‘महा’ संकट के बीच राजकोट में नहीं होगी रैन, रन बरसाएँगे क्रिकेट महारथी

रिपोर्ट : विनीत दुबे

अहमदाबाद, 7 नवंबर, 2019 (युवाPRESS)। एक ओर गुजरात पर चक्रवाती तूफान ‘महा’ का संकट बना हुआ है, वहीं दूसरी ओर राजकोट में गुरुवार को आसमान साफ है और मौसम विभाग ने भी कहा है कि राजकोट में बारिश होने के कोई आसार नहीं हैं। मौसम विभाग की ओर से मिली हरी झंडी के बीच भारत की नीली जर्सी शाम को राजकोट के बाहरी इलाके खंडेरी में स्थित सौराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन के मैदान पर दनादन रन बरसाने के उद्देश्य से उतरेगी। राजकोट की पिच रनों के लिहाज से बैटिंग पिच कहलाती है और यहाँ टी-20 में 190 से अधिक औसत रन बनते हैं। इसके अलावा दूसरी इनिंग में पिच धीमी होने का भी रिकॉर्ड है। ऐसे में जो भी टीम टॉस जीतेगी, वो पहले बल्लेबाजी करना पसंद करेगी। भारत की ओर से पहला 100वाँ टी-20 मैच खेलने जा रहे कप्तान रोहित शर्मा और उनके जोड़ीदार शिखर धवन के अलावा केएल राहुल और श्रेयस अय्यर पर सबकी निगाहें टिकी हैं। राजकोट वासियों पर क्रिकेट फीवर छाया हुआ है। शहर की हर सड़क आज स्टेडियम की ओर जा रही है।

सीरीज़ में बांग्लादेश की टीम 1-0 से आगे

भारत और बांग्लादेश के बीच 3 टी-20 मैचों की सीरीज़ का पहला मैच 3 नवंबर रविवार को दिल्ली के अरुण जेटली क्रिकेट स्टेडियम में खेला गया था, जिसमें बांग्लादेश की कसी हुई गेंदबाजी के सामने भारतीय बल्लेबाज रन बनाने के लिये तरस गये थे और यह मैच बांग्लादेश के विकेटकीपर बल्लेबाज मुशफिकुर रहीम की नॉट आउट इनिंग की बदौलत बांग्लादेश ने जीत लिया था। इसी के साथ बांग्लादेश की टीम ने सीरीज़ में 1-0 से बढ़त बना ली है। गुरुवार को बांग्लादेश की टीम दूसरा मैच जीतकर सीरीज़ जीतने के उद्देश्य से मैदान पर उतरेगी। दूसरी तरफ भारतीय टीम लंबे अर्से से लगातार दो मैच नहीं हारी है। इस रिकॉर्ड को आज भी बरकरार रखना चाहेगी। इसके अलावा वह ये मैच जीत कर सीरीज़ में बराबरी करना चाहेगी। यदि भारत यह मैच जीत जाता है तो 10 नवंबर को नागपुर में खेला जाने वाला सीरीज़ का तीसरा और अंतिम मैच रोमांचक हो जाएगा।

सीरीज़ जीत कर इतिहास रचना चाहेगी बांग्लादेशी टीम

भारत और बांग्लादेश की टीमों ने अभी तक 9 टी-20 मैच खेले हैं, जिनमें से 8 मैच भारत ने जीते हैं और बांग्लादेश को एकमात्र जीत हासिल हुई है। ऐसे में सीरीज़ के इस दूसरे मैच में भारतीय टीम का पलड़ा भारी नज़र आ रहा है। इसके बावजूद क्रिकेट अनिश्चितताओं का खेल है और इसमें कब किसका पासा पलट जाए, यह नहीं कहा जा सकता। सीरीज़ के प्रथम मैच के समय भी भारत का पक्ष मजबूत बताया जा रहा था, परंतु बांग्लादेश की टीम ने पहले गेंदबाजी और फील्डिंग के बाद बल्लेबाजी में भी अच्छा प्रदर्शन करके मैच अपने पक्ष में कर लिया था। पहला मैच जीतने से बांग्लादेशी टीम का हौसला बुलंद है। बांग्लादेश की टीम दूसरा मैच जीत कर भारत के विरुद्ध सीरीज़ जीत का इतिहास रचना चाहेगी। ऐसे में टीम इंडिया के लिये इस मैच को जीतना आसान नहीं होगा। इस मैच को जीतने के लिये भारत को भी तीनों क्षेत्रों में श्रेष्ठ प्रदर्शन करना होगा। दूसरी ओर कप्तान विराट कोहली की अनुपस्थिति में टीम इंडिया की कप्तानी सँभाल रहे रोहित शर्मा अपनी कप्तानी में बांग्लादेश से सीरीज़ हार का दाग अपने दामन पर नहीं लगने देना चाहेंगे। इसके अलावा वे आज अपना 100वाँ टी-20 मैच भी खेल रहे हैं। इस मैच में मैदान पर उतरने के साथ ही वे 100 टी-20 मैच खेलने वाले दुनिया के दूसरे और भारत के प्रथम बल्लेबाज बन जाएँगे। उनसे पहले पाकिस्तान के सीनियर बल्लेबाज शोएब मलिक ने 111 टी-20 मैच खेले हैं, जबकि शाहिद आफरीदी और रोहित शर्मा ने 99-99 मैच खेले हैं। भारत के पूर्व कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी ने 98 टी-20 मैच खेले हैं।

