गिरफ्तारी पर लगी आखरी रोक के विरुद्ध ईडी पहुंची सुप्रीम कोर्टः कार्ति चिदंबरम

Written by
INX media

नई दिल्लीः कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी. चिदंबरम के बेटे कार्तिक चिदंबरम पर INX Media घोटाला मामले को लेकर दिल्ली हाईकोर्ट की ओर से मिली गिरफतारी के आखिरी राहत के विरुद्ध Enforcement Directorate ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देते हुए कहा कि 20 मार्च तक गिरफतारी पर रोक लगाने के फैसले को खारीज किया जाए। इस बीच कार्तिक चिदंबरम ने भी सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की Caveat याचिका पेश की है। अपनी याचिका में कार्ति चिदंबरम ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट बिना उनके पक्ष को सुने कोई आदेश न दे। हांलांकि दिल्ली हाईकोर्ट ने ED को 20 मार्च तक कार्ति को गिरफ्तार ना करने का आदेश दिया था। फिलहाल सुप्रीम कोर्ट इस मामले की अगली सुनवाई 15 मार्च को करेगी।

हांलाकि कि कल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी. चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम को INX Media भ्रष्टाचार मामले में दिल्ली की एक निचली अदालत नें 24 मार्च तक के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। राष्ट्रीय राजधानी की अदालत ने कार्ति चिदंबरम की उस याचिका को भी खारिज कर दिया, जिसमें उन्होंने तिहाड़ कारागार में अलग बंदीगृह की मांग की थी. अदालत ने कहा कि आरोपी और उनके पिता के सामाजिक दर्जे की वजह से उन्हें अन्य आरोपियों से अलग नहीं समझा जा सकता। फिलहाल कार्ति चिदंमबरम अभी CBI की हिरासत में हैं।

गोरतलब यह है कि इससे पहले CBI ने 28 फरवरी को कार्ति चिदंबरम को विदेशी निवेश प्रोत्साहन बोर्ड की मंजूरी दिलाने के लिए पैसा लेने के आरोपों में जांच के लिए गिरफ्तार किया था। हांलांकि उस समय उसके पिता पी. चिदंबरम केंद्र में वित्तमंत्री थे।

बहरहाल INX Media घोटाला मामले की अलग से परिक्षण कर रही CBI ने यह आरोप लगाया है कि कार्ति चिदंबरम ने अपने पिता पी. चिदंबरम के वित्त मंत्री रहते हुए पीटर व इंद्राणी मुखर्जी के स्वामित्व वाली INX Media को 305 करोड़ रुपये की विदेशी निवेश की मंजूरी दिलवाई है।

Article Categories:
News

Leave a Reply

Shares