दिल्ली कूड़े के टाइम बम पर हैः सुपीम कोर्ट

Written by
Waste management

नई दिल्ली: Supreme Court  ने Waste management के मामले को लेकर दिल्ली सरकार को कड़ी फटकार लगाते हुए, उन्होंने कहा कि पूरी दिल्ली कूड़े के टाइम बम पर बैठी हुई है लेकिन सरकार इस ओर कोई प्रभावी कदम नहीं उठा रही है। Supreme Court  ने इसको दिल्ली के लोगों के लिए गंभीर अन्याय बताया है। Supreme Court  का कहना है कि यही कूड़े राजधानी दिल्ली में सब बीमारियों की जड़ है। दिल्ली सरकार ने इस मामले की अपनी  Report में Confirmation नहीं की। इस पर  Supreme Court  ने दिल्ली से पूछा कि इससे निपटने के लिए क्या प्रभाव कदम उठाए जा रहे हैं।

गोरतलब यह इस सिलसिले में 12 जनवरी को Officers की बैठक हुई थी और 9 फरवरी को Supreme Court से समय मांगा गया था। फिल्हाल उसी पुरानी दलील को ही दाखिल कर दी गई। Supreme Court ने प्रभावी कदम बताने के लिए दिल्ली सरकार को चार हफ्ते का समय देने से इनकार कर दिया है। Supreme Court ने बताया इस मामले की सुनवाई 19 मार्च को होगी, तब तक Report  दाखिल करें।

Solid waste management  के मामल पर Supreme Court सुनवाई कर रहा है। जबकि पिछली सुनवाई में Supreme Court ने केंद्र सरकार और राज्यों को फटकार लगाई थी और कहा कि केंद्र के बनाए नियमों का राज्य ही पालन नहीं कर रहे हैं। इससे अच्छा केंद्र अपने नियमों को वापस ले लें।

हांलांकि Supreme Court ने केंद्र सरकार द्वारा दाखिल 845 पेज के हलफनामे पर कहा कि ये अपने आप में Solid waste है और हम कचरा ढोने वाले नहीं हैं। उन्होंने कहा कि दाखिल किए गए हलफनामे में ज्यादातर राज्यों को भेजे गए पत्र हैं। अगर दिल्ली को सफाई के मामले में रोल मॉडल मानोगे तो आप गलत हैं और इससे देशभर में प्रदूषण को लेकर भयावह हालात होंगे। Supreme Court ने दिल्ली सरकार से कहा था कि ऐसे Officers भेजिए जिसको इसके बारे में पता हो।

गोरतलब यह कि Supreme Court ने दिल्ली सरकार को कहा था कि पिछली बैठक की तमाम जानकारी कोट पेश करें। हांलांकि Supreme Court ने केंद्र सरकार और दिल्ली सरकार के हलफनामे को कबूल करने से इनकार कर दिया था। Supreme Court का कहना है कि हम जो आदेश देते है, कोई उसका पालन नहीं करता। Supreme Court ने देश भर में सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट को लेकर हर राज्य में एडवाजयरी कमेटी बनाने के निर्देश दिए थे और केंद्र को कहा था कि वो इनकी Report एक साथ कर Court में पेश करें।

Article Categories:
News

Leave a Reply

Shares