Crypto में Investment करें या Stocks,Bonds,Gold जैसे विकल्प ही बेहतर होंगे?

Written by

भारत में जब Investment की बात आती है तो निवेशक ऐसे विकल्प चुनना चाहते हैं,जहां उन्हें एक निश्चित अवधि में Low Risk के साथ High Returns मिल जाए.Stocks,Bonds,Gold जैसे कई पारंपरिक विकल्प मौजूद हैं,लेकिन अब Cryptocurrency भारत में भी Investors को अपनी ओर खींच रही है.भविष्य में cryptocurrency की अहमियत को बढ़ता देखकर यहां इसकी store value के लिए निवेश बढ़ रहा है. Reserve Bank (RBI) ने 2018 में Digital currency Fraud के डर से सभी बैंकों पर cryptocurrency Transaction करने पर Ban लगा दिया था.हालांकि,2020 के मार्च महीने में Supreme court ने इस Ban को निरस्त कर दिया था. Supreme Court के इस रुख के बाद से भारत में cryptocurrency का बड़ा बाजार तैयार किया है.लेकिन हम एक बार नजर डालते हैं कि cryptocurrency पहले से मौजूद Traditional Options से कितनी अलग है.

cryptocurrencies vs stocks
cryptocurrency और stock Market में क्या फर्क है, इससे शुरू करते हैं. दोनों ही बाजार में अच्छे-बुरे दिन देखने को मिलते हैं. हालांकि, stock market का इतिहास लंबा है, इससे निवेशकों को आगे का रुख तय करने में मदद मिलती है, वो Trends and Predictions के लिए इन आंकड़ों की मदद लेते हैं, लेकिन cryptocurrency का बाजार अभी काफी नया है. यहां उतने आंकड़ों का सहारा नहीं होता. Stock Market में कई तरह के Risk होते हैं, Business, Financial, Market में Volatility यानी Instability, सरकार का नियंत्रण और नियमन वगैरह जैसी चीजें हैं, जो इस बाजार को प्रभावित करती हैं. लेकिन cryptocurrency का Ecosystem Decentralized है, यानी अधिकतर currency को कोई सरकार या कोई समूह या संस्था कंट्रोल नहीं करती है.

cryptocurrencies vs Bonds
Bonds भी निवेश का एक माध्यम होते हैं. ये एक तरह से किसी Company या Government की ओर से किसी Investor से लिए जाने वाले लोन की तरह होते हैं. यानी कि जब कोई Investor किसी Company से या सरकार से कोई Bonds खरीदता है तो वो Company या सरकार उसके कर्ज में आ जाती है. जब तक वो Company या सरकार उस निवेशक का लोन नहीं चुकाती है, तब तक उसे इसपर ब्याज मिलता रहता है. बॉन्ड के साथ Risk वाली बात यह है कि अगर Company दिवालिया हो जाती है तो एक तो उसे Interest मिलना बंद हो जाएगा, दूसरा उसका मूलधन भी डूब जाएगा.

Cryptocurrency vs Forex
Forex or Foreign Exchange, में निवेशक विदेशी currencies में निवेश करते हैं.Cryptocurrency दुनिया भर में कई जगहों पर पेमेंट के तौर पर स्वीकार की जाने वाली करेंसी है और फॉरेक्स में निवेशक भी Global Market से डील करते हैं. लेकिन जो बड़ा फैक्टर है वो अलग-अलग देशों की आर्थिक स्थिति. निवेशकों को किसी भी Foreign Currency से अच्छा रिटर्न मिलने की संभावना तभी होती है, जब उस देश की अर्थव्यवस्था अच्छा प्रदर्शन कर रही हो, इसी आधार पर यह देखा जा सकता है कि उन्हें कितना लाभ हो रहा है. ऐसे में क्रिप्टोकरेंसी के मुकाबले यह माध्यम थोड़ा रिस्की है.

Cryptocurrencies vs Gold and Silver
Gold -Silver खरीदना हमारे देश की पसंद के अलावा एक परंपरा भी रही है. आज के वक्त में लोग इन बहुमूल्य धातुओं में विशेषतौर पर आभूषण वगैरह खरीदने के लिए लिहाज से निवेश करते हैं. ऐसे में इनकी कीमत तय करने में Market Sentiment यानी बाजार की धारणा सबसे बड़ी भूमिका निभाता है. अगर Risk की बात करें तो इनमें जो निगेटिव पॉइंट है वो है- Portability, Import Tax और इनकी सुरक्षा सुनिश्चित करना. वहीं, Cryptocurrencies के साथ ऐसा कुछ नहीं है. ये Digital currency है, न इसे कहीं से लाना-ले जाना है, न ही आपको इसपर कोई इंपोर्ट टैक्स देना है. इसकी security भी Digitized है, ऐसे में इन कारणों से Crypto, Metals के मुकाबले ज्यादा आसान निवेश माध्यम है.

Cryptocurrency vs Fixed Deposit
Fixed deposit तब सही होते हैं, जब आपको कोई long term investment करना हो. इसमें आपको Return के लिए Maturity तक इंतजार करना पड़ता है. अगर आप रिटर्न के लिए लंबा इंतजार नहीं करना चाहते या एफडी का विकल्प छोड़ रहे हैं तो आप Cryptocurrency में Investment कर सकते हैं. यहां बाजार में तेजी-से उतार-चढ़ाव आता है और आप तेजी से फैसले ले सकते हैं. यहां बाजार के गिरने पर आप अपना पैसा निकाल सकते हैं. लेकिन एक बात जो जाननी चाहिए वो ये कि एफडी को माइन करने या जेनरेट करने के लिए किसी को अलग से कुछ नहीं करना पड़ता. बस एफडी बनवाई और मैच्योरिटी तक भूल गए. लेकिन Cryptocurrency को सर्कुलेशन में लाने के लिए माइनिंग की जाती है. निवेशकों को इनपर अपना वक्त देना होता है क्योंकि बाजार में काफी अनिश्चितता होती है.

क्रिप्टोकरेंसी का बाजार नया है और इसके अपने अलग फायदे और नुकसान हैं, ऐसे में आपको समझदारी से अपना चुनाव करना चाहिए.

Article Tags:
· · ·
Article Categories:
Business · News

Comments are closed.

Shares