VIDEOS : अमेरिका में मोदी का सम्मान, तो क्यों झल्लाया पाकिस्तान ?

Written by

रिपोर्ट : विनीत दुबे

अहमदाबाद, 22 सितंबर, 2019 (युवाPRESS)। एक तरफ दुनिया में भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को विभिन्न देशों से सम्मान पर सम्मान मिल रहे हैं, वहीं दूसरी ओर पाकिस्तान के पीएम इमरान खान को दुनिया में अपमान पर अपमान सहन करना पड़ रहा है। अब एक बार फिर उनके साथ ऐसा ही हुआ है। अमेरिका में हाउडी मोदी कार्यक्रम में भाग लेने पहुँचे भारतीय पीएम मोदी का एयर इंडिया के विमान से उतरने पर रेड कार्पेट बिछा कर अमेरिकी उच्च अधिकारियों ने स्वयं ग्रैंड स्वागत किया, वहीं दूसरी ओर रविवार को पाकिस्तानी पीएम इमरान खान सऊदी अरब के विमान से अमेरिका की धरती पर उतरे। हालाँकि उनके स्वागत के लिये मात्र एक फुट की रेड कार्पेट बिछाई गई थी। इतना ही नहीं, उनके स्वागत के लिये भी कोई अमेरिकी अधिकारी उपस्थित नहीं हुआ। खुद अमेरिका में स्थित पाकिस्तान के दूतावास के अधिकारियों ने इमरान खान का स्वागत किया। इससे एक बार फिर इमरान खान की बड़ी किरकिरी हो गई। इस अपमान से झल्लाए पाकिस्तान के बयानवीर रेल मंत्री शेख रशीद ने यहाँ तक कह दिया कि कश्मीर मामले में पाकिस्तान को अमेरिका पर भरोसा नहीं है। इस मामले में चीन ही पाकिस्तान का एक मात्र मित्र है। दूसरी ओर सोशल मीडिया पर भी इमरान खान का जम कर मज़ाक उड़ाया जा रहा है।

मोदी के लिये विमान से मोटरकार तक बिछी रेड कार्पेट

भारतीय पीएम नरेन्द्र मोदी जब एक सप्ताह के अमेरिकी दौरे पर शनिवार को ह्यूस्टन पहुँचे तो उनके स्वागत के लिये एयर इंडिया के विमान की सीढ़ी से लेकर जिस मोटर कार में वह होटल जाने के लिये रवाना हुए, वहाँ तक रेड कार्पेट बिछाई गई थी। इतना ही नहीं, अमेरिकी सरकार के कई उच्च अधिकारियों ने उपस्थित रह कर उनका पुष्पगुच्छ देकर भव्य स्वागत भी किया। इस बीच पुष्प गुच्छ से एक डंडी नीचे गिर गई, तो पीएम मोदी ने प्रोटोकॉल की परवाह किये बिना झुक कर उसे स्वयं उठाया और सहयोगी अधिकारी को दे दिया। ऐसा करते हुए पीएम मोदी ने दर्शाया कि वे कितने सरल स्वभावी हैं, जिन्हें अपने पद का कोई अभिमान नहीं है। उन्होंने ऐसा करके स्वच्छता के प्रति अपनी प्रतिबद्धता को भी प्रदर्शित किया, जिसे देख कर वहाँ उपस्थित अधिकारी भी आश्चर्य चकित हो गये थे।

