SHOCKING NEWS : क्या सिर्फ 7000 करोड़ रुपए के कर्ज के कारण अरबों की ज़िंदगी दाँव पर लगा दी सिद्धार्थ ने ?

Written by

* कैफे कॉफी डे के मालिक की गुमशुदगी से हड़कम्प

* पूर्व विदेश मंत्री एस. एम. कृष्णा के दामाद हैं सिद्धार्थ

रिपोर्ट : कन्हैया कोष्टी

अहमदाबाद, 30 जुलाई, 2019 (युवाPRESS)। कैफे कॉफी डे (CCD) में मौज-मस्ती करते हुए कॉफी तो पी होगी आपने ? अहमदाबाद में 20 से अधिक सीसीडी रेस्टोरेंट हैं और गुजरात में इनकी संख्या करीब 27 हैं। ऐसे में स्वाभाविक है कि अहमदाबाद के कई युवक-युवतियाँ हर रोज कैफे कॉफी डे में कॉफी पीने अवश्य जाते होंगे, परंतु क्या आप जानते हैं कि जिस सीसीडी रेस्टोरेंट में आप मस्ती से कॉफी पीते हैं, उसके मालिक पर 7000 करोड़ रुपए का कर्ज है ? कदाचित नहीं जानते होंगे आप, परंतु यह सत्य है और यह भी एक चौंकाने वाला सत्य सामने आया है कि कैफे कॉफी डे के मालिक अचानक लापता हो गए हैं।

सवाल यह उठता है कि कैफे कॉफी डे के मालिक वी. जी. सिद्धार्थ ने आत्महत्या कर ली है ? क्या केवल 7000 करोड़ रुपए के कर्ज के कारण उन्होंने अरबों रुपए मूल्य की ज़िंदगी को दाँव पर लगा दिया। पुलिस तो फिलहाल सिद्धार्थ की तलाश कर रही है। सिद्धार्थ कोई छोटे-मोटे कारोबारी नहीं हैं और उनकी पृष्ठभूमि पूर्व दिग्गज कांग्रेस नेता, भारत के पूर्व विदेश मंत्री, कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री और वर्तमान में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी-BJP) के वरिष्ठ नेता एस. एम. कृष्णा से जुड़ी हुई है। जी हाँ, सिद्धार्थ एस. एम. कृष्णा के दामाद हैं। सिद्धार्थ जन्म चिकमंगलुरू में हुआ था।

कहीं अमंगल न बन जाए मंगलवार ?

मंगलवार की सुबह कर्नाटक सहित पूरे देश में उस समय हड़कम्प मच गया, जब लोगों को यह पता चला कि कैफे कॉफी डे यानी सीसीडी के मालिक वी. जी. सिद्धार्थ लापता हो गए। सिद्धार्थ सोमवार को बेंगलुरू से यह कहते हुए निकले थे कि वे सकलेशपुर जा रहे हैं, परंतु रास्ते में उन्होंने अपने ड्राइवर बसवराज पटेल से सकलेशपुर की बजाए मेंगलुरू जाने को कहा। इसी दौरान नेत्रावदी नदी के पुल पर पहुँच कर सिद्धार्थ ने गाड़ी रुकवाई। वे कार से उतरे और ड्राइवर से चले जाने को कहा। यह बात सोमवार सायं 6.30 बजे की है अर्थात् सिद्धार्थ को अंतिम बार उनके ड्राइवर बसवराज ने सोमवार सायं 6.30 बजे देखा। इसके बाद से सिद्धार्थ लापता हैं और उनका मोबाइल फोन भी स्विच ऑफ आ रहा है। पुलिस को आशंका है कि कहीं सिद्धार्थ ने नेत्रावती नदी के पुल पर से ही नदी में छलांग लगा कर आत्महत्या तो नहीं कर ली ?

सीएफओ को अंतिम फोन, ‘कंपनी का ख्याल रखना’ !

सूत्रों ने बताया कि वी. जी. सिद्धार्थ का अंतिम फोन सीसीडी के सीएफओ को आया था। सिद्धार्थ ने सीएफओ से 56 सेकेंड बात की, जिसमें उन्होंने सीएफओ से कहा कि कंपनी का ख्याल रखना। जिस वक्त सिद्धार्थ अपने सीएफओ से बात कर रहे थे, काफी हताश थे। सीएफओ से बात करने के बाद उन्होंने अपना फोन स्विच ऑफ कर दिया। बताया जा रहा है कि सीसीडी पर 7000 करोड़ रुपए से अधिक का कर्ज है। आशंका व्यक्त की जा रही है कि कर्ज के इस बोझ के चलते सिद्धार्थ ने कदाचित नेत्रावती नदी में कूद कर जान दे दी।

सिद्धार्थ की ज़ोरों से तलाश

सिद्धार्थ के लापता होने की ख़बर मिलते ही कर्नाटक पुलिस हरकत में आ गई और नेत्रावदी नदी के पुल पर बड़ी संख्या में पुलिस बल पहुँच गया। पुलिस ने अपने गोताखोरों को नेत्रावदी नदी में उतार दिया है। खोजी कुत्तों की भी मदद ली जा रही है। जिस पुल से सिद्धार्थ लापता हुए हैं, उससे क़रीब 600 मीटर की दूरी पर ही समुद्र भी है, जहाँ सोमवार रात को हाईटाइड भी आया था। पुलिस ने सिद्धार्थ की तलाश के लिए सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया है। पूरी दक्षिण कन्नड पुलिस इस अभियान में जुट गई है। नदी में गोताखोर सिद्धार्थ की तलाश कर रहे हैं।

Article Categories:
Indian Business · News

Comments are closed.

Shares