PM मोदी ने रचा ‘ATTACKER 8’ का चक्रव्यूह, जो जल-थल-नभ में करेगा देश की कड़ी सुरक्षा

Written by

* TEAM MODI में संयोग से बैच-1984 के IPS अधिकारियों का बोलबाला

* सुरक्षा से जुड़े 8 महत्वपूर्ण पदों के IPS अधिकारी बने ‘लकी क्लास फॉर 84’

रिपोर्ट : कन्हैया कोष्टी

अहमदाबाद, 28 जून, 2019 (युवाप्रेस.कॉम)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दूसरे कार्यकाल में एक तरफ मजबूत मंत्रिमंडलीय टीम का गठन किया है, वहीं प्रशासन में भी वे चुन-चुन कर अधिकारियों की नियुक्ति कर रहे हैं, जिससे सेवा से लेकर सुरक्षा तक हर मोर्चे पर सरकार का काम कारगर सिद्ध हो सके। इसी कड़ी में देश की सुरक्षा से जुड़े 8 महत्वपूर्ण पदों पर संयोग से 8 ऐसे आईपीएस अधिकारियों की टीम बन गई है, जो जल-थल-नभ में देश की सुरक्षा कड़ी निगरानी रखेगी।

युवाप्रेस.कॉम ने मोदी के नेतृत्व वाली 8 अधिकारियों वाली इस टीम को अटैकर 8 नाम दिया है, जो देश पर आने वाले हर संकट के समय शत्रुओं पर आक्रमण करने के लिए सदैव तैयार और तत्पर रहेगी। अटैकर 8 टीम की एक और विशेषता यह है कि इस टीम में संयोग से 1984 का बोलबाला है अर्थात् सभी 8 अधिकारी 1984 के कैडर के अधिकारी हैं। इन अधिकारियों को लकी क्लास फॉर 84 भी कहा जा रहा है।

सबसे पहले ताज़ा नियुक्तियों की ही बात करें, तो मोदी सरकार ने बुधवार को सामंत गोयल को रिसर्च एण्ड एनालिसिस विंग (RAW) के चीफ के रूप में नियुक्त किया। सामंत गोयल भी 1984 की बैच के अधिकारी हैं। उनके ही बैचमेट अरविंद कुमार को इंटेलिजेंस ब्यूरो (IB) का निदेशक नियुक्त किया गया है। अब आप यह तो जानते ही हैं कि देश की सुरक्षा के माले में रॉ और आईबी कितनी महत्वपूर् भूमिकाएँ निभाते हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रॉ और आईबी में इन महत्वपूर्ण व कुशल अधिकारियों को नियुक्त कर देश की सुरक्षा के प्रति अपनी सरकार की गंभीरता को उजागर किया है।

यह तो बात हुई रॉ और आईबी की, जहाँ 1984 की बैच के अधिकारियों की हाल ही में नियुक्ति की गई है, परंतु मोदी सरकार ने देश की सुरक्षा से जुड़े और भी 6 पदों पर जो मजबूत अधिकारी लगाए हैं, वे भी संयोग से 1984 बैच के ही हैं। जल-थल-नभ हर क्षेत्र की सुरक्षा एजेंसियों में 1984 का बोलबाला है। राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA), सीमा सुरक्षा बल (BSF), केन्द्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (CISF), भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP), राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (NSG) तथा भारतीय विमानन सुरक्षा ब्यूरो (BCAS) में जो अधिकारी लगाए गए हैं, वे सभी 1984 बैच के हैं। स्वाभाविक है कि इन महत्वपूर्ण सुरक्षा एजेंसियों में तैनात किए गए इन अधिकारियों के पास 34 वर्षों का विशाल अनुभव है।

मोदी ने मोदी से ही किया आरंभ

वाय. सी. मोदी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के लकी क्लास ऑफ 84 का सृजन अनायास ही 2017 में स्वयं मोदी के हाथों मोदी के साथ ही हुआ। पीएम मोदी ने सितम्बर-2017 में 1984 बपैच के असम-मेघालय कैडर के अधिकारी वाय. सी. मोदी को एनआईए का महानिदेशक नियुक्त किया था। पीएम मोदी ने वाय. सी. मोदी के बाद सभी महत्वपूर्ण एजेंसियों में एक-एक कर जो अधिकारी लगाए, वे संयोग से 1984 बैच के अधिकारी ही हैं।

सुदीप लखटकिया

वाय. सी. मोदी के बाद मोदी सरकार ने जनवरी-2018 में तेलंगाना कैडर के सुदीप लखटकिया को एनएसजी महानिदेशक बनाया।

राजेश रंजन

इसके तीन महीने बाद ही अप्रैल-2018 में बिहार कैडर के राजेश रंजन को सीआईएसएफ महानिदेशक नियुक्त किया।

रजनीकांत मिश्रा
एस. एस. देसवाल

इसके बाद भी यह सिलसिला जारी रहा और पाँच महीने बाद ही 1984 बैच के एक और यूपी कैडर के अधिकारी रजनीकांत मिश्रा को बीएसएफ प्रमुख नियुक्त किया गया, तो उनके बाद आईटीबीपी चीफ बनाए गए हरियाणा कैडर के एस. एस. देसवाल और बीसीएएस महानिदेशक बनाए गए गुजरात कैडर के राकेश अस्थान भी संयोग से 1984 बैच के ही अधिकारी हैं।

Article Categories:
News

Leave a Reply

Shares