अहमदाबाद वड़ोदरा समेत गुजरात में मूसलाधार बारिश, अब तक 56 मौतें

Written by

अहमदाबाद, 31 जुलाई, 2019 (युवाPRESS)। अहमदाबाद में पिछले दो दिन से रुक-रुक कर हो रही बारिश ने बुधवार शाम को रौद्र रूप धारण कर लिया। शाम को लगभग 6 बजे शुरू हुई मूसलाधार बारिश से पूरे शहर में जलभराव हो गया है। सड़कों पर घुटनों तक पानी भर जाने से वाहन आधे पानी में डूब गये हैं। ऑफिस-दफ्तरों से छूटने के समय हुई बारिश से सड़कों पर वाहनों की लंबी कतारें लग गई हैं और कई मुख्य मार्गों पर ट्रैफिक जाम से जन-जीवन अस्त व्यस्त हो गया है। इससे पहले दोपहर को बारिश ने वड़ोदरा शहर में कहर बरपाया है। राज्य में अभी तक बारिश से जुड़ी विभिन्न दुर्घटनाओं में मरने वालों का आँकड़ा 56 तक पहुँच चुका है।

अहमदाबाद, वड़ोदरा में बारिश का कहर

बुधवार को अहमदाबाद और वड़ोदरा में भारी बारिश ने जन-जीवन को पूरी तरह से छिन्न-भिन्न कर दिया है। पहले दोपहर में 2 से 4 बजे के बीच मात्र दो घण्टे में वड़ोदरा शहर में लगभग 6 इंच बारिश हुई, जबकि शाम 6 बजे तक 4 घण्टे में लगभग 10 इंच पानी बरसने से सड़कें नदियों में तब्दील हो गईं।

इधर शाम 6 बजे से अहमदाबाद में बारिश ने रौद्र रूप धारण किया, जिससे शहर के निचले इलाकों में पानी भर गया और सड़कों पर पानी नदियों की तरह बह रहा है। सड़कों पर पानी भरने से यातायात व्यवस्था ध्वस्त हो गई है और कई मुख्य सड़कों पर वाहन पानी में आधे डूब जाने से वाहनों की लंबी कतारें लग गई हैं और ट्रैफिक जाम के दृश्य देखने को मिल रहे हैं। शहर में भारी बारिश का कहर जारी होने से ऑफिस दफ्तरों में फँस गये हैं। जो लोग ऑफिस-दफ्तरों से घर जाने के लिये निकल चुके हैं, वह मार्गों में ट्रैफिक जाम में फँस गये हैं। कई जगहों पर गटरें ओवरफ्लो होने के दृश्य देखने को मिल रहे हैं। निचले इलाकों की कई सोसायटियों और बस्तियों में घरों में पानी घुसने की भी खबरें हैं। मूसलाधार बारिश से शाम से ही शहर में जन-जीवन अस्त व्यस्त हो गया है।

गुजरात में अब तक 56 लोगों की मौत

गुजरात में पिछले कुछ दिनों से कहर बनकर टूटी बारिश अब जान लेवा हो गई है। अब तक 56 लोगों की जान जा चुकी है। मौसम विभाग ने अगले दो दिन तक राज्य में भारी बारिश जारी रहने की चेतावनी दी है। इससे पूर्व दक्षिण और उत्तर गुजरात तथा सौराष्ट्र कच्छ के अलग-अलग जिलों में भारी बारिश से स्थिति बद से बदतर हो गई है। यहाँ बारिश के दौरान बिजली गिरने, पेड़ और मकान आदि गिरने की विभिन्न घटनाओं में 56 लोगों की मृत्यु हो चुकी है। इस प्रकार राज्य में बारिश अब जानलेवा बन चुकी है। कई जिलों में एनडीआरएफ की टीमें दूर-दराज के गाँवों में पानी के बीच फंसे लोगों को रेस्क्यू करके बचाने में जुटी हैं।

Article Categories:
News

Comments are closed.

Shares