भारती परिवार दान करेगा 7000 करोड़

Written by
Bharti Foundation

विदेशों में एक परिपाटी रही है कि वहां बड़े-बड़े बिजनेस परिवार अपनी दौलत का एक बड़ा हिस्सा सामाजिक कार्यों के लिए दान करते हैं। अच्छी बात ये है कि अब ये परिपाटी भारत के रईसों में भी दिखाई देने लगी है। बता दें कि हाल ही में इंफोसिस के सह-संस्थापक सदस्य नंदन नीलकेणी और उनकी पत्नी ने अपनी जायदाद का आधा हिस्सा समाज कल्याण के लिए दान करने की बात कही थी। इस खबर के तुरंत बाद ही टेलीकॉम इंडस्ट्री के दिग्गज सुनील भारती और उनके भाईयों ने अपनी संपत्ति में से 7000 करोड़ रुपए समाज कल्याण के कार्यों में खर्च करने का ऐलान किया है।

बता दें कि भारती परिवार ने अपनी संपत्ति का कुल 10वां हिस्सा दान करने का फैसला किया है, जिसकी कीमत करीब 7000 करोड़ रुपए है। यह रकम भारती फाउंडेशन के तहत समाज कल्याण के कामों में खर्च की जाएगी। इसके साथ-साथ भारती परिवार “सत्य भारती यूनिवर्सिटी” के नाम से एक विश्वस्तरीय शिक्षण संस्थान भी शुरु करने जा रही है। एयरटेल के मालिक सुनील भारती का कहना है कि सत्य भारती यूनिवर्सिटी में वंचित और गरीब तबके के छात्र मुफ्त शिक्षा हासिल कर पाएंगे।

सुनील भारती का कहना है कि सत्य भारती यूनिवर्सिटी को दुनिया की दिग्गज यूनिवर्सिटीज की तर्ज पर बनाया जाएगा, जिसमें आर्टिफिशियल इंटेलीजेंसी, इंटरनेट और रोबोटिक्स जैसे आधुनिक विषयों की पढ़ाई करायी जाएगी। फिलहाल खबर है कि इस यूनिवर्सिटी का निर्माण उत्तर भारत में किसी जगह पर किया जा सकता है और इसके पहले अकादमिक सत्र की शुरुआत साल 2021 से शुरु हो जाएगी।

फिलहाल भारती परिवार यूनिवर्सिटी के लिए जमीन की तलाश कर रही है। टाइम्स नाउ के साथ बातचीत में सुनील भारती ने कहा कि देश में समाज कल्याण के कामों के लिए दान करने में काफी कानूनी अड़चनें हैं, ऐसे में सरकार को चाहिए कि वह इन कानूनी अड़चनों को दूर करे, ताकि भारत में भी सक्षम लोग समाज के विकास में योगदान दे सकें।

Bharti Foundation

नीलकेणी परिवार भी जुड़ा

गौरतलब है कि इससे पहले इंफोसिस के सह-संस्थापक नंदन नीलकेणी और उनकी पत्नी रोहिणी नीलकेणी ने भी The Giving Pledge संस्था के साथ मिलकर अपनी आधी संपत्ति दान करने का फैसला किया है। बता दें कि The Giving Pledge संस्था की शुरुआत साल 2010 में माइक्रोसॉफ्ट के मालिक बिल गेट्स उनकी पत्नी मेलिंडा गेट्स और दिग्गज उद्योगपति वारेन बफेट द्वारा की गई थी। इस संस्था का मकसद दुनिया के बड़े-बड़े रईसों को अपने साथ जोड़कर, उनके द्वारा दिए गए दान से दुनिया भर में समाज कल्याण के काम करना है।

The Giving Pledge  संस्था के साथ अभी तक कुल 4 भारतीय उद्योगपति परिवार जुड़ चुके हैं। नीलकेणी से पहले विप्रो के मालिक अजीम प्रेमजी, बायोकॉन की चेयरपर्सन किरन मजूमदार शॉ और शोभा डेवलेपर्स के चेयरमैन पीएनसी मेनन The Giving Pledge संस्था के साथ जुड़ चुके हैं।

Article Categories:
News

Leave a Reply

Shares