केजरीवाल की ओछी राजनीति : गुटीय संघर्ष को दे दिया सांप्रदायिक रंग, जानिए गुरुग्राम के भोंडसी में वास्तव में हुआ क्या था ?

Written by

देश की राजधानी दिल्ली से सटे हरियाणा के गुरुग्राम में होली के दिन दो गुटों में संघर्ष हुआ। सोशियल मीडिया में इस संघर्ष का वीडियो जम कर वायरल हुआ और दिल्ली के मुख्यमंत्री तथा हरियाणा में अपनी आम आदमी पार्टी (AAP) को स्थापित करने की कोशिश में लगे अरविंद केजरीवाल को मौका मिल गया।

केजरीवाल ने सोशियल मीडिया और इसके बाद विभिन्न समाचार चैनलों में दिखाए गए वीडियो को देखने के बाद तपाक से ट्वीट कर दिया। उन्होंने घटना की सच्चाई जाने बिना एक छोटे से गाँव भोंडसी में घटी गुटीय संघर्ष की घटना के लिए सीधे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर निशाना साधा।

आप भी पढ़िए अरविंद केजरीवाल का ट्वीट :

इस ट्वीट के जरिए अरविंद केजरीवाल ने पूरी घटना को सांप्रदायिक रंग देने का प्रयास किया।

वास्तव में जिस मामले का केजरीवाल ने जिक्र किया, वह भोंडसी गाँव का है और मजे की बात यह है कि भोंडसी गाँव की इस घटना को जितना बड़ा रूप केजरीवाल ने दिया, उतनी गंभीरता से तो भोंडसी गाँव के लोगों ने भी इस घटना को नहीं लिया। क्रिकेट मैच को लेकर झगड़े होना हमारे देश में आम बात है। यह संयोग ही था कि भोंडसी गाँव में जो हुआ, उसमें दो गुटों में एक हिन्दू समुदाय का था और दूसरा मुस्लिम समुदाय का, लेकिन यह सांप्रदायिक झगड़ा नहीं, बल्कि गुटीय संघर्ष था।

फैक्ट चेक करने पर पता चला कि होली वाले दिन कुछ मुस्लिम बच्चे मैदान में क्रिकेट खेल रहे थे। एक हिन्दू लड़के ने उनसे कहा की उसे भी खेल में शामिल कर लो, लेकिन मुस्लिम लड़कों ने उसे गाली देते हुए मना कर दिया। जिससे उनमें झगड़ा हुआ और मुस्लिम बच्चों ने उस लड़के को इतनी बुरी तरह पीटा की कि उस लड़के के सिर में 15 टाँके आए।

दुःख इस बात का है कि उस समय कोई वीडियो बनाने वाला वहाँ नहीं था। वरना ये न्यूज ही ना बनती। फिर वही हुआ जो इस उम्र के लड़के अक्सर किया करते हैं। इस लड़के ने अपने कुछ दोस्तों को इकट्ठा किया और उनके घर की तरफ चले तो, घर के सदस्यों ने ऊपर से उन के ऊपर ईंट-पत्थर बरसाना शुरू कर दिया।

जब गाँव वालों को पता चला तो मामला उग्र हो गया और ग्रामीणों (जो इत्तेफाक से हिन्दू हैं) ने मुस्लिम लड़कों को उनके घर में घुस कर मारा। यहाँ किसी ने चतुराई का परिचय देते हुए इस मारपीट का वीडियो बना डाला और सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। वास्तव में यह घटना केवल दो गुटों के बीच की थी, लेकिन केजरीवाल ने इसे साम्प्रदायिक रंग दे दिया और मीडिया में भी भोंडसी में हिन्दू-मुस्लिम दंगे के रूप में यह घटना सुर्खियाँ बनाई गई।

भोंडसी में ही रहने वाले कुछ मुस्लिम लोगों का कहना है कि तकथाकथित धर्मनिरपेक्ष नेताओं ने पूरे देश में इस घटना के माध्यम से मोदी सरकार और हरियाणा की मनोहर लाल खट्टर सरकार को बदनाम करने का प्रयास किया।

Article Tags:
· · · · ·
Article Categories:
News

Leave a Reply

Shares