मौसम के साथ पिच भी अनुकूल

राजकोट क्रिकेट स्टेडियम की बात करें तो यहाँ अभी तक 2 टी-20 मैच खेले गये हैं। जिनमें से एक में भारत ने जीत हासिल की है, जबकि मैच में पराजित हुआ है। 2013 में इस मैदान पर युवराज सिंह ने ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध सर्वाधिक 77 रन नाबाद बनाये थे। राजकोट की पिच हमेशा ही बल्लेबाजी के अनुकूल रही है। इस पिच पर तेज गेंदबाजों को भी मदद मिलती है।

स्मृति की तूफानी पारी से महिला टीम ने जीती सीरीज़

उधर पैर के अँगूठे में लगी चोट की वजह से सीरीज़ के प्रथम दो मैच नहीं खेल पाने वाली स्मृति मंधाना और जेमिमाह रॉड्रिग्स के अर्ध शतकों की मदद से भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने वेस्ट इंडीज़ के विरुद्ध 3 मैचों की वनडे सीरीज़ 2-1 से जीत ली है। मिताली राज की कप्तानी वाली भारतीय टीम की स्मृति मंधाना ने सीरीज़ के तीसरे और अंतिम मैच में 63 गेंदों में 9 चौके और 3 छक्कों की मदद से 74 रनों की शानदार पारी खेली। जबकि उनकी साथी सलामी बल्लेबाज जेमिमाह रॉड्रिग्स ने 92 गेंदों में 69 रन बना कर स्मृति के साथ 141 रनों की साझेदारी की और कैरेबियाई आक्रमण की धुलाई कर दी। इससे पहले भारतीय गेंदबाजी ने मेजबान टीम को 50 ओवरों में मात्र 194 रनों पर समेट दिया। बाद में 42.2 ओवर में 195 रन बना कर 6 विकेट से मैच जीत लिया। टॉस जीत कर पहले बल्लेबाजी चुनने वाली कैरेबियाई टीम को भारत की अनुभवी गेंदबाज झूलन गोस्वामी और लेग स्पिनर पूनम यादव ने 2-2 झटके दिये। स्मृति मंधाना इसी के साथ वनडे में सबसे तेज 2000 रन बनाने वाली दूसरी भारतीय महिला क्रिकेटर बन गई हैं। यह मैच वेस्ट इंडीज़ के एंटीगा में सर विवियन रिचर्ड्स क्रिकेट स्टेडियम में खेला गया था, जहाँ स्मृति ने यह सफलता अर्जित की। स्मृति ने 51 पारियों में यह सफलता प्राप्त की। इसी के साथ वे विश्व की सबसे तेज 2 हजार रन बनाने वाली तीसरी खिलाड़ी बन गईं। इस सूची में सबसे ऊपर ऑस्ट्रेलिया की बेलिंडा क्लार्क हैं, जिन्होंने 41 पारियों में 2000 रन पूरे किये, उनके बाद मेग लेनिंग ने 45 पारियों में 2 हजार रन पूरे किये हैं। मंधाना के बाद टीम इंडिया के एक मात्र शिखर धवन ही ऐसे क्रिकेटर हैं, जिन्होंने 48 पारियों में 2,000 रन पूरे किये हैं।

You may have missed