जेल में बंद अपराधी के नाम पर वोट मांग रहे राहुल : क्या बिहारी आएँगे झाँसे में ?

Written by

लोकसभा चुनाव 2019 के समर में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर विरोधियों की ओर से लगातार आरोपों की वर्षा हो रही है, परंतु मोदी का रथ दृढ़ता से आगे बढ़ रहा है। ऐसे में उल्टे विरोधी ही विचलित होने लगे हैं और सही गलत का फर्क भूल गये हैं। प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी बिहार में जेल में बंद एक अपराधी के नाम पर वोट माँगते नज़र आये। हालाँकि बिहारी मतदाता उनके झाँसे में आएँगे या नहीं, यह तो समय ही बताएगा।

बिहार के समस्तीपुर में महागठबंधन की संयुक्त चुनावी रैली को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि बिहार लालू प्रसाद यादव का अपमान नहीं सहेगा और चुनाव में बिहार के मतदाताओं से मोदी सरकार को जवाब मिलेगा। इस प्रकार राहुल ने न सिर्फ इस सभा में सजायाफ्ता अपराधी लालू प्रसाद यादव के नाम पर वोट माँगा बल्कि मोदी सरकार पर भी यह आरोप लगाने का प्रयास किया कि मोदी सरकार ने ही लालू को सजा दिलवाई है।

आपको बता दें कि लालू प्रसाद यादव बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और केन्द्र में रेल मंत्री रहे हैं। लालू प्रसाद यादव ने 1997 में जनता दल को तोड़कर अपनी पार्टी राष्ट्रीय जनता दल बनाई थी। जब 2009 की 15वीं लोकसभा में वह सारण-बिहार से सांसद थे, तब रांची में स्थित सीबीआई ने उन्हें बिहार के बहुचर्चित चारा घोटाले में गिरफ्तार किया था और विशेष सीबीआई अदालत ने उन्हें पांच वर्ष के कारावास की सजा सुनाई थी। उन्हें रांची की बिरसा मुण्डा सेंट्रल जेल में रखा गया है। चारा घोटाले में दोषी करार दिये जाने पर उन्हें लोकसभा के लिये अयोग्य ठहराया गया और उनकी लोकसभा की सदस्यता रद्द कर दी गई। उन पर 11 साल तक चुनाव लड़ने की पाबंदी भी लगाई गई है।

लोकसभा की सदस्यता रद्द की गई हो, ऐसे लालू पहले सांसद हैं। ऐसे कलंकित इतिहास वाले लालू प्रसाद यादव के नाम पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बिहार में वोट माँग कर अपनी पार्टी की मजबूरी को भी जाहिर किया है, क्योंकि बिहार में कांग्रेस ने लालू प्रसाद यादव की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल (राजद-RJD) के साथ गठबंधन किया है। कुछ अन्य छोटे दल भी उनके साथ महा गठबंधन में हैं। महागठबंधन के अपने साथी दलों को खुश करने के लिये राहुल गांधी को एक अपराधी का भी नाम जपना पड़ रहा है।

राहुल बिहार में जिस आरजेडी की बैसाखी लेकर लोकसभा चुनाव जीतने निकले हैं, वह बैसाखी कितनी कमजोर है, इसका एक दृष्टांत हाल ही में देखने को मिल चुका है, जब आरजेडी की एक चुनावी रैली का एक वीडियो वायरल हुआ, जिसमें आये लोग मोदी-मोदी के नारे लगा रहे थे और कह रहे थे कि वो सभा में आरजेडी के डूबते जहाज को देखने आये हैं और वोट तो मोदी को ही देंगे। उल्लेखनीय है कि बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू-JDU) और भाजपा के बीच गठबंधन की सरकार है और दोनों दल यहां मिलकर लोकसभा चुनाव लड़ रहे हैं, रामविलास पासवान की लोक जन शक्ति पार्टी (लोजपा-LJP) भी एनडीए का ही घटक दल है।

Article Categories:
News

Leave a Reply

Shares