क्या आप जानते हैं चीन और पाकिस्तान में कितने गधे हैं ?

Written by

रिपोर्ट : विनीत दुबे

अहमदाबाद, 27 अगस्त, 2019 (युवाPRESS)। वैसे तो मानव जाति गधे को सबसे मूर्ख प्राणी मानती है। गधों को लेकर कई तरह की किवदंतियाँ और कहावतें भी हमारे समाज में प्रचलित हैं, परंतु क्या आप जानते हैं कि दुनिया में सबसे अधिक गधे कहाँ पाये जाते हैं ? आपको जानकर हैरानी होगी, परंतु यह सत्य है कि गधों के मामले में भारत के दो पड़ोसी देश टॉप-3 में हैं। पहले स्थान पर चीन, दूसरे नंबर पर इथियोपिया और तीसरे स्थान पर पाकिस्तान है। एक और बात जो आपको आश्चर्यचकित कर सकती है वह ये कि सबसे अधिक गधों वाले इन दोनों देशों के बीच गधों को लेकर एक अहम सौदा भी हुआ है। इस सौदे के मुताबिक चीन पाकिस्तान में गधों की खेती करने वाला है। अब आप ये मत कहना ‘कर दी न गधों वाली बात।’ क्योंकि पाकिस्तान तो गधों की कमाई खाने की तैयारी कर चुका है।

सबसे अधिक गधों की आबादी वाला देश बनेगा पाकिस्तान

पाकिस्तान के पंजाब लाइव स्टॉक डिपार्टमेंट के आँकड़ों के मुताबिक अकेले लाहौर में गधों की संख्या 41 हजार के पार हो चुकी है। इस देश में जिस तेजी से गधों की संख्या बढ़ रही है, उसे देखते हुए अनुमान लगाया जा रहा है कि वह दिन दूर नहीं, जब पाकिस्तान दुनिया में सबसे अधिक गधों की आबादी वाला देश बन जाएगा। इसमें चौंकने वाली कोई बात नहीं है, क्योंकि खुद पाकिस्तान सरकार गधों की आबादी बढ़ाने के लिये काम कर रही है। गधों की बढ़ती तादाद को देखते हुए गधों का एक अस्पताल भी बनवाया गया है। दरअसल पाकिस्तान में लोगों की कमाई का जरिया भी गधे हैं। वहाँ के लोग दिन भर में गधों से 400 से 800 रुपये कमा रहे हैं। पाकिस्तानी मीडिया के अनुसार पाकिस्तान में गधों के व्यापार में लगे लोग गधों से काफी मुनाफा भी कमा रहे हैं। मीडिया के अनुसार पूरे पाकिस्तान में गधों की कीमत में भी तेजी से इजाफा हो रहा है। यहाँ गधों की नस्ल के हिसाब से उनकी कीमत तय होती है। पाकिस्तान में गधों की कीमत 35 से 50 हजार तक होती है। पाकिस्तान इकोनॉमिक सर्वे 2017-18 की रिपोर्ट में भी इस बात का जिक्र है कि देश में प्रति वर्ष एक लाख की रफ्तार से गधे बढ़ रहे हैं। अभी पाकिस्तान में गधों की संख्या 53 लाख से भी आगे निकल चुकी है। गधों की संख्या के हिसाब से वह दुनिया का तीसरा ऐसा देश है, जहाँ गधों की आबादी सर्वाधिक है। दूसरे नंबर पर इथियोपिया है। दरअसल पाकिस्तान में लगभग 80 लाख परिवार पशुपालन के काम में जुटे हुए हैं, जिनकी आय का 35 प्रतिशत हिस्सा पशुपालन से आता है। पाकिस्तान सरकार के अनुसार गधे केवल नकद कमाई का ही जरिया नहीं हैं, बल्कि ये ग्रामीण इलाकों में गरीबी हटाने और विदेशी मुद्रा कमाने का भी अहम जरिया हैं।

पाकिस्तान गधों से कैसे कमाता है विदेशी मुद्रा ?

पाकिस्तान चीन को गधे निर्यात करके पैसे कमा रहा है। गधे की खाल का चीन में बड़े पैमाने पर दवाइयों में उपयोग होता है। गधे की खाल से निकलने वाली जिलेटिन का कई प्रकार की महंगी दवाइयों में उपयोग होता है। गधों की माँग पूरी करने के लिये चीन अफ्रीका से गधे आयात करता है। निर्यात में कोई बाधा ना आये, इसलिये पाकिस्तान गधों की आबादी बढ़ाने की योजना पर काम कर रहा है। हाल ही में चीन ने पाकिस्तान के समक्ष 42.5 बिलियन कर्ज का प्रस्ताव रखा था, जिसके बदले में उसने पाकिस्तान से उसे सभी मौसम में गधे निर्यात करने की शर्त रखी थी। पाकिस्तानी मीडिया के अनुसार चीनी कंपनियाँ पाकिस्तान में गधे की खेती करने में भी दिलचस्पी ले रही हैं। इतना ही नहीं, अन्य विदेशी कंपनियाँ भी 3 बिलियन डॉलर तक का निवेश करने को तैयार हैं। पाकिस्तान को एक गधे की खाल से 18 से 20 हजार रुपये की कमाई हो रही है। इस हिसाब से देखा जाए तो पाकिस्तान को चीन के साथ सौदे से काफी मुनाफा हो रहा है। मुनाफे को देखते हुए ही पाकिस्तान ने 2017 में ‘गधा विकास कार्यक्रम’ में अरबों रुपये का निवेश भी किया था।

गधा उठा पायेगा पाकिस्तान की कंगाली का बोझ ?

आम तौर पर गधे को बोझा ढोने के काम में उपयोग किया जाता है। पाकिस्तान के लिये गधा अर्थ व्यवस्था का अहम हिस्सा है। पाकिस्तान की अर्थ व्यवस्था हाल में जिस दौर से गुजर रही है, उसे देखते हुए लगता नहीं कि पाकिस्तानी गधा अपने देश की कंगाली का बोझा उठा पाएगा, क्योंकि पाकिस्तान आतंकवाद को लेकर दुनिया भर की पाबंदियाँ झेल रहा है और कोई भी देश उसे कर्ज देने के लिये आगे नहीं बढ़ रहा है, ऐसे में पाकिस्तान के पास कर्ज चुकाने के पैसे नहीं हैं और कर्ज दिन प्रति दिन बढ़ता जा रहा है। देश की माली हालत इतनी खराब हो चुकी है कि पाकिस्तान को पैसा कमाने के लिये लोगों के दफनाने पर भी टैक्स वसूलना पड़ रहा है। जीवनावश्यक वस्तुओं के दाम आसमान पर पहुँच गये और आम आदमी का जीना मुश्किल हो गया है।

Article Categories:
News

Comments are closed.

Shares