अपने नहीं, सऊदी अरब के विमान में पहुँचे इमरान खान

दूसरी ओर पाकिस्तान के पीएम इमरान खान रविवार को सऊदी अरब के विमान से न्यू यॉर्क पहुँचे, तो उनके स्वागत के लिये वहाँ मात्र एक फुट की रेड कार्पेट बिछाई गई थी। इससे भी बड़ी फजीहत तो तब हुई जब अमेरिकी सरकार का कोई बड़ा अधिकारी उन्हें वैलकम कहने के लिये उपस्थित नहीं हुआ। अमेरिका में स्थित पाकिस्तानी दूतावास के अधिकारियों ने ही इमरान खान का स्वागत किया। यह देख कर पाकिस्तान के रेल मंत्री शेख रशीद झल्ला गये और बयानबाजी के लिये मशहूर शेख रशीद ने कश्मीर राग अलापते हुए कहा कि कश्मीर मामले में उन्हें अमेरिका पर भरोसा नहीं है, इस मामले में चीन ही पाकिस्तान का एक मात्र भरोसेमंद मित्र है। दरअसल, उनके बयान में भारतीय पीएम मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बढ़ती नजदीकियों को लेकर झल्लाहट स्पष्ट रूप से झलक रही थी। अमेरिका में भारतीय समुदाय की ओर से आयोजित हो रहे #Howdy Modi कार्यक्रम को दुनिया भर के मीडिया में जिस तरह से बड़े पैमाने पर तरजीह दी जा रही है, उसे भी पाकिस्तान पचा नहीं पा रहा है। इमरान के अपमान के बाद पाकिस्तान में ही वे सोशल मीडिया पर मजाक के पात्र बन गये हैं।

पाकिस्तानी पत्रकार नायला इनायत ने पाकिस्तानी पीएम इमरान खान पर तंज कसते हुए एक वीडियो शेयर किया, जिसमें उन्होंने पाकिस्तानी पीएम इमरान खान और भारतीय पीएम नरेन्द्र मोदी के बीच का अंतर बताया। इस वीडियो में साफ तौर पर दिख रहा है कि इमरान खान के स्वागत के लिये कोई अमेरिकी अधिकारी उपस्थित नहीं था।

बार-बार किरकिरी करवा रहा पाकिस्तान

आतंकवाद को पनाह देने का मामला हो, जम्मू कश्मीर मुद्दा हो या पाकिस्तान की खस्ताहाल अर्थ व्यवस्था का मसला हो। हर मामले में पाकिस्तान की दुनिया में बार-बार किरकिरी होती आई है, परंतु वह अपने गिरेबान में झाँकने को और सच्चाई का सामना करने को तैयार ही नहीं। यही कारण है कि सच्चाई से कोसों दूर भागने वाला पाकिस्तान बार-बार अपनी फजीहत करवाता है। अमेरिका द्वारा घोषित इनामी आतंकी हाफिज सईद पाकिस्तान में चुनाव लड़ने का दावा करता है। पुलवामा हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान के बालाकोट में घुस कर मौलाना अज़हर मसूद के आतंकी ठिकाने पर बम बरसाए और इसके बाद पाकिस्तान व चीन की लाख कोशिशों के बावजूद भारत, अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस सहित बड़े देशों के सहयोग से संयुक्त राष्ट्र से मौलाना अज़हर मसूद को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित करवाने में सफल रहा। आर्थिक मदद के लिये पाकिस्तानी पीएम इमरान खान ने अपने देश के दौरे पर आये सऊदी अरब के प्रिंस को खुश करने के लिये ड्राइविंग सीट पर बैठ कर उनकी गाड़ी भी चलाई, फिर भी इमरान को कुछ हाथ नहीं लगा। दूसरी ओर सऊदी अरब के उन्हीं प्रिंस ने अपने देश के सबसे बड़े नागरिक सम्मान से भारतीय पीएम मोदी का सम्मान करके पाकिस्तान को झटका दिया।

इससे पहले पाकिस्तान के कड़े विरोध के बावजूद इस्लामिक देशों के संगठन ने भारत की तत्कालीन विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को आमंत्रित करके भी पाकिस्तान को झटका दिया था। भारत की ओर से जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने के बाद बौखलाया पाकिस्तान कश्मीर मामले को लेकर संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद और संयुक्त राष्ट्र महासभा तक ले गया और दोनों ही जगह से उसे कुछ हासिल नहीं हुआ। वहाँ भी भारतीय प्रतिनिधियों से उसे खरी-खरी सुननी पड़ी। खुद पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने स्वीकार किया कि उसे कश्मीर मामले में अन्य देशों की तो छोड़िये इस्लामिक देशों का भी समर्थन नहीं मिल रहा है। इस प्रकार भारत के विरुद्ध पाकिस्तान को हर मोर्चे पर बार-बार फजीहत ही मिली है।

Article Categories:
News

Comments are closed.

Shares