यहाँ जानिये, किसके आने की आहट से डर गया SUPER POWER AMERICA

Written by

रिपोर्ट : विनीत दुबे

अहमदाबाद, 29 अगस्त, 2019 (युवाPRESS)। दुनिया का सुपर पॉवर अमेरिका को भी डर लगता है। डर ऐसी वस्तु है, जो किसी को भी अपने शिकंजे में ले सकता है, उसके बाहुपाश से कोई भी बाहर नहीं। यही कारण है कि अपने सुपर पॉवर के दम पर दुनिया को डराने वाला अमेरिका भी आजकल डर के चंगुल में फँसा है। इस डर ने अमेरिका को इतना भयभीत कर दिया है कि खुद राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को ट्वीट करके अपने लोगों को आगाह करना पड़ा है।

अमेरिका को डराने वाले इस डर का नाम है चक्रवाती तूफान ‘हरिकेन’

भीषण चक्रवाती तूफान हरिकेन डोरियन अमेरिका के फ्लोरिडा की ओर तेजी से बढ़ रहा है। यह तूफान प्यूर्टो रिको के निकट पहुँच चुका है। इस तूफान की आहट से अमेरिका भयभीत है और खुद इस सुपर पावर राष्ट्र के प्रमुख डोनाल्ड ट्रंप को ट्वीट करके इस तूफान की जानकारी फ्लोरिडा के लोगों को देनी पड़ी। उन्होंने ट्वीट में लोगों को अलर्ट रहने के लिये कहा है और लिखा है कि ‘प्यूर्टो रिको के पास हरिकेन डोरियन तूफान पहुँच चुका है। यह बुरी खबर है। फ्लोरिडा के लोग तैयार रहो। तूफान आने वाला है। यह तूफान भीषण रूप ले सकता है।’

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सरकारी महकमे के लिये भी निर्देश जारी किये हैं। उन्होंने कहा कि हरिकेन डोरियन तूफान रविवार देर रात तक फ्लोरिडा में दस्तक दे सकता है। फ्लोरिडा के लोगों को इस तूफान का सामना करने के लिये तैयार रहना होगा और राज्य सरकार को केन्द्र सरकार के निर्देशों का पालन करना होगा। यह तूफान भयंकर तबाही मचा सकता है।

पहले भी तूफान मचा चुके हैं तबाही

इससे पहले वर्ष 2017 में फ्लोरिडा में इरमा नामक तूफान तबाही मचा चुका है, जिसमें कई लोगों की मौत हो गई थी। उल्लेखनीय है कि पिछली बार जब फ्लोरिडा में तूफान आया था, तो भारतीय मूल के हजारों अमेरिकी नागरिकों समेत लाखों लोगों को राज्य से बाहर निकाला गया था। इसके अलावा जारी वर्ष की शुरुआत में अमेरिका के अलबामा और जॉर्जिया शहर में बवंडर ने भारी तबाही मचाई थी, जिसकी चपेट में आने से दो दर्जन से अधिक लोगों की मृत्यु हो गई थी। इस बवंडर में कई घर पूरी तरह से तबाह हो गये थे। बवंडर से अकेले अलबामा में 22 लोगों की मृत्यु हुई थी और कई लोग घायल हो गये थे।

इससे पहले अक्टूबर-2018 में फ्लोरिडा में तूफान माइकल ने तबाही मचाई थी, जिसमें 29 लोगों की जान गई थी। जबकि पूरे अमेरिका में इस तूफान ने 39 लोगों को काल का ग्रास बनाया था। तूफान से जॉर्जिया, उत्तरी कैरोलिना और वर्जीनिया में 10 लोगों की मौत हुई थी। मैक्सिको तट पर तूफान के प्रचंड रूप धारण करने से अनेक घर बरबाद हो गये थे, नौकाएँ पलट गई थी और बिजली के तारों को तथा सड़कों को भारी क्षति पहुँची थी।

उससे भी पहले सितंबर-2018 में तूफान फ्लोरेंस ने कैरोलिना में तबाही मचाई थी। जबकि अक्टूबर-2017 में प्यूर्टो रिको में आये तूफान मारिया की वजह से लगभग 73,000 लोगों को अपने घर छोड़कर फ्लोरिडा जाना पड़ा था।

Article Categories:
News

Comments are closed.

Shares