देखिए कितना चौकन्ना है ‘चौकीदार’ ? : श्रीलंकाई PM ने भी माना, ‘हो जाते सावधान, तो बच जाती 359 की जान’ !

देश में एक तरफ लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर चर्चा है, वहीं दुनिया में चर्चा और घृणा का मुद्दा बना है श्रीलंका में हुआ आतंकवादी हमला। श्रीलंका में गत रविवार यानी ईस्टर के मौके पर हुए 8 श्रृंखलाबद्ध बम धमाकों में अब मरने वालों की संख्या 359 पर पहुँच गई है। इस सबके बीच दो चौंकाने वाली बातें सामने आई हैं। एक तो यह कि जो श्रीलंका पिछले कुछ समय से और पहले भी कई बार चीन और पाकिस्तान प्रेम दर्शाता रहा है, उसे भारत में राजनीतिक विरोधियों की ओर से ‘चौकीदार चोर है’ कह कर बदनाम करने वाले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार ने इन आतंकवादी हमलों को लेकर चेता दिया था। दूसरी चौंकाने वाली बात यह भी है कि जिस श्रीलंका ने एक बार तथाकथित सेकुलरिज़्म (धर्मनिरपेक्षता) का हवाला देकर भारत के विरोध के बावजूद पाकिस्तान में अपनी क्रिकेट टीम भेज दी थी, उसी पाकिस्तान से इस आतंकवादी हमले के भी तार जुड़े होने का खुलासा हुआ है।

उल्लेखनीय है कि श्रीलंका में हुए आतंकवादी हमलों की जिम्मेदारी दुनिया के सबसे ख़तरनाक आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक एण्ड सीरिया (ISIS) ने ली है और यह बात किसी से छिपी नहीं है कि मूलतः सीरिया-इराक में सक्रिय यह खूँखार आतंकवादी संगठन पाकिस्तान में भी सक्रिय है।

अब बात करते हैं चौकन्ने चौकीदार की, तो यह बात श्रीलंका के प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने स्वयं अपरोक्ष रूप से स्वीकार की। एक भारतीय मीडिया से बातचीत में रानिल विक्रम सिंघे ने कहा, ‘भारत ने ख़फिया जानकारी दी थी, लेकिन हम इस पर कैसे कार्रवाई करें, एसे लेकर लापरवाही हुई। ख़फिया जानकारी नीचे तक नहीं पहुँची। हमारा भारत के साथ ख़ुफिया जानकारी साझा करने का अच्छा सिस्टम है। यह हमारी मदद करता है, जिसकी हमें जरूरत है। हमें अमेरिका और ब्रिटेन से भी मदद मिली है। हमारी प्राथमिकता आतंकवादियों को पकड़ना है। जब तक ह ऐसा नहीं करते, कोई भी सुरक्षित नहीं है।’ रानिल विक्रमसिंघे के वक्तव्य से स्पष्ट है कि मोदी, उनकी सरकार और सरकार की ख़ुफिया एजेंसियां कितने चौकन्ने हैं।

Leave a Reply

You may have missed