Mobile internet speed के नाम हर पल धोखा

Written by
India ranked 76th Mobile internet speed

Ookla’s Speed test Global Index के अनुसार Mobile internet speed के मामले में भारत विश्व में 109वें पायदान पर है जबकि Broadband speed के मामले में हम 76वें पायदान पर हैं। भारत में Average mobile internet speed 8.8 Mbps है जबकि broadband speed 18.82 Mbps है। Ookla की रैंकिंग के अनुसार मोबाइल इंटरनेट स्पीड के मामले में नार्वे 62.66 Mbps download speed के साथ पहले पायदान पर है जबकि सिंगापुर 53.85 Mbps average download speed के साथ ब्राडबैंड कैटेगरी में नंबर वन पर है।

Mobile internet speed के नाम पर 46 करोड़ यूजर के साथ धोखा

Mobile internet speed की बात हम इसलिए कर रहे हैं क्योंकि इन आंकड़ों के जरिए हम आपको अगाह करना चाहते हैं कि भारत में करोड़ों यूजर इस स्कैम का शिकार हो रहे हैं। TRAI के मुताबिक 4G मोबाइल इंटरनेट की स्पीड कम से कम  10 Mbps  होनी चाहिए।  यह स्पीड अधिकतम 50 Mbps तक हो सकती है। 3G कनेक्शन की बात करें तो Mobile internet speed कम से कम 3.6 Mbps होनी चाहिए जबकि अधिकतम स्पीड 21 Mbps तक हो सकती है। TRAI की रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि आधे इंटरनेट यूजर को मुश्किल से 1 Mbps की स्पीड मिल पाती है। ऐसे में 4G और 3G के नाम पर देश के 46 करोड़ मोबाइल इंटरनेट यूजर को टेलीकॉम (Telecom) कंपनियां धोखा दे रही है। देश में इंटरनेट यूजर की कुल संख्या करीब 46 करोड़ है। इनमें से 4G users की संख्या करीब 15 करोड़ है। Mobile internet market के लिहाज से भारत विश्व में दूसरे नंबर पर है।

Mobile internet speed के मामले में पाकिस्तान हमसे आगे

Mobile internet speed के मामले में भारत पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान, श्रीलंका और नेपाल जैसे देशों से भी पीछे है। ऐसे में धीमी इंटरनेट स्पीड चिंता का विषय है। Economy के लिहाज से देखें तो इंटरनेट स्पीड काफी महत्वपूर्ण होती है। Facebook की स्टडी में दावा किया गया है कि अगर भारत में सभी लोगों तक इंटरनेट की पहुंच होती है तो Economy को करीब 67 लाख करोड़ का फायदा होता। सामाजिक और आर्थिक फायदे के मद्देनजर ही Digital India के लिए सरकार की तरफ से पूरी कोशिश की जा रही है। “भारतनेट” अभियान के तहत देश की हर पंचायत को इंटरनेट से जोड़ने की कोशिश की जा रही है लेकिन इस अभियान में भी हम काफी पीछे चल रहे हैं।

1995 में भारत में शुरू हुई इंटरनेट की सेवा

भारत में आमलोगों के लिए इंटरनेट सेवा की शुरुआत 1995 में हुई। उस वक्त भारत में इंटरनेट की स्पीड 9.6 Kbps थी। 21 सालों बाद भले ही एक तिहाई आबादी तक इंटरनेट की पहुंच हो गई हो और Mobile internet market के लिहाज से हम विश्व में दूसरे नंबर पर पहुंच गए हों, लेकिन Mobile internet speed के मामले में हम अभी भी काफी पीछे हैं। जिस रफ्तार से विश्व के दूसरे देश इस दिशा में आगे बढ़ रहे हैं उसी रफ्तार से हम आगे नहीं बढ़े तो विकास की रेस में हम काफी पीछे रह जाएंगे।

Article Categories:
News · Technology

Leave a Reply

Shares