चारा घोटालाः तीसरे मामले में लालू यादव और जगन्नाथ मिश्र को जेल

Written by
Lalu Yadav

रांची। CBI Special Court ने चारा घोटाले (Fodder Scam) से जुड़े तीसरे मामले में भी RJD प्रमुख लालू प्रसाद (Lalu Yadav) यादव को दोषी ठहराया। लालू यादव को पांच साल कैद और 5 लाख जुर्माने की सजा सुनाई गई है। बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्र को भी 5 साल कैद और 5 लाख जुर्माने की सजा सुनाई गई है। चाइबासा कोषागार घोटाला 36 करोड़ रुपए का था। इस मामले में बहस 10 जनवरी को पूरी हो गई थी और कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। CBI के स्पेशल जज स्वर्ण शंकर प्रसाद ने Lalu Yadav को सजा सुनाई। पत्नी की मौत की वजह से आज की सुनवाई में जगन्नाथ मिश्र नहीं उपस्थित थे।

950 करोड़ रुपए का है चारा घोटाला

CBI की रिपोर्ट के मुताबिक 950 करोड़ रुपए के चारा घोटाले के तहत चाइबासा कोषागार से गलत तरीक से करीब 36 करोड़ रुपए निकाले गए थे। 1992-93 में 67 दफा गलत तरीक से चाइबासा कोषागार से 36 करोड़ रुपए निकाले गए थे। 1996 में इस मामले में FIR दर्ज की गई जिसमें Lalu Yadav, जगन्नाथ मिश्र समेत 76 लोगों को आरोपी बनाया गया। अब तक 14 आरोपियों की मौत हो चुकी है। कई आरोपी सरकारी गवाह बन गए। बता दें कि चाइबासा कोषागार से जुड़े अन्य मामले में लालू यादव को पहले ही 5 साल कैद की सजा मिल चुकी है। पिछले दिनों देवघर कोषागार घोटाला मामले में Lalu Yadav को 3.5 साल की सजा मिली थी।

देवघर कोषागार घोटाला मामले में फिलहाल जेल में बंद

देवघर कोषागार घोटाले में सजा मिलने के बाद Lalu Prasad Yadav रांची के बिरसा मुंडा जेल में बंद हैं। देवघर कोषागार घोटाला करीब 89.27 लाख रुपए का था। इस मामले में 6 जनवरी को CBI की स्पेशल कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया था। 1990 से लेकर 1994 के बीच देवघर कोषागार से फर्जीवाड़ा कर चारा के नाम पर 89.27 लाख रुपए निकाल लिए गए थे। इस मामले में 38 लोगों को आरोपी बनाया गया था। CBI कोर्ट ने इस मामले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्र, पूर्व मंत्री विद्या सागर निषाद, पीएसी के तत्कालीन अध्यक्ष ध्रुव भगत, हार्दिक चंद्र चौधरी, सरस्वती चंद्र और साधना सिंह को निर्दोष करार दिया था।

चाइबासा कोषागार घोटाला 33.67 करोड़ रुपए का

Fodder Scam में लालू यादव के खिलाफ कई मामले दर्ज हैं। चाइबासा कोषागार से 37.70 करोड़ की अवैध निकासी के मामले में Lalu Yadav को 5 साल की सजा सुनाई गई थी। हालांकि सुप्रीम कोर्ट से उन्हें जमानत मिल गई। 6 जनवरी 2018 को देवघर कोषागार से 89.37 लाख गबन के मामले में उन्हें 3.5 साल कैद और 10 लाख जुर्माने की सजा सुनाई गई। सजा के ऐलान के बाद से वे रांची के बिरसा मुंडा जेल में बंद हैं। Fodder Scam का तीसरा मामला चाइबासा कोषागार से 33.67 करोड़ रुपए के गबन का है। इस मामले में CBI ने 2001 में चार्जशीट दाखिल की थी। आज इस मामले में फैसला आया है।

चौथा मामला दुमका कोषागार से 3.31 करोड़ रुपए गबन का

Fodder Scam का चौथा मामला दुमका कोषागार से गलत तरीक से 3.31 करोड़ रुपए निकासी का है। इस मामले में 12 जनवरी को लालू यादव वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पेश हुए थे। मामले की सुनवाई अंतिम चरण में है। चारा घोटाला बिहार का सबसे बड़ा घोटाला है। इसमें पशुओं को खिलाने वाले चारा के नाम पर 950 करोड़ रुपए का गबन किया गया।

Article Categories:
News

Leave a Reply

Shares