जनादेश 2019 : रुझानों से रिजीजू तक 30 घण्टे छाए रहे नरेन्द्र मोदी

Written by

भाजपा के 14 उम्मीदवारों ने 5 लाख से अधिक अंतर से दर्ज की जीत, गुजरात के सी. आर. पाटिल सबसे आगे

अहमदाबाद, 26 मई, 2019। लोकसभा चुनाव 2019 की प्रक्रिया अब समाप्त हो चुकी है। इसी के साथ 10 मार्च से लागू हुई चुनावी आदर्श आचारसंहिता भी खत्म हो गई। लोकसभा चुनाव सात चरणों में हुए। पहला चरण 11 अप्रैल को आयोजित हुआ और अंतिम चरण 19 मई को आयोजित हुआ। 23 मई गुरुवार को मतगणना प्रारंभ हुई, जो शुक्रवार शाम 7 बजे तक चली। अंतिम लोकसभा सीट अरुणाचल पश्चिम थी, जिसके परिणाम सबसे अंत में आये। इस सीट पर भाजपा प्रत्याशी और निवर्तमान गृह राज्य मंत्री किरण रिजीजू ने जीत दर्ज की है, जिन्होंने अपने प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस प्रत्याशी और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री नबाम तूकी को लगभग पौने दो लाख वोटों से हराया है। ईवीएम में खराबी के चलते यहाँ वोटों की गिनती में समय लगा।

इस अंतिम सीट के परिणाम आने के साथ लोकसभा चुनाव में भाजपा की कुल सीटों की संख्या 303 हो गई, जबकि भाजपा सहित राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) के कुल विजयी उम्मीदवारों की संख्या 352 तक पहुँच गई। लोकसभा चुनाव 2019 में रिकॉर्ड 67.11 प्रतिशत मतदान हुआ।

सबसे बड़े विजेता सी. आर. पाटिल

रिकॉर्ड मतदान के साथ यदि रिकॉर्ड मतों से जीतने वाले उम्मीदवारों की बात करें तो पहली बार 16 उम्मीदवारों ने 4 से 6 लाख मतों के अंतर से भारी जीत दर्ज की। इनमें 14 भाजपा के हैं। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह भी इनमें शामिल हैं। गुजरात की नवसारी लोकसभा सीट के भाजपा प्रत्याशी सी. आर. पाटिल ने कांग्रेस प्रत्याशी धर्मेश पटेल को 6,89,668 वोटों के रिकॉर्ड मार्जिन से हराया। अभी तक मात्र एक बार ही कोई प्रत्याशी 6 लाख से अधिक मतों से हारा है और वह महाराष्ट्र के बीड लोकसभा सीट पर हुए उपचुनाव में प्रीतम मुंडे ने 2014 में अपने प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस के अशोक पाटिल को 6,96,321 वोटों से हराया था। प्रीतम को 9,22,416 वोट मिले थे। पूर्व केन्द्रीय मंत्री गोपीनाथ मुंडे के निधन के बाद इस सीट पर उपचुनाव हुए थे। सी. आर. पाटिल को कुल 9,69,430 वोट मिले हैं। उन्होंने पिछला चुनाव भी 5,58,116 मतों के अंतर से जीता था।

इसके बाद हरियाणा में करनाल सीट पर भाजपा प्रत्याशी संजय भाटिया ने 9,09,432 वोट हासिल करके कांग्रेस के कुलदीप शर्मा को 6,56,142 वोटों के अंतर से हराया। हरियाणा की ही फरीदाबाद सीट पर दोबारा चुनाव लड़ रहे भाजपा के कृष्ण पाल गुर्जर ने भी कांग्रेस प्रत्याशी अवतार सिंह भड़ाना को 6,38,239 वोटों के अंतर से हराया। कृष्ण पाल को भी 9,10,787 वोट मिले।

राजस्थान की भीलवाड़ा सीट से भाजपा के सुभाष चंद्र बहेड़िया ने कांग्रेस के रामपाल शर्मा को 6,12,000 वोटों से हराया। बहेड़िया को 9,36,065 वोट मिले हैं। प्रदेश की चित्तौड़गढ़ सीट से भाजपा के चंद्रप्रकाश जोशी ने कांग्रेस के गोपालसिंह शेखावत को 5,76,247 वोटों से हराया। जोशी को 9,79,946 वोट मिले हैं। वहीं, राजसमंद सीट से भाजपा की दिया कुमारी ने कांग्रेस के देवकीनंदन (काका) को 5,51,916 वोटों के अंतर से हराया। कुमारी को 8,58,690 वोट मिले।

इसके अलावा भाजपा अध्यक्ष अमित शाह समेत भाजपा के कुछ उम्मीदवारों ने 5 लाख से अधिक वोटों से प्रतिद्वंद्वंदियों को हराया। अमित शाह ने गुजरात की गांधीनगर सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी सी. जे. चावड़ा को 5,57,014 वोटों से हराया। इससे पहले आडवाणी ने इस सीट पर 4,83,121 वोटों से जीत दर्ज की थी।

गुजरात के ही सूरत में भाजपा की दर्शना जरदोश ने कांग्रेस के अशोक अधेवड़ा (पटेल) को 5,48,230 वोटों से हराया। जरदोश 7,94,133 वोट मिले थे। 2014 में भी जरदोश 5,33,190 वोटों से जीती थी। इसी प्रकार वड़ोदरा सीट से भाजपा प्रत्याशी रंजनबेन भट्ट ने कांग्रेस के प्रशांत पटेल को 5,89,177 वोटों से हराया है। रंजनबेन को 8,80,905 वोट मिले। 2014 में इस सीट से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 5,70,128 वोटों के अंतर से जीते थे।

मध्यप्रदेश की होशंगाबाद सीट से भाजपा प्रत्याशी उदय प्रताप सिंह को 8,76,911 वोट मिले और उन्होंने कांग्रेस के शैलेंद्र दीवान चंद्रभान सिंह को 5,53,682 वोटों के अंतर से हराया है। मध्यप्रदेश की ही इंदौर सीट से भाजपा के शंकर ललवानी ने कांग्रेस के पंकज संघवी को 5,47,754 वोटों के अंतर से हराया। ललवानी इस सीट पर सबसे ज्यादा वोट पाने वाले उम्मीदवार हैं। पिछले लोकसभा चुनाव में इस सीट से लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन 4,66,901 वोटों के अंतर से जीती थी। इसी प्रकार विदिशा सीट से विजेता भाजपा के रमाकांत भार्गव को 8,50,443 वोट मिले हैं। उन्होंने कांग्रेस के शैलेंद्र रमेशचंद्र पटेल को 5,03,084 वोटों के अंतर से हराया। इस सीट से 2014 में सुषमा स्वराज 4,10,698 वोटों के अंतर से चुनाव जीती थी।

दिल्ली पश्चिम लोकसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी प्रवेश साहिबसिंह वर्मा ने कांग्रेस के महाबल मिश्रा को 5,78,486 वोटों के अंतर से हराया। वर्मा को 8,62,058 वोट मिले।

उत्तरप्रदेश की गाजियाबाद सीट से भाजपा प्रत्याशी और केन्द्रीय मंत्री वी. के. सिंह ने सपा-बसपा-रालोद गठबंधन के उम्मीदवार सुरेश बंसल को 5,01,500 वोटों के अंतर से हराया। 2014 में भी सिंह इस सीट से 5,67,260 वोटों के अंतर से चुनाव जीते थे।

Article Categories:
News

Leave a Reply

Shares