प्रधानमंत्री मोदी कह गये धोलेरा, अहमदाबाद, सूरत के साथ साथ पूरे गुजरात के विकास की गाथा

Written by

अहमदाबाद में ऐसी अनेकों परियोजनाएं हैं जो आज शहर की पहचान बन चुकी हैं। अहमदाबाद को भारत का पहला “World Heritage City” घोषित किया गया है। साबरमती रिवर फ्रंट हो, कांकरिया लेक-फ्रंट हो, वाटर एरोड्रम हो, बस रैपिड ट्रांजिट सिस्टम हो, मोटेरा में विश्व का सबसे बड़ा स्टेडियम हो, सरखेज का छह लेन – गांधीनगर हाईवे हो, अनेकानेक प्रोजेक्टस बीते वर्षों में बने हैं।अब अहमदाबाद के पास धोलेरा में नया एयरपोर्ट भी बनने वाला है। गुजरात सरकार ने अहमदाबाद और धोलेरा विशेष निवेश क्षेत्र (SIR) के बीच राज्य की पहली मोनोरेल परियोजना को हरी झंडी दी।

राज्य सरकार ने योजनाबद्ध स्मार्ट औद्योगिक शहर अहमदाबाद और धोलेरा के बीच 6,000 करोड़ रुपये के मास रैपिड ट्रांजिट सिस्टम (एमआरटीएस) परियोजना के लिए ड्राफ्ट प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) को मंजूरी दी है।

गुजरात सरकार ने भारत सरकार के DMIC (दिल्ली-मुंबई औद्योगिक गलियारा) परियोजना के तहत परियोजना के लिए वित्तीय और तकनीकी सहायता के लिए अनुमोदन प्राप्त कर लिया है। काम शुरू होने के 24 से 36 महीने में इस परियोजना के पूरा होने की उम्मीद है।

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने 18 जनवरी को अहमदाबाद मैट्रो रेल परियोजना के दूसरे चरण और सूरत मैट्रो रेल परियोजना की वीडियो कान्‍फ्रेंसिंग के जरिये आधारशिला रखी। इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा,”नए भारत का लक्ष्य, लोगों की आवश्यकताओं को समझते हुए, आकांक्षाओं को समझते हुए तेज गति से काम करते हुए ही प्राप्त किया जा सकता है।”

उन्होंने कहा ,”प्रगति की बैठकों में, मैं कोशिश करता हूं कि सभी स्टेकहोल्डर्स के साथ सीधा संवाद करके दशकों से अटके हुए प्रोजेक्ट्स का कोई हल निकल सके। बीते 5 साल में प्रगति की बैठकों में 13 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा के प्रोजेक्ट्स की समीक्षा हो चुकी है। इन बैठकों में देश के लिए जरूरी, लेकिन बरसों से अधूरी अनेक परियोजनाओं को Review करने के बाद उनका उचित समाधान किया गया है।”

Article Categories:
News

Comments are closed.

Shares