सुषमा के नक्श-ए-कदम पर चलेंगे ‘शंकर’ : संकट में फँसने वाले हर भारतीय की सहायता को रहेंगे तत्पर

Written by

अहमदाबाद, 3 जून, 2019 (युवाप्रेस डॉट कॉम)। देश के नये विदेश मंत्री सुब्रमण्यम जयशंकर ने अपने मंत्रालय का कार्यभार सँभालने के साथ ही अपने वादे निभाने की शुरुआत कर दी है। उन्होंने जब अपने मंत्रालय का कार्यभार सँभाला, तभी अपने ऑफिसियल ट्विटर हैंडल पर कहा था कि वह पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के नक्शे-कदम पर चलने का प्रयास करेंगे। सुषमा स्वराज भी ट्विटर पर हमेशा एक्टिव रहती थी और विदेश में फँसे लोगों की मदद के लिये हर पल तैयार रहती थी। जयशंकर ने भी ऐसा ही किया है।

नये विदेश मंत्री एस. जयशंकर को अपने मंत्रालय का कार्यभार सँभालने पर ढेरों बधाइयाँ और शुभकामनाएँ मिली थी, जिनके जवाब में जयशंकर ने ट्विटर हैंडल के माध्यम से धन्यवाद अदा किया और भरोसा दिलाया कि वह पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के नक्शे-कदम पर चलने का प्रयास करेंगे। सुषमा स्वराज भी हमेशा ट्विटर पर उपलब्ध रहती थी और मदद के लिये तैयार रहती थी, जिसके लिये उनकी खूब प्रशंसा भी होती रही है।

एस. जयशंकर को रिंकी नामक एक महिला ने टैग करके ट्वीट किया और मदद की गुहार लगाई। इस महिला ने ट्वीट करते हुए लिखा कि ‘मेरी बेटी दो साल की है। मैं उसे पाने के लिये छह महीने से संघर्ष कर रही हूँ। वह अमेरिका में है और मैं भारत में हूँ, कृपया मेरी मदद करें, मैं आपके जवाब का इंतज़ार कर रही हूँ।’

इस ट्वीट के बाद नये विदेश मंत्री जयशंकर ने इस महिला को तुरंत जवाब देकर मदद का आश्वासन दिया। एस. जयशंकर ने ट्वीट के जवाब में लिखा कि अमेरिका में हमारे राजदूत आपकी पूरी मदद करेंगे। आप अपनी सारी जानकारी उन्हें भेज दीजिये।

इसके बाद एक महालक्ष्मी नामक महिला ने भी ट्विटर के माध्यम से एस. जयशंकर से मदद माँगी। इस महिला ने विदेश मंत्री को ट्वीट करके लिखा कि वह परिवार के साथ जर्मनी और इटली की ट्रिप पर है, उसके पति और बेटे का पासपोर्ट उसके बैग में था, जो बैग के साथ चोरी हो गये हैं। उसके परिवार को 6 जून को भारत लौटना है, इसलिये कृपया मदद करें। इस ट्वीट का भी विदेशमंत्री ने महिला को जवाब दिया है।

इसी प्रकार एक अन्य महिला ने अपने पति को कुवैत से वापस बुलाने के लिये एस. जयशंकर को ट्वीट किया तो विदेश मंत्री ने इस महिला को भी तुरंत जवाब दिया और लिखा कि कुवैत में हमारे राजदूत इस पर काम कर रहे हैं, आप उनके संपर्क में रहिये।

इस प्रकार नये विदेश मंत्री पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के पदचिह्नों पर चल रहे हैं और उनसे मदद की गुहार लगाने वालों को तुरंत जवाब देकर उन्हें आश्वस्त कर रहे हैं। सुषमा स्वराज की भी इसके लिये हमेशा प्रशंसा होती रही है। सुषमा स्वराज से पाकिस्तान के एक परिवार ने भी मदद की गुहार लगाई थी, तो उन्होंने इसे तुरंत गंभीरता से लेते हुए परिवार की मदद की थी। उन्होंने परिवार को भारत का विजा उपलब्ध करवाकर परिवार के बीमार शख्स का भारत में उपचार करवाने में मदद की थी। इसके अलावा भूल से भारत से पाकिस्तान या पाकिस्तान से भारत की सीमा में घुस आने के मामलों में भी सुषमा स्वराज की कार्यशैली सराहनीय रही है। उन्होंने संयुक्त राष्ट्र में भारत की ओर से पाकिस्तान और चीन को मुँहतोड़ जवाब देने वाले तीखे वक्तव्य भी दिये हैं। अब जबकि विदेश मंत्रालय एस. जयशंकर के हाथों में है तो उन पर भारत के अलावा सभी प्रमुख देशों की भी नज़र है।

Article Categories:
News

Leave a Reply

Shares