अनंतनाग में सुरक्षाबलों के साथ आतंकी मुठभेर, दो आतंकी ढेरः जम्मू कश्मीर

Written by
Indian Security forces

श्रीनगरः जम्मू कश्मीर में स्थित अनंतनाग जिले में आज सुरक्षाबलों के साथ हुए मुठभेर में सुरक्षाबलों (Indian Security forces) ने हिज्बुल ग्रुप के दो आतंकी को मार गिराए।

इस बीच एक पुलिस अधिकारी ने जानकारी देते हुए बताया ’’आतंकियों की मौजूदगी का पता चलते ही National Rifles, CRPF व राज्य पुलिस की स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप के सुरक्षा जवानों ने शुक्रवार शाम शिष्टाराम गांव को घेर लिया। सुरक्षा घेरा सख्त होने के कारण आतंकियों ने फायरिंग कर दी जिसके बाद सेना के जवानों (Indian Security forces)  के साथ मुठभेड़ शुरू हो गयी।’’

मिली जानकारी के अनुसार बीती रात लगभग साढे नौ बजे सुरक्षाबलों ने डुरु अनंतनाग के शिसतरगाम गांव में आतंकियों के छिपे होने की सूचना पर तलाशी अभियान जारी किए। जिसके बाद जवानों ने गांव की घेराबंदी करते हुए संदिग्ध की मकानों की तलाशी शुरु की उसी समय एक मकान में छिपे आतंकियों ने जवानों पर फायर कर दिया। तुरंत जवानों ने भी अपनी पोजीशन ली और जवाबी फायर किया। इसके बाद वहां मुठभेड़ शुरु हो गई। यह मुठभेड रात साढ़े ग्यारह बजे तक जारी रही।

संबधित अधिकारियों के मुताबिक ’’आधी रात के बाद आतंकियों की तरफ से गोलीबारी पूरी तरह बंद हो गई थी। लेकिन आज सुबह जब सुरक्षाबलों ने आतंकी के ठिकाने की तरफ बडने का प्रयास किया तो आतंकियों की तरफ से दोबारा फायरिंग शुरू हो गई। जवानों (Indian Security forces) ने भी जवाबी फायर किया। यह गोलीबारी लगभग पांच से सात मिनट तक जारी रही।’’ जब दोनो तरफ से गोलीबारी पूरी तरह से बंद होने के बाद जब मुठभेड़ स्थल की तलाशी ली गई तो गोलियों से छलनी दो आतंकियों के शव मिले।

इससे पहले जम्मू एवं कश्मीर के अनंतनाग जिले में सोमवार (12 मार्च) को भी सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ में तीन आतंकवादी मारे गए थे। पुलिस ने अपनी बयान जारी करते हुए कहा कि ‘‘अनंतनाग जिले के हकूरा क्षेत्र में क्षेत्र में आतंकवादियों के होने की सूचना मिलने पर 12 मार्च तड़के सुरक्षाबलों ने तलाशी अभियान शुरू किया था।‘‘

पुलिस के अनुसार ‘‘तलाशी अभियान के दौरान छिपे हुए आतंकवादियों ने सुरक्षाबलों (Indian Security forces) पर गोलीबारी की, जिसका सुरक्षाबलों ने मुस्तैदी से जवाब दिया‘‘ मुठभेड़ में जिन तीन आतंकवादियों को मार गिराया गया था, उनकी पहचान श्रीनगर के ईजा फाजली, अनंतनाग जिले के सैयद ओवौसी और सब्जर अहमद सोफी के रूप में हुआ था। पुलिस ने मुठभेड़ स्थल से एके 47 राइफल, पिस्तौल, हथगोलों सहित हथियार और गोला बारूद बरामद किया था।

बहरहाल राज्य पुलिस महानिदेशक डा एसपी वैद ने डुरु मुठभेड़ में दो आतंकियों के मारे जाने की पुष्टि करते हुए बताया कि उनकी पहचान का पता लगाने का प्रयास किया जा रहा है। पुलिस का कहना है कि मारे गए दोनों आतंकियों की स्थानीय लोगों से पहचान कराने पर पता चला है कि एक आतंकी स्थानीय ही है। उसका नाम आसिफ है और वह वेरीनाग का रहने वाला था। वह हिजबुल मुजाहिदीन के जिला कमांडर अशरफ मौलवी का अंगरक्षक था।

इसी तरह दूसरा आतंकी पाकिस्तान का रहने वाला लश्कर ए ताईबा का आंतकी हैदर भाई हो सकता है। पुलिस अधिकारी ने बताया कि अशरफ व शकूर बच निकले हैं। डुरु व उसके आस पास के इलाकों में आतंकी समर्थकों और सुरक्षाबलों (Indian Security forces)  के बीच हिंसक झढ़पें भी शुरु हो गई हैं। इस बीच,पूरे अनंतनाग में सभी शिक्षण संस्थानों में अवकाश घोषित कर दिया गया है।

Article Categories:
News

Leave a Reply

Shares