फूलों से सजा बद्रीनाथ धाम आज सुबह 4.30 बजे खुले बद्रीनाथ के कपाट

Written by

शुक्रवार सुबह 4.30 बजे बद्रीनाथ धाम के कपाट खोल दिए गए। इसके लिए तैयारियां 3 बजे से शुरू हो गई थीं। यहां पहली पूजा PM Narendra Modi के नाम से हुई। पूजा में देश के कल्याण और आरोग्यता की प्रार्थना की गई। इस समय Coronavirus की वजह से Lockdown है, ऐसे में कपाट खुलते समय यहां 30 से भी कम लोग उपस्थित थे। इस दौरान गुरु शंकराचार्यजी की गद्दी, उद्धवजी, कुबेरजी की पूजा की गई। कपाट खुलने के बाद लक्ष्मी माता को परिसर स्थित मंदिर में स्थापित किया गया। भगवान बद्रीनाथ का तिल के तेल से अभिषेक किया गया।श्री बद्रीनाथ पुष्प सेवा समिति द्वारा 10 क्विंटल से अधिक फूलों से मंदिर को सजाया गया है।

Lockdown के नियमों का किया पालन

हर साल हजारों भक्तों के सामने यहां कपाट खोले जाते हैं, लेकिन इस साल Lockdown की वजह से कपाट खुलते समय लगभग 28 लोग ही उपस्थित थे। रावल नंबूदरी, धर्माधिकारी भुवनचंद्र उनियाल के अलावा यहां मंदिर समिति के सीमित लोग, शासन-प्रशासन के अधिकारी और कुछ क्षेत्रवासी यहां उपस्थित थे। सभी ने मास्क लगाया हुआ था और Social Distancing का पालन किया।

महामारी दूर करने के लिए की गई विशेष पूजा

कपाट खुलने के बाद बद्रीनाथ के साथ ही भगवान धनवंतरि की भी विशेष पूजा की गई। धनवंतरि आयुर्वेद के देवता हैं। दुनियाभर से इस महामारी को खत्म करने के ये पूजा रावल नंबूदरी द्वारा की गई। बद्रीनाथ का तिल के तेल से अभिषेक होता है और ये तेल यहां टिहरी राज परिवार से आता है। टिहरी राज परिवार के आराध्य बद्रीनाथ हैं। रावल राज परिवार के प्रतिनिधि के रूप में भगवान की पूजा करते हैं। यहां परशुराम की परंपरा के अनुसार पूजा की जाती है।

यहां बद्रीनाथ की पूजा करने वाले पुजारी को रावल कहा जाता है। आदि गुरु शंकराचार्य ने चारों धामों के पुजारियों के लिए विशेष व्यवस्था बनाई थी। इसी व्यवस्था के अनुसार बद्रीनाथ में केरल के रावल पूजा के लिए नियुक्त किए जाते हैं। सिर्फ रावल को ही बद्रीनाथ की प्रतिमा छूने का अधिकार होता है।

Article Tags:
·
Article Categories:
News

Comments are closed.

Shares