर के इलाकों में पाबंदियां लगाई हैं। इसके अलावा सैयद अली शाह गिलानी, मीरवाइज उमर फारूक और यासीन मलिक समेत अलगाववादी नेताओं को नजरबंद किया गया है।

कश्मीर में इंटरनेट बंद

हांलांकि पुलिस अधिकारी ने जानकारी देते हुए बताया कि ऐहतियाती कदम के तौर पर कश्मीर के कई भागों में इंटरनेट सेवा निलंबित कर दी गई है। Inspector General of Police SP Pani ने कहा कि जम्मू कश्मीर पुलिस ने सेना और CRPF के साथ मिलकर बहुत जबर्दस्त काम किया है। दरअसल मारे गए आतंकवादियों में इश्फाक ठोकर, एहतेमद हुसैन और अकीब इकवाल शामिल है जो कि Shopian District में कई आतंकवादी गतिविधियों में लिप्त थे।

Top Police Officer का कहना है कि, ‘‘मैं दायलगाम मुठभेड़ का खास जिक्र करना चाहूंगा जहां हमारे SSP ने एक विशेष प्रयास किया, जैसा दुनिया में कहीं भी सुनने को नहीं मिलता है।’’ DGP ने कहा, ‘‘उन्होंने (एसएसपी ने) एक आतंकवादी के परिजन को फोन किया। उन्होंने उससे 30 मिनट तक बात की, ताकि उसे आत्मसमर्पण करने के लिए राजी किया जा सके।’’ उन्होंने कहा, ‘‘दुर्भाग्यवश, उसने अपने परिजन की सलाह नहीं मानी।

बहरहाल बातचीत के दौरान जिला SSP ने उसे समझाने की प्रयास की। मगर उसने पुलिस पर फायरिंग कर दी, जिसके बाद पुलिस के पास जवाबी कार्रवाई के सिवाय और कोई चारा नहीं था। काचदुरू में चल रही मुठभेड़ पर डीजीपी ने बताया कि वहां चार-पांच आतंकवादियों की मौजूदगी की सूचना थी, लेकिन ‘‘हम मलबे के साफ होने के बाद ही सही तस्वीर बता पाएंगे।’’ पुलिस प्रमुख कहना है कि द्रगाद में हुई मुठभेड़ में मारे गए सभी सात आतंकवादी स्थानीय निवासी थे और उनके परिवारों ने उनके शव मांगे हैं।

Article Categories:
News

Leave a Reply

Shares