भाजपा का मास्टर स्ट्रोक : 3.26 करोड़ ग़रीबों के लिए की ऐसी घोषणा, जो ‘NYAY’ और नवीन दोनों पर पड़ सकती है भारी

कांग्रेस और उसके अध्यक्ष राहुल गांधी ने लोकसभा चुनाव 2019 में सरकार बनने पर देश के 20 करोड़ ग़रीबों के लिए न्यूनतम् आय योजना (NYAY) की घोषणा की है, जिसके तहत देश के प्रत्येक नागरिक की न्यूनत् मासिक आय 12,000 रुपए निर्धारित की जाएगी। राजनीतिक दृष्टि से यह घोषणा कांग्रेस के लिए महत्वपूर्ण और फायदेमंद साबित हो सकती है, परंतु बौद्धिक व आर्थिक दृष्टि से देखें, तो न्याय तर्कसंगत नहीं है, क्योंकि ऐसी योजना, जिसमें सरकार पैसे देने वाली हो, उसका फायदा उठाने के लिए हर कोई अपनी आय 12,000 से कम ही रखने की कोशिश करेगा। ऐसे में एक तरफ इस योजना से देश की अर्थ व्यवस्था को चोट पहुँचेगी, तो दूसरी तरफ ग़रीब को मेहनत की बजाए सरकार पर निर्भर रहने की लत लग जाएगी।

कांग्रेस भले ही न्याय को मास्टर स्ट्रोक मानती हो, परंतु असली मास्टरस्ट्रोक आज सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा-BJP) ने मारा है। भाजपा ने ओडिशा में एक ऐसा चुनावी वायदा किया है, जिसके तहत वहाँ सरकार बनने पर ओडिशा के 3.26 करोड़ ग़रीबों को सिर्फ 1 रुपए में गेहूँ-दाल-चावल मिलेगा। इस वायदे में कोई बुराई इसलिए नहीं है, क्योंकि इससे ग़रीब की मदद होगी। उसे सरकार के भरोसे रहने की लत नहीं पड़ेगी। भाजपा की इस घोषा से ओडिशा में राहुल की न्याय और नवीन पटनायक दोनों पर पड़ सकती है भारी।

धर्मेन्द्र प्रधान ने की घोषणा

केन्द्रीय मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने ओडिशा के कटक में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना (NFSA) के तहत अत्यंत गरीब लोगों को एक रुपये में 5 किलो चावल, 500 ग्राम दाल और नमक देने का बड़ा ऐलान किया है। अभी तक यह चावल 3 रुपये प्रतिकिलो के दाम से दिया जाता है, परंतु प्रधान के अनुसार यदि ओडिशा में भाजपा सरकार बनी, तो इतना ही दाल-चावल 1 रुपए में दिया जाएगा। राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना के तहत गरीबी रेखा से नीचे जीवन-यापन करनेवाले परिवारों को यह लाभ दिया जाता है। प्रधान की घोषणा से 3.26 करोड़ लोगों को मोदी सरकार के दोबारा आने पर दाल-चावल 2 रुपए सस्ता मिलेगा।

उल्लेखनीय है कि ओडिशा में विधानसभा चुनाव भी हो रहे हैं। इसीलिए धर्मेन्द्र प्रधान ने यह घोषणा की है। राष्ट्रीय खाद्य योजना के तहत सरकार की ओर से हर परिवार को भोजन उपलब्ध कराने की गारंटी दी जाती है। इस योजना के तहत बीपीएल और अंत्योदय के लाभार्थियों को 5 रुपये प्रतिकिलो के दाम से गेहूँ (आटा), 3 रुपये प्रतिकिलो के दाम से चावल व 1 रुपये प्रतिकिलो के दाम से अन्य मोटे अनाज उपलब्ध कराये जाते हैं। प्रति व्यक्ति मासिक 5 किलो और एक परिवार को अधिकतम 35 किलो अनाज उपलब्ध कराया जाता है।

केन्द्रीय मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान की ओर से अब एक रुपये में 5 किलो चावल, 500 ग्राम दाल और नमक दिये जाने के ऐलान से ओडिशा के 3.26 करोड़ लाभार्थियों को इसका लाभ मिलेगा।

उल्लेखनीय है कि धर्मेन्द्र प्रधान भाजपा के वरिष्ठ नेता हैं। विशेषकर ओडिशा में वह भाजपा के कद्दावर नेता हैं और संभव है कि राज्य में पार्टी की ओर से उन्हें अगले मुख्यमंत्री के रूप में प्रोजेक्ट किया जा सकता है। अभी वह मध्यप्रदेश से राज्यसभा के सांसद हैं और इससे पहले 2012 में बिहार से राज्यसभा के सांसद बने थे।

Leave a Reply

You may have